scriptVehicles will become a challenge after development in Mahakal area | महाकाल क्षेत्र में विकास के बाद चुनौती बनेंगे यहां आने वाले वाहन | Patrika News

महाकाल क्षेत्र में विकास के बाद चुनौती बनेंगे यहां आने वाले वाहन

निर्माण कार्यों के साथ भीड़ प्रबंधन भी दर्शन व्यवस्था बड़ा हिस्सा इसलिए पर्याप्त स्थान की जरूरत, ७०० करोड़ रुपए से हो रहे हैं विकास कार्य, पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा

उज्जैन

Updated: December 05, 2021 10:20:29 pm

उज्जैन. करीब 700 करोड़ रुपए से महाकाल मंदिर क्षेत्र का विकास व विस्तार हो रहा है। इसके बाद बड़ी चुनौती सुलभ दर्शन के साथ भीड़ व यातायात प्रबंधन की होगी। कारण, नए कार्यों होने पर पर्यटक व दर्शनार्थियों की संख्या बढ़ेगी और वाहनों की आवाजाही भी वर्तमान से तीन-चार गुना अधिक हो जाएगी। इस चुनौती से निपटने प्रारंभिक रूप से चार स्थानों पर पार्र्किंग व्यवस्था की योजना है जहां एक समय में करीब दो हजार वाहन खड़े हो सकेंगे। हालांकि अभी भविष्य की जरूरत के मद्देनजर यातायात व भीड़ प्रबंधन का पुख्ता खाका तैयार नहीं हुआ है।

Vehicles will become a challenge after development in Mahakal area
निर्माण कार्यों के साथ भीड़ प्रबंधन भी दर्शन व्यवस्था बड़ा हिस्सा इसलिए पर्याप्त स्थान की जरूरत, ७०० करोड़ रुपए से हो रहे हैं विकास कार्य, पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा

वर्तमान में महाकाल मंदिन आने वालों के वाहन खड़े करने के लिए रूद्र सागर के सामने, भारत माता मंदिर के नजदीक व आसपास के कुछ खाली स्थान उपलब्ध हैं। आम दिनों में ही उक्त स्थान दो व चार पहियां वाहनों से भरे रहते हें। पर्व विशेष पर तो यहां वाहन खड़े करने की जगह नहीं बचती है और यातायात व्यवस्था बनाए रखना मुश्किल हो जाता है। जानकार मानते हैं कि मंदिर परिसर का विस्तार व क्षेत्र का विकास होने के बाद यहां आने वाले श्रद्धालु और पर्यटकों की संख्या काफी बढ़ जाएगी। पर्यटन क्षेत्र में भी बड़ा विकास होगा। तब श्रद्धालु-पर्यटक वाहन के साथ मंदिर के नजदीक तक पहुंच सकें और जाम की स्थिति भी न बने, यह आदर्श व्यवस्था कायम करना मुश्किल हो सकता है। प्रशासन इसके लिए वाहनों की पार्र्किंग क्षमता बढ़ाने की तैयारी कर रहा है। इधर कलेक्टर ने भी मंदिर के चारो ओर के क्षेत्र में वाहनों के आवागमन व पार्र्किंग की योजना की पुन: समीक्षाा कर रिपोर्ट प्रस्तुत करने का कहा है।

एेसे पार्र्किंग क्षमता बढ़ाने का प्रयास

1. त्रिवेणी संग्रहालय सरफेज पार्र्किंग- स्मार्ट सिटी अंतर्गत हरिफाटक चौथी शाखा क्षेत्र में त्रिवेणी संग्रहालय के सामने सरफेज पार्र्किंग का निर्माण किया जा रहा है। यहां करीब ४५० वाहन पार्क हो सकेंगे।
2. बेगमबाग रोड पार्किंग- बेगमबाग रोड के नजदीक अंडरग्राउंड वाहन पार्र्किंग स्थल बनाने की योजना है। यहां करीब 250 चार पहिया वाहन पार्क हो सकेंगे। इसके अलावा 200 से अधिक दो पहिया वाहन पार्र्किंग की भी व्यवस्था रहेगी।
3. मंदिर के सामने- महकााल मंदिर के सामने 70 मीटर विस्तारीकरण किया जा हरा है। यहां भी सरफेज पार्र्किंग सुविधा देने की योजना है ताकि शीखर दर्शन करने वाले अपने वाहन खड़े कर सकें। यहां 200 से अधिक वाहनों की पार्र्किंग व्यवस्था का प्रयास है।
4. मन्नत गार्डन- प्रशासन ने हरिफाटक ब्रिज से पहले स्थित मन्नत गार्डन की शासकीय जमीन को कब्जे से मुक्त किया है। यहां लैंड स्केपिंग के साथ सरफेज पार्र्किंग की भी योजना हैं। अधिक जमीन उपलब्ध होने से एक हजार वाहनों की पार्र्किंग संभावित है। अधिक भीड़ होने पर इस स्थान का उपयोग हो सकता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Video Weather News: कल से प्रदेश में पूरी तरह से सक्रिय होगा पश्चिमी विक्षोभ, होगी बारिशVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगश्री गणेश से जुड़ा उपाय : जो बनाता है धन लाभ का योग! बस ये एक कार्य करेगा आपकी रुकावटें दूर और दिलाएगा सफलता!पाकिस्तान से राजस्थान में हो रहा गंदा धंधाइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजहार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.