तीन बहनों का दुलारा था इकलौता भाई...शिप्रा में डूबा, सबके लिए छोड़ गया ये प्रश्न...

Lalit Saxena

Publish: Jun, 14 2018 09:30:32 PM (IST)

Ujjain, Madhya Pradesh, India
तीन बहनों का दुलारा था इकलौता भाई...शिप्रा में डूबा, सबके लिए छोड़ गया ये प्रश्न...

रामघाट पर नहाते समय पंडित की शिप्रा में डूबने से मौत

उज्जैन। रामघाट स्थित सिद्ध आश्रम के पास गुरुवार सुबह 10 बजे शिप्रा नदी में डूबने से पंडित की डूबने से मौत हो गई। पंडित सुबह रामघाट पर बाहर से आए यजमानों की पूजा करवाने पहुंचा था। पूजा के पूर्व वह शिप्रा में डुबकी लगाने गया, तो गहरे पानी में चला गया और डूबने से उसकी मौत हो गई। परिवार वालों का कहना है कि वह तैरना जानता था, फिर उसकी मौत कैसे हो सकती है। लोगों ने उसके शव को नदी में देख तैराक दल को सूचना दी, जिन्होंने शव को बाहर निकाला। गुरुवार दोपहर शव का पीएम कर परिजनों को सौंपा गया है।

तीन बहनों का प्यारा था भाई
बापू नगर में रहने वाला सोनू (22) पिता गोविंद बैरागी रामघाट पर पूजन पाठ करवाता था। तीन बहनों के बीच इकलौता भाई और सभी का प्यारा था। सुबह मां और बहनों से वह कहकर निकला था कि यजमानों की पूजन पाठ करवाकर दोपहर तक घर लौटेगा। परंतु मां और बहन के पास 10.30 बजे खबर पहुंची कि वह नदी में डूब गया है।

परिवार का पालन-पोषण वही करता था
मृतक सोनू के मामा ने बताया कि परिवार का पालन पोषण करने वाला वह अकेला था। उसके पिता ड्राइवर है। जैसे ही सोनू के नदी में डूबने की खबर परिवार वालों को लगी परिजन विलाप करते हुए अस्पताल के पीएम रूम पहुंच गए। सोनू के मामा ने बताया कि उसे तैरना भी आता था, जिसके पास आसपास के कईं गावों के यजमानों की भीड़ रहती थी। वह रामघाट क्षेत्र में चर्चित और सभी से मिलने जुलने वाला लड़का था।

सबके मन में यही प्रश्न
परिवारवालों को जब पता चला कि सोनू की डूबने से मौत हुई है, तो सभी आश्चर्यचकित रह गए, क्योंकि वह तैरना जानता था, फिर उसकी मौत कैसे हो सकती थी। यह बात किसी को समझ नहीं आ रही। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned