scriptMahakal splendor will be like Kashi Vishwanath, eight times bigger tem | काशी विश्वनाथ जैसा होगा महाकाल का वैभव, आठ गुना बड़ा मंदिर, 900 मीटर लंबा कॉरिडोर | Patrika News

काशी विश्वनाथ जैसा होगा महाकाल का वैभव, आठ गुना बड़ा मंदिर, 900 मीटर लंबा कॉरिडोर

मंदिर क्षेत्र में 500 करोड़ से चल रहे विकास कार्य, फरवरी 22 तक विकास कार्यों का एक हिस्सा पूरा होगा

उज्जैन

Published: December 22, 2021 07:50:59 pm

उज्जैन. उप्र में काशी विश्वनाथ मंदिर का जिस तरह विकास हुआ है उससे बढ़कर महाकाल मंदिर को संवारा जा रहा है। आने वाले दिनों में मंदिर का परिक्षेत्र बढ़कर आठ गुना हो जाएगा। काशी में 300 मीटर लंबा कॉरिडोर बनाया है तो उससे कहीं बडा 900 मीटर लंबा कॉरिडोर यहां बन रहा है। मंदिर के सामने चौडीकरण से ज्यादा जगह, रूद्रसागर सौंदर्यीकरण तथा महाकाल कॉरिडोर में भव्य मूर्तियां और म्यूरल्स आकर्षक का केंद्र बनेंगे।

patrika_mp_4.png

विकास कार्यों के साथ ही श्रद्धालुओं के लिए कई सुविधाएं भी जुटाई जा रही हैं। न केबल महाकाल मंदिर बल्की रामघाट और क्षिप्रा नदी को भी संवारने की योजना है। खास बात यह कि 500 करोड़ के चल रहे विकास कार्यों का एक हिस्सा फरवरी 2022 तक पूरा होने की संभावना है। जब मंदिर के विकास के सभी कार्य पूर्ण होंगे तो यह कहने में अतिशियोक्ति नहीं होगी कि बाबा महाकाल का आंगन प्रदेश का नया काशी बनकर उभरेगा।

स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत महाकाल मंदिर का विकास किया जा रहा है। इसमें महाकाल मंदिर के अंदर और बाहर निर्माण किए जा रहे हैं। इनमें से कुछ कार्य 80 फीसदी तक पूरे हो गए हैं। विशेषकर महाकाल मंदिर प्रवेश के लिए 900 मीटर लंबा कॉरिडोर बनाया जा रहा है। इस कॉरिडोर को कलात्मकता के साथ हेरिटेज की दृष्टि से विकसित किया जा रहा है। यहां पर भी भव्य मूर्तियां तथा म्यूरल्स लगाए जा रहे हैं। मंदिर में फेसेलिटी सेंटर, मंदिर के बाहर चौड़ीकरण तथा मकानों के अधिग्रहण जैसे काम भी प्रचलित हैं।

मंदिर में हो रहे विकास कार्यों को फरवरी में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा भी देखे जाने का प्रस्ताव है। मुख्यमंत्री पूर्व में ही कह चुके हैं कि शिवरात्रि पर महाकाल मंदिर को दीयों से जगमगाया जाएगा। इसके लिए मंदिर की समिति अयोध्या में पहुंचकर व्यवस्था भी देख चुकी है। मंदिर में लाइटिंग का काम पूरा हो चुका है। ऐसे में सिंहस्थ 2028 से पहले महाकाल मंदिर एक नया वैभव लिए देश दुनिया के लिए आकर्षण का केंद्र बनेगा।

खानपान का ले सकेंगे मजा
महाकाल मंदिर के विस्तारीकरण में महज मंदिर का विकास ही नहीं बल्की श्रद्धालुओं की सुविधाओं को भी ख्याल रखा जा रहा है| महाकाल परिसर के मुख्य गेट पर इटिकटिंग, फूड कियोस्क, ओपन एयर थियेटर बनाया गया है। 900 मीटर कॉरिडोर में इ-रिक्शा व पैदल पाथ। थीम पार्क में नाइट गार्डन, सीटिंग एरिया रहेगा। इसके अलावामार्केट, रेस्टारेंट व अन्य सुविधाएं भी रहेगी।

गंगा की तरह क्षिप्रा स्नान कर आ सकेंगे मंदिर
काशी विश्वनाथ में श्रद्धालुओं के लिए ऐसी व्यवस्था की गई है कि वह गंगा स्नान कर सीधे मंदिर पहुंच सकते हैं। बाबा महाकाल मंदिर में भी श्रद्धालुओं के यह सुविधा रहेगा। क्षिप्रा स्नान कर श्रद्धालु महाकाल कॉरिडोर के माध्यम से मंदिर पहुंच सकेंगे | क्षिप्रा में स्वच्छ जल रहने के लिए प्रयास शुरू किए जा रहे हैं। खान नदी के पानी को रोकने की कवायद हो रही है।

69049134.jpg

विकास कार्य, जो अवतिका को बनाएंगे काशी

मंदिर विस्तार
महाकाल मंदिर का विस्तार करके इस आठ गुना बड़ा किया जा रहा है। वर्तमान में मंदिर 2.82 हेक्टेयर में फैला है। अब इसका क्षेत्रफल 20.82 हेक्टयर हो जाएगा। इसमें छोटे-बड़े रूद्र सागर भी शामिल हो जाएगी।

फैसिलिटी सेंटर
मंदिर में श्रद्धालुओं के लिए फैसिलिटी सेंटर बनाया जा रहा है। इसका 80 फीसदी काम पूरा हो गया है। इसके बनने से श्रद्धालुओं के लिए तिरुपति धाम जैसी सुविधाएं मिलेंगी और दर्शन आसानी से हो सकेंगे।

चौड़ीकरण
महाकाल मंदिर केसामने चौड़ीकरण किया जा रहा है। 11 मकानों का अधिग्रहण किया जा चुका है। वहीं 152 मकानों के अधिग्रहण की प्रक्रिया प्रचलन में है। मकानों के अधिग्रहण से मिलने वाली जमीन पर सौंदर्यीकरण किया जाएगा।

मार्गों का चौड़ीकरण
मंदिर पहुंच के लिए मार्गों का चौड़ीकरण प्रस्तावित है। चारधाम मंदिर के सामने स्मार्ट रोड को टू-लेन में, हरिफाटक ब्रिज की शाखाओं का चौड़ीकरण तो मंदिर के आसपास की सड़कों का भी चौड़ीकरण किया जाना है। इससे मंदिर पहुंच के लिए आसान मार्ग उपलब्ध होगा। इसके अलावा 350 वाहनों के लिए पार्किंग बनाया जा रहा है।

महाराजवाड़ा भवन
मंदिर के पास महाराजवाड़ा भवन को हेरिटेज लुक धर्मशाला में विकसित किया जाएगा। यहां पार्किंग के साथ बगीचा व सौंदर्यीकरण किया जाएगा। इसी के साथ महाकाल द्वार को भी करोड़ों रुपए से उसके पुराने रूप में निर्माण किया जा रहा है।

रूद्रसागर
मंदिर के पीछे रूद्रसागर श्रद्धालुओं के लिए सबसे आकर्षण का केंद्र रहेगा। रूद्रसागर के चारों ओर हरियाली के साथ घाट बनाए जाएंगे। जहां श्रद्धालु बैठ सकेंगे। पक्षियों के लिए टापू, ब्रिज व बोटिंग की सुविधा भी विकसित की जाएगी। लाइट एंड साउंड शो- रूद्रसागर में ही लाइट एंड साउंड शो लगाया जाएगा। अक्षरधाम मंदिर की तर्ज पर लगने वाला लाइटिंग श्रद्धालुओं को आकर्षित करेगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहचुनावी तैयारी में भाजपा: पीएम मोदी 25 को पेज समिति सदस्यों में भरेंगे जोशखाताधारकों के अधूरे पतों ने डाक विभाग को उलझायाकोरोना महामारी का कहर गुजरात में अब एक्टिव मरीज एक लाख के पार, कुल केस 1000000 से अधिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.