पहली बार जिला अस्पताल के किसी सिविल सर्जन को मिली ये उपलब्धि

पहली बार जिला अस्पताल के किसी सिविल सर्जन को मिली ये उपलब्धि

Gopal Bajpai | Publish: Apr, 17 2018 07:19:08 PM (IST) Ujjain, Madhya Pradesh, India

नेशनल क्वालिटी कान्क्लेव में प्रदेश का प्रतिनिधित्व करेंगे सिविल सर्जन

उज्जैन। नई दिल्ली में नेशनल क्वालिटी कान्क्लेव की बैठक प्रदेश का प्रतिनिधित्व जिला अस्पताल के सिविल सर्जन करेंगे। ये पहला मौका है कि जिला अस्पताल के सिविल सर्जन को इस प्रकार की बैठक में बुलाया गया है।

२०-२१ अप्रैल को नेशनल क्वालिटी कान्क्लेव की दो दिवसीय बैठक आयोजित की गई है। जिसमें प्रदेश से भोपाल मुख्यालय सहित उज्जैन जिला अस्पताल के सिविल सर्जन डॉ.राजू निदारिया को बुलाया गया है। बैठक में स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार के लिए मंथन किया जाएगा। नेशनल हेल्थ मिशन के तहत उक्त बैठक आयोजित की जा रही है। डॉ.राजू निदारिया ने बताया कि बैठक में जिला अस्पताल स्तर पर सुपर स्पेशलिटी सुविधाएं मुहैया करवाने के लिए कार्ययोजना और इसे लागू करने आ रही परेशानियों पर चर्चा की जाएगी। बैठक में एनएचएम क्वालिटी एश्योरेंस के उपसंचालक डॉ.पंकज शुक्ला, एनएचएम की राज्य सलाहकार जूही जायसवाल, डॉ.विवेक मिश्रा, क्षेत्रीय संचालक डॉ.रंजना गुप्ता शामिल होंगे। इसके अलावा बैठक में चरक अस्पताल में राष्ट्रीय स्तर की स्वास्थ्य सुविधाएं जुटाने और उन पर होने वाले खर्च, बजट, संसाधन आदि पर योजना तैयार की जाएगी।

एमपी एमआरए का ५० वां अधिवेशन संपन्न, जीपीआरएस कोडिंग रिर्पोटिंग का विरोध
रविवार को इंदौर रोड स्थित निजी होटल में मध्यप्रदेश मेडिकल रिप्रजेंटटिव एसोसिएशन को ५० वां वार्षिंक अधिवेशन आयोजित किया गया। कार्यक्रम में पदाधिकारियों ने जीपीआरएस कोडिंग रिर्पोटिंग का विरोध किया।
कार्यक्रम के दौरान एसोसिएशन की नवीन कार्यकारिणी गठित की गई। जिसमें हेमंत येवलेकर को अध्यक्ष और उमंग वानखेड़े को सचिव चुना गया। इसके अलावा हर्ष सेंगर, रोहित कदम, जोंगेदर जायसवाल को ८ सदस्यीय कार्यकारिणी में शामिल किया गया। कोषाध्यक्ष संदीप तिवारी ने बताया कि कार्यक्रम में नेशनल फेडरेशन के सचिव आकाश सिंह सेंगर और प्रदेश एसोसिएशन के महासचिव निशिकांत पंड्या ने शिरकत की। कार्यक्रम के दौरान आकाश सिंह सेंगर ने बताया कि फार्मा कंपनियों द्वारा लागू किया गया जीपीआरएस कोडिंग रिर्पोटिंग सिस्टम एमआर के अधिकारों का हनन है। जिस के खिलाफ प्रदर्शन किया जाएगा। इसके अलावा कंपनियों से इस प्रकार की रिर्पोटिंग बंद करने की मांग की जाएगी।

Ad Block is Banned