उदयपुर से राजधानी तक गई शिकायत लेकिन नगर निगम में भाजपा बोर्ड चुप...परनामी के बयान के अनुरूप उदयपुर नगर निगम में भी हो रहा काम

उदयपुर से राजधानी तक गई शिकायत लेकिन नगर निगम में भाजपा बोर्ड चुप...परनामी के बयान के अनुरूप उदयपुर नगर निगम में भी हो रहा काम

Mukesh Hingar | Publish: Nov, 25 2017 06:20:47 PM (IST) Udaipur, Rajasthan, India

सीपीएस पुलिया के किनारे इमारत का मामला...कार्रवाई का भाजपा कार्यकर्ताओं ने किया था विरोध

उदयपुर . प्रदेश भाजपा अध्यक्ष अशोक परनामी के बयान हाईकोर्ट की रोक, हम आंखें बंद कर लेंगे, आप काम करो... के अनुरूप उदयपुर नगर निगम क्षेत्र में भी काम हो रहा है।

सीपीएस पुलिया के किनारे इमारत में अवैध निर्माण की शिकायत उदयपुर से राजधानी जयपुर तक गई लेकिन नगर निगम में भाजपा बोर्ड चुप है। इसी बोर्ड ने काफी पहले इस इमारत में कार्रवाई की तो भाजपा के कुछ पार्षद और नेता अवैध इमारत के पक्ष में आ गए थे। यह अलग बात है कि तब कार्रवाई हुई परन्तु बाद में किसी ने इस ओर झांक कर नहीं देखा और बिल्डिंग में काम चलता रहा। इस अवैध निर्माण को लेकर अस्सी साल के बुजुर्ग भोलाराम अग्रवाल नियमित रूप से महापौर, आयुक्त व जिला प्रशासन के अधिकारियों को आंखें खोल कार्रवाई करने को कहते रहे, लिखते रहे और मोबाइल पर भी संदेश भेजते रहे हैं लेकिन कोई सुन नहीं रहा है। निगम ने दिसम्बर-2014 में नियम विपरीत निर्माण को गिराया था। इस इमारत में शहर के एक भाजयुमो नेता की भी साझेदारी बताई गई।

 

READ MORE: मैं निगरानी रखूं तो बुरा नहीं लगना चाहिए, मुखिया के नाते यह तो मेरा काम है, बोले उदयपुर महापौर

 

बेसमेंट बना लिया, सेटबैक नहीं छोड़ा
अग्रवाल ने महापौर व आयुक्त को लिखे पत्र में कहा कि कुछ दिन आपकी ओर से इस इमारत को लेकर सख्ती की गई और कार्रवाई भी की लेकिन इसके बाद वापस वहां पर निर्माण जारी है। बेसमेंट बना लिया गया है। रिहायशी अनुमति पर व्यावसायिक भवन बन गया और सेटबैक तक नहीं छोड़ा गया है। अवैध भवन नदी के बहाव क्षेत्र में है। कभी भी हादसा होने की आशंका है।


यह मिली थी स्वीकृति : बताते हैं कि नगर निगम की भवन अनुमति समिति ने 2 जून 2014 को बैठक के दौरान शंकरलाल प्रजापत को प्लाट नंबर 1-जी व 1-एच पर सामने 10-10 तथा पीछे 5 वर्गफीट सेटबैक छोडऩे के साथ निर्माण की मंजूरी दी थी। बगैर बेसमेंट के भूतल सहित दो मंजिला आवासीय निर्माण होना था। शर्त के तहत प्लन्थ लेवल न्यूनतम एक मीटर रखना भी अनिवार्य किया गया था।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned