पॉश कॉलोनी में बिजली का संकट, जल्द सड़क पर होंगे लोग

पॉश कॉलोनी में बिजली का संकट, जल्द सड़क पर होंगे लोग

Gopal Swaroop Bajpai | Publish: Aug, 12 2018 07:47:39 PM (IST) Ujjain, Madhya Pradesh, India

रहवासी संघ ने साधारण सभा में बनाई आंदोलन की रणनीति, निगम कॉलोनी सेल पर डेवलपर्स कंपनी को प्रश्रय देने का आरोप, एक ही कनेक्शन से चलती है सारे घरों की बिजली

उज्जैन. देवास रोड स्थित पाश्र्वनाथ सिटी के रहवासी अब बिजली की समस्या को लेकर सड़कों पर उतरेंगे। तमाम सुविधाओं का वादा कर जिस डेवलपर्व कंपनी ने लाखों रुपए के प्लॉट बेचें अब वह विद्युत सब स्टेश बनाने में आनाकानी कर रही है। इस कारण घरों में वॉल्टेज नहीं मिलता और महंगें इलेक्ट्रॉनिक उपकरण खराब हो रहे है। रविवार को रहवासी सोसायटी की साधारण सभा हुई। जिसमें अध्यक्ष मनीष शर्मा की अगुवाई में समस्याओं पर बातचीत हुई। तय हुआ की यदि जल्द निराकरण नहीं हुआ तो रहवासी धरना आंदोलन कर संबंधित विभागों की मनमानी व भ्रष्टाचार उजागर करेंगे।

रहवासी सोसायटी सदस्यों के अनुसार डेवलपर्स को नगर निगम कॉलोनी सेल द्वारा प्रश्रय दिया जा रहा है। इस कारण 18 करोड़ का विद्युत सब स्टेशन अधर में है। अधूरे काम के बावजूद कंपनी को पूर्णता प्रमाणपत्र जारी कर दिया गया जिसका खामियाजा रहवासी भुगत रहे है। निगम व कंपनी के बीच सोसायटी की सहमती बगैर समझौता हो गया। जिसमें जानते हुए निगम अधिकारियों ने 7 करोड़ की जमीन को 18 करोड़ की मानते हुए शेष विकास कार्यो के पेटे बंधक कर लिया। अब कंपनी अधूरे काम छोड़ भागने की तैयारी में हैं। सोसायटी प्रबंधक विजय बंबोरी के अनुसार साधारण सभा में सुरक्षा, प्रशासनिक, सांस्कृतिक उपसमितियां भी गठित की गई। प्रत्येक में 10 सदस्य रखे गए।
इन समस्याओं पर चर्चा, ड्राप गेट लगाएंगे

  • बैठक में मुख्य मुद्दा बिजली का रहा। कंपनी द्वारा लिए एक ही बड़े कनेक्शन के सभी घरों में बिजली सप्लाय होती है। वॉल्टेज नहीं होने से एसी, माइक्रोवेव तक नहीं चल पाते। वहीं कई बार बिजली गुल हो जाती है।
  • सुरक्षा व्यवस्था दुरुस्त करने चार गार्ड लगाएंगे, वहीं मुख्य प्रवेश द्वार पर ड्राप गेट लगाने की स्वीकृति दी गई।
  • जो लोग यहां मकान बना रहे है, उन्हें सदस्य बनना जरूरी है। अन्यथा भविष्य में उनके विद्युत कनेक्शन काट दिए जाएंगे।
  • साधारण सभा में सोसायटी के करीब ७० सदस्य मौजूद रहे।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned