देश में स्वच्छता सर्वेक्षण का सेमी फाइनल अगले माह, राजस्थान ने अव्‍वल आने के लिए कसी कमर

दिसम्बर में नगरीय निकायों में होगा स्व आकलन, सरकार मानना कि बेहतर परिणाम के लिए प्री-सर्वे हो

By: madhulika singh

Published: 28 Nov 2017, 02:55 PM IST

उदयपुर . देश के 500 शहरों में जनवरी से होने वाले स्वच्छता सर्वेक्षण-2018 को लेकर राजस्थान ने अपने शहरों का अव्वल नंबर दिलाने की कार्ययोजना तैयार कर ली है। इस पर कितना अमल होता है यह तो आने वाला समय ही बताएगा मगर इससे पूर्व नगर निगम क्षेत्र में दिसम्बर में ही प्री-सर्वेक्षण होगा। इसके तहत शहर के वार्डों का रिपोर्ट कार्ड तैयार होगा।

 

राज्य सरकार ने निकायों से कहा कि वे सर्वे के बेहतर परिणाम के लिए जागरूकता अभियान चलाएं और निगम अपने कामकाज का स्वयं नियमित आकलन करें ताकि जनवरी में होने वाले सर्वेक्षण की पूर्व तैयारी हो जाए। सरकार ने कहा कि नगरीय निकाय दिसम्बर में अपने स्तर पर प्री-सर्वे कर लें ताकि पता चल सके कि उनका स्तर कहा है। वैसे केन्द्र सरकार प्रतिदिन शहरों की रैंकिंग का स्तर सामने रख रही है जिससे हर शहर को यह तो पता चल सकता है कि उसकी रैंकिंग में स्थिति क्या है।

शहर रैंक
प्रतापगढ़- 23

डूंगरपुर- 29
जयपुर -33

सलूंबर -60
अजमेर- 133

उदयपुर 148
पाली 184

कोटा 188
निम्बाहेड़ा 194

(ये आंकड़े 26 नवंबर के)
--

उदयपुर की रैंक का गिरता-चढ़ता ग्राफ
तारीख रैंक

14 नवंबर 156
16 नवंबर 153

18 नवंबर 148
20 नवंबर 142

22 नवंबर 145
24 नवंबर 145

26 नवंबर 148
--

एप पर उदयपुर एक नजर में
पंजीकृत सिटीजन 1878

सक्रिय सिटीज 254
निष्क्रिय सिटीजन 1623

 

READ MORE: उदयपुर में मिले युवक के शव से फैली सनसनी, यहां का रहने वाला था युवक


सर्वे की खास बातें

- 4 जनवरी 2018 से स्वच्छ सर्वेक्षण-2018 शुरू होगा।
- 500 शहर देश के सर्वे में शामिल होंगे।

- प्रदेश 29 शहर इसमें शामिल होंगे।
- राज्य व जोन स्तरीय सर्वे में 162 निकायें शामिल होगी।

- उदयपुर पहले सर्वे में 310वें स्थान पर रहा था।
- उदयपुर नगर निगम ओडीएफ घोषित हो चुका है।

---
एप डाउनलोड का फार्मूला

शहरों में जनवरी 2017 से दिसम्बर 2017 तक एप का कुल डाउनलोड कुल घरों का दस प्रतिशत कम से कम होना चाहिए। उदाहरण के लिए यदि शहर की जनसंख्या 5 लाख है तो पांच व्यक्तियों का परिवार मानते हुए एक लाख एक लाख घरों का दस प्रतिशत यथा 10,000 घरों को कम से कम स्वच्छता एप डाउनलोड करनी होगी। एप का भी सर्वे में अच्छे नंबर है।
---

इनका कहना है...
हमने सभी निकायों से कहा है कि वे दिसम्बर तक स्वयं अपने कामकाज का आंकलन करें, प्री सर्वे करेंगे तो उनके कामकाज का आकलन भी सामने आ जाएगा और जनवरी में होने वाले सर्वे को लेकर उनकी तैयारी भी हो जाएगी। हम जनता को इस अभियान में अधिक से अधिक जोडऩे जा रहे है, जनता को एप भी डाउनलोड करना और स्वच्छता को लेकर उनका सहयोग हमे मिले ऐसा प्रयास सभी निकाय कर रही है।

- डॉ. आरुषि अजेय मलिक, निदेशक स्वच्छता स्वायत्त शासन विभाग

madhulika singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned