महाकाल के खास भक्तों पर कृपा का मिला ये फल, अधिकारी की हो गई छुट्टी

Ujjain News: लॉकडाउन का उल्लघंन कर महाकाल दर्शन कराने वाले सहा. प्रशासक को मंदिर की सभी जिम्मेदारियों से हटाया और मूल पद पर भेजा

By: Lalit Saxena

Updated: 21 May 2020, 09:57 PM IST

उज्जैन. महाकाल के ऐसे भक्त, जिन्होंने इंदौर से आकर सहायक प्रशासक की घंटी बजा दी। लॉकडाउन का उल्लंघन कर महाकाल दर्शन कराने वाले सहायक प्रशासक चंद्रशेखर जोशी को दोषी मानते हुए मंदिर की सभी जिम्मेदारियों से हटा दिया है। कलेक्टर आशीष सिंह ने गुरुवार को प्रशासनिक कार्य सुविधा की दृष्टि से मंदिर में जोशी को तत्काल प्रभाव से हटाकर उनके मूल पद राजस्व निरीक्षक कार्यालय अधीक्षक भू-अभिलेख में पदस्थ कर दिया है। बताया जा रहा है कि इंदौर के वीवीआईपी को दर्शन कराने के लिए जोशी के पास इंदौर के किसी अधिकारी का फोन आया था।

मामले में बड़ी कार्रवाई की

कलेक्टर आशीष सिंह ने महाकाल मंदिर में लॉक डाउन तोड़कर दर्शन करने के मामले में बड़ी कार्रवाई की है। कलेक्टर ने जोशी को पद से हटा दिया है। जोशी राजस्व निरीक्षक के पद पर कार्यरत हैं। उन्होंने इंदौर के पांच वीआईपी को लॉकडाउन के दौरान मंगलवार शाम 6.30 बजे महाकाल दर्शन करवा दिए थे। पूरे मामले को लेकर कलेक्टर के पास जानकारी पहुंची, तो वे भी दंग रह गए। जिन लोगों ने मंदिर में लॉकडाउन, धारा 144 का उल्लंघन करते हुए दर्शन किए हैं, उनके खिलाफ महाकाल थाने में मुकदमा दर्ज करने के भी निर्देश दिए हैं।

 

Mahakal darshan by defying lockdown
IMAGE CREDIT: patrika

धर्मशाला के पीछे वाले दरवाजे से आए थे
प्राप्त जानकारी अनुसार इंदौर से आए पांच वीआईपी महाकाल धर्मशाला के पीछे वाले रास्ते, जहां से एंबुलेंस निकलती है, उससे अंदर आए थे। यहां से वे सीधे प्रवचन हॉल होते हुए कोटितीर्थ कुंड के समीप से जलद्वार तक पहुंचे और सीढ़ीयों से होकर नंदी हॉल तक चले गए थे। इस बीच गार्ड ने भी उन्हें नहीं रोका, साथ ही एंबुलेंस वाले गेट पर हर समय गार्ड तैनात रहता है, उसने इन्हें कैसे अंदर जाने दिया।

व्यवस्था पर उठ रहे सवाल
- महाकाल मंदिर में दो माह से लॉकडाउन का सभी लोग पालन कर रहे हैं, तो फिर इंदौर से आए पांच लोगों को अंदर जाने की अनुमति क्यों दी गई।
- शिखर दर्शन के लिए क्या धर्मशाला से अंदर प्रवेश करना पड़ता है।
- फेसबुक पर पोस्ट नहीं डलती, तो मामला उजागर नहीं होता, यानी इससे पहले और भी कई लोग दर्शन करके निकल गए होंगे।

मंदिर परिसर में लगे सीसीटीवी फुटेज से मामले की जांच की गई। बताया जा रहा है कि मंदिर के सहायक प्रशासनिक अधिकारी के कहने पर सुरक्षा गार्ड ने पांच लोगों को नंदी हॉल में ले जाकर दर्शन कराए। सीसीटीवी फुटेज से इन दर्शनार्थियों की पहचान करने की भी कोशिश की जा रही है।
- एसएस रावत, प्रशासक महाकालेश्वर मंदिर

इधर, महाकाल कर्मचारी कल्याण संघ का मामला भी उठा
मंदिर कर्मचारियों द्वारा महाकाल एक्ट के विरुद्ध महाकाल कर्मचारी कल्याण संघ का गठन कर लिया गया है, जिसके माध्यम से पिछले दिनों जरुरतमंदों की मदद के लिए अन्नक्षेत्र में खाद्य सामग्री दान की गई थी। कर्मचारियों की अलग से समिति बनने के बाद पुजारी और पुरोहित समिति को लेकर भी सवाल खड़े हो गए थे। अब इसके बाद जो बातें भोपाल तक पहुंची हैं, उनमें सामने आया है कि जो कर्मचारी लाखों रुपए का दान कर रहे हैं, वे फिर मंदिर समिति से वेतन क्यों व किस आधार पर ले रहे हैं। अन्य कर्मचारियों से चंदा वसूल कर कल्याण संघ का गठन करने वाले कर्मचारियों पर कार्रवाई का अंदेशा जताया जा रहा है।

Lalit Saxena Photographer
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned