बच्चों का भविष्य भगवान भरोसे, उदयपुर में जहां शिक्षकों का टोटा, वहीं से उन्हें हटाने की तैयारी

बच्चों का भविष्य भगवान भरोसे, उदयपुर में जहां शिक्षकों का टोटा, वहीं से उन्हें हटाने की तैयारी

Jyoti Jain | Publish: Feb, 15 2018 03:10:52 PM (IST) Udaipur, Rajasthan, India

उदयपुर. पंचायत राज से शिक्षा विभाग में सेटअप परिवर्तन के लिए गुरुवार को काउंसलिंग होगी.

भुवनेश पण्ड्या /उदयपुर. पंचायत राज से शिक्षा विभाग में सेटअप परिवर्तन के लिए गुरुवार को काउंसलिंग होगी जिसमें अंग्रेजी के नॉन टीएसपी और 242 टीएचपी और विज्ञान-गणित के 64 नॉन टीएसपी और 181 टीएसपी क्षेत्र के शिक्षकों का सेटअप परिवर्तन होना है।
प्रथम चरण में जिले में 351 शिक्षकों के सेटअप परिवर्तन के लिए काउंसलिंग गुरुवार को रखी गई है। प्रारंभिक शिक्षा में पहले से ही शिक्षक कम हैं, ऐसे में वहां से और शिक्षकों को शिक्षा विभाग में लेने से शिक्षा की नींव कमजोर होगी। पहली से आठवीं के बच्चों को पढ़ाने वाले विज्ञान, गणित व अंग्रेजी के शिक्षक कम होंगे तो उच्च कक्षाओं में जाने वाले बच्चों की कमजोरी रह जाएगी।

 

कैसे संभलेंगे हालात
पहले से ही शिक्षक कम है, यदि शिक्षक शिक्षा विभाग में चले गए, तो पंचायतराज के स्कूलों में बच्चों को कौन पढ़ाएगा। हम इस सेटअप परिवर्तन का विरोध करते हैं, इसे तुरन्त रोकना चाहिए।
शेरसिंह चौहान, शिक्षक नेता

 

वर्ष 1998 के बाद तृतीय श्रेणी के शिक्षकों की भर्ती सीधी पंचायतराज में ही हो रही है। वहां से हमें इसलिए लेने पड़ रहे हैं। फिलहाल 351 शिक्षकों का सेटअप परिवर्तन करवा रहे हैं, जिन शिक्षकों के पांच वर्ष से अधिक समय हो गया, उन्हें इसमें ले रहे हैं।
नरेश डांगी, जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक

 


यह है विषयवार स्थिति गणित विज्ञान अंग्रेजी
ब्लॉक स्वीकृत/ कार्य स्वीकृत/ कार्य
बडग़ांव 46/16 42/5
भींडर 117/48 84/21
गिर्वा 29/07 22/4
गोगुन्दा 30/17 26/4
कुराबड़ 19/04 16/4
मावली 98/40 73/11
सायरा 32/12 19/4

 

 

READ ALSO: तीन घंटे बाद भी नहीं आई एम्बुलेंस, घर पर ही हुआ प्रसव
फलासिया. जननी शिशु सुरक्षा योजना के नाम पर बड़े-बड़े दावे किए जाते हैं, लेकिन जमीनी हकीकत मंगलवार को सामने आ गई। अदकलिया की एक प्रसूता को प्रसव पीड़ा होने पर परिजनों ने 108 एम्बुलेंस के लिए फोन किया, लेकिन शाम तक भी एम्बुलेंस नहीं पहुंची। आखिर चार घंटे बाद घर पर ही प्रसव करवाना पड़ा। लगभग एक माह पूर्व भी ऐसी ही घटना के दौरान प्रसूता को भारी परेशानी हुई थी। मामला फलासिया पंचायत समिति की नेवज पंचायत का है।

 

अदकलिया निवासी रामली देवी पत्नी भंवरलाल गमार को सोमवार दोपहर एक बजे प्रसव पीड़ा उठी। परिजनों ने 108 और 104 नम्बर पर फोनकर तत्काल एम्बुलेंस भेजने की मांग की। जल्द एम्बुलेंस भेजने का आश्वासन जयपुर स्थित कॉल सेंटर से मिला। इसके बाद परिजन इंतजार करने लगे। लगभग तीन घंटे बाद भी एम्बुलेंस नहीं पहुंची, लेकिन प्रसूता रामली की स्थिति खराब हो गई। आखिर स्थानीय महिलाओं ने घर पर ही प्रसव करवाया। जिससे रामली देवी ने बेटी को जन्म दिया। नेवज वार्ड पंच मंगलसिंह ने घटना को लेकर आक्रोश जताते हुए घटना को शर्मनाक बताया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned