बैंकों की मनमानी के खिलाफ व्यापारियों का प्रदर्शन, ₹ 10 प्रति गड्डी के हिसाब से लिया जा रहा है शुल्क

Abhishek Gupta

Publish: Oct, 12 2017 06:04:31 (IST) | Updated: Oct, 12 2017 06:56:27 (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
बैंकों की मनमानी के खिलाफ व्यापारियों का प्रदर्शन, ₹ 10 प्रति गड्डी के हिसाब से लिया जा रहा है शुल्क

बैंकों में ₹10 प्रति घंटे के हिसाब से शुल्क लिया जा रहा है, बैंक में हो रही कटौतियों से व्यापारियों में रोष.

उन्नाव. नोटबंदी के बाद बाजार में छोटे नोट और रेजगारी की बाढ़ आ गई है। व्यापारियों को अपने ग्राहकों से छोटे नोट और रेजगारी लेनी पड़ रही है। जबकि विभिन्न बैंकों में चालू खाते में रेजगारी नहीं ली जा रही है। ऐसा करना रिजर्व बैंक की गाइडलाइन के विरुद्ध है। उक्त विचार उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल के जिला अध्यक्ष रजनीकांत श्रीवास्तव ने कही। उन्होंने कहा कि रेजगारी से होने वाली दिक्कतों पर बातचीत करने पर बैंक कर्मचारी हाथ खड़े कर देते हैं। इसको लेकर आज विभिन्न बैंकों के सामने उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल के बैनर तले व्यापारियों के साथ प्रदर्शन किया और वित्त मंत्री को संबोधित ज्ञापन जिलाधिकारी कार्यालय में दिया।

बैंकों मे हो रही कटौतियों से व्यापारी नाराज-

अपने संबोधन में रजनीकांत श्रीवास्तव ने कहा कि नोट बंदी के बाद बैंक कर्मचारी रेजगारी लेने से मना कर रहे हैं तथा छोटे नोटों की गड्डी पर ₹10 प्रति घंटे के हिसाब से चार्ज ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि तीन बार से ज्यादा ट्रांजैक्शन करने पर बैंकों में मनमाने ढंग से कटौती की जा रही है। यही नहीं डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड को स्वैप करने पर 2 प्रतिशत का चार्ज काट कर व्यापारी को पैसा प्राप्त होता है जो अनुचित है और इसे हटाया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि इससे डिजिटल भुगतान बाधित होता है। व्यापारियों की समस्याओं को देखते हुए उन्होंने कहा कि स्टेट बैंक अथवा अन्य बैंकों द्वारा एक लाख रुपए जमा करने पर ₹80 शुल्क लिया जा रहा है। प्राइवेट बैंकों में भी मनमाने ढंग से चार्ज लगाए जा रहे हैं। जिससे व्यापारियों को काफी नुकसान हो रहा है। बैंकों का कहना है कि उनके पास ₹10 का नोट रखने की जगह नहीं है। केंद्रीय मंत्री भारत सरकार को संबोधित ज्ञापन में उन्होंने वित्त मंत्री से व्यापारी खेत में देखते हुए उक्त कठिनाइयों के समाधान की मांग की है।

लीड बैंक के सामने जमकर की नारेबाजी-

इससे पहले जिला अध्यक्ष के नेतृत्व में शहर मध्य स्थित लीड बैंक - पंजाब नेशनल बैंक हाकिम टोला रोडवेज बस अड्डे के पास बैंक के कर्मचारियों की कार्यशैली के विरोध में जमकर नारेबाजी की। यहां से व्यापार प्रतिनिधिमंडल का जुलूस बड़ा चौराहा, नए पुल से होते हुए जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचा। जहां उन्होंने व्यापारियों को संबोधित किया। अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि केंद्रीय मंत्री बैंकों की मनमानी पर रोक लगाएं। इस मौके पर जिला महामंत्री इतिहास गौरी, शैलेंद्र गुप्ता, मनोज गुप्ता, विमलेश साहू, देवकांत, मोहम्मद खालिद, मुन्नू लाल कुशवाहा, सचिन साहू, मुकेश शुक्ला, शिवम चौरसिया, दिलीप गुप्ता, संजय त्रिपाठी, सुमित गुप्ता, सहित सैकड़ों की संख्या में व्यापारी मौजूद थे।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned