पौधों की सुरक्षा के लिए लगी लाखों की जालियां खा रही जंग

पौधों की सुरक्षा के लिए लगी लाखों की जालियां खा रही जंग
security,millions,nagar palika,nagda,Rust,the plants,

Mukesh Malavat | Updated: 22 Jul 2019, 08:02:02 AM (IST) Ujjain, Ujjain, Madhya Pradesh, India

छह माह से अधिक समय गुजर जाने के बाद भी नहीं हो सका पौधरोपण

नागदा. चंबल सागर कॉलोनी से खाचरौद नाके तक बनी उत्कृष्ट सडक़ इन दिनों बीमार हो रही है। बीमारी का कारण सडक़ के बीचों बीच पौधरोपण के लिए लगाई गई सुरक्षा जालियों पर जंग लगना है। पौधारोपण नगर पालिका के अधीन किया जाना है, लेकिन देखरेख के अभाव में मार्ग पर लगाई गई लाखों रुपए की जालियां जंग खा रही है। नियमानुसार जालियों को लगाने के बाद उनका रंग रोगन किया जाना होता है, लेकिन उक्त मार्ग पर इस प्रकार का कोई कार्य नहीं किया गया है। मार्ग इन दिनों अधिकारियों की उदासीनता का शिकार हो रही है। मार्ग के बीचों-बीच लगाई जाने वाली स्ट्रीट लाइटों का कार्य भी अधूरा पड़ा है। लाइटों के लिए रहवासियों द्वारा कई बार शिकायत की गई, लेकिन किसी प्रकार का कोई निराकरण नहीं हो सका।
जालियां लंबे समय तक नहीं दे पाएगी सुरक्षा-लाखों रुपए की मद से उत्कृष्ट सडक़ का निर्माण किया गया। निर्माण रहवासियों के लिए सुगम यातायात और उज्जैन जावरा बायपास मार्ग तक आसानी से पहुंचने के लिए किया, जिससे रहवासियों को बायपास मार्ग का अतिरिक्त फेरा नहीं लगाना पड़े। परेशानी यह है कि, निर्माण के बाद से ही सडक़ बदहाली की मार झेल रही है। जैसे तैसे मार्ग का कार्य तो पूरा कर दिया गया, लेकिन बिजली व पौधारोपण कार्य अधूरा छोडकऱ मार्ग की खूबसूरती छीन ली गई। मार्ग पर पौधरोपण के लिए लगाई गई सुरक्षा जालियां जंग की चपेट में आ गई है। बारिश अभी दो माह और है, ऐसे में यदि लोहे की जालियों को जल्द सुरक्षित नहीं किया गया तो वह लंबे समय तक सुरक्षा नहीं दे सकेगी।
2 किमी मार्ग तक अंधेरा
मार्ग के बीचों बीच लगाए जाने वाली स्ट्रीट लाइट का कार्य भी अधूरा छोड़ दिया गया है। जिम्मेदारों से सवाल पूछे जाने पर हर बार जल्द कार्य शुरु करवाए जाने की बात कहकर कन्नी काट ली जाती है, जिसका खामियाजा मार्ग से गुजरने वाले राहगीरों को दुर्घटना का शिकार होकर भुगतना पड़ता है। करीब 2 किमी लंबे मार्ग पर रात्रि के दौरान अंधेरा छाया रहता है। वैकल्पिक व्यवस्था के रुप में पुरानी स्ट्रीट लाइटों को सुचारु रखा गया है। वहीं सडक़ के बीचों बीच मौजूद स्ट्रीट लाइटों का कार्य अधूरा पड़ा हुआ है।
नहीं हो सका पौधरोपण-बीते दिनों शहर की दो उत्कृष्ट सडक़ों पर नगर पालिका की अगुवाई में एक हजार पौधे रोपे गए थे। पौधे रोपण कार्यक्रम का शुभारंभ केंद्रीय मंत्री थावरचंद गेहलोत ने स्वयं किया था। कार्यक्रम में सैकड़ों की संख्या में स्कूली बच्चे एकत्र हुए थे, लेकिन खाचरौद नाके की सडक़ पौधरोपण के लिए बाट जोह रही है। किसी भी स्थान पर पौधरोपण के लिए नगर पालिका अफसर बारिश का इंतजार करते है, लेकिन खाचरौद नाके की सडक़ पर पौधरोपण कार्य लंबित है।

पौधरोपण कार्य के लिए आगामी दिनों में अफसरों से चर्चा कर निर्णय लिया जाएगा। पौधों की सुरक्षा के लिए जाली निर्माण का कार्य ठेके के अंतर्गत दिया गया है। ठेकेदार रंगरोगन कर कार्यपूरा करेगा। कार्य में देरी क्यों हो रही है इस बारे में संबंधित अफसर से चर्चा के बाद ही कुछ कहा जा सकेगा। सतीश मटसेनिया, सीएमओ, नगर पालिका

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned