सरकारी तंत्र का कारनामा - जन्म से पहले हो गया मुकदमा, सीएम, डीएम, एसपी से फरियाद के बाद भी नहीं हो रही सुनवाई

सरकारी तंत्र का कारनामा - जन्म से पहले हो गया मुकदमा, सीएम, डीएम, एसपी से फरियाद के बाद भी नहीं हो रही सुनवाई
सरकारी तंत्र का कारनामा - जन्म से पहले हो गया मुकदमा, सीएम, डीएम, एसपी से फरियाद के बाद भी नहीं हो रही सुनवाई

Narendra Awasthi | Updated: 31 Aug 2019, 06:23:54 PM (IST) Unnao, Unnao, Uttar Pradesh, India

फिटनेस कराने गए वाहन स्वामी को पता चला की 2015 में हो गया था मुकदमा, जबकि गाड़ी 2017 में खरीदी

उन्नाव. जन्म (Birth) से पहले मुकदमा (FIR) लिखे जाने की बात बताई जाए तो हास्यास्पद लगेगी। लेकिन उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा कुछ इसी प्रकार का कार्य किया गया है। मामला सामने आने के बाद पीड़ित लगातार अपनी बात रख रहा है। लेकिन उसकी कहीं भी सुनवाई नहीं हो रही है। अधिकारियों (officer) की चौखट पर चक्कर लगाकर अपनी बात रख रहा है। सुन सभी रहे हैं, समझ भी रहे हैं। लेकिन भ्रष्ट सरकारी तंत्र उसे न्याय देने में विफल है।

 

सदर कोतवाली क्षेत्र का मामला

मामला सदर कोतवाली (sadar kotwali) क्षेत्र से जुड़ा है। मुख्यमंत्री(CM) के जनसुनवाई पोर्टल (JAN SUNWAI PORTAL) पर विमलेश कुमार राजपूत पुत्र साहेब लाल निवासी गंगा खेड़ा डीह, कोतवाली सदर ने बताया है कि उसने पिकअप लोडर खरीदा था। 2 साल बाद जब गाड़ी का फिटनेस (fitness) कराने गए तो पता चला 2015 में गाड़ी के खिलाफ कोई मुकदमा पंजीकृत है। जबकि उन्होंने गाड़ी 2017 में खरीदी है। गाड़ी पर मुकदमा होने के कारण गाड़ी का फिटनेस नहीं हो पा रहा है। एआरटीओ (ARTO) कार्यालय में कहा जाता है कि पहले चालान खत्म कर आइए। जबकि उन्हें इस विषय में कुछ भी मालूम नहीं है। इस विषय में उन्होंने जिलाधिकारी (DM), पुलिस अधीक्षक (SP), एआरटीओ (ARTO) सहित मुख्यमंत्री (CM) को भी शिकायती पत्र भेजा है लेकिन समस्या का निवारण नहीं हुआ।

 

एआरटीओ ने पुलिस अधीक्षक को पत्र लिखा

इस संबंध में कार्यालय सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी ने पुलिस अधीक्षक को पत्र भेज कर भूल सुधार करने की वकालत की है। अपने पत्र में सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी ने बताया है कि यूपी 35T - 9942 पिकअप लोडर (pick-up loader) का रजिस्ट्रेशन उन्नाव कार्यालय में दिनांक 4 मई 2017 को हुआ था। वाहन स्वामी द्वारा वाहन को कार्यालय में फिटनेस नवीनीकरण हेतु प्रस्तुत किया गया। तो कंप्यूटर अभिलेख में वाहन नंबर डालने पर वाहन एनसीआरबी में लॉक दर्ज दिखा रहा है। जिसका क्राइम नंबर 31674 322 015 664 एवं एफ. आई. आर. नंबर 664/ 2015 दिनांक 17.06 2015 थाना कोतवाली है। जिसके कारण उक्त वाहन का फिटनेस नवीनीकरण नहीं हो रहा है। उन्होंने अपने पत्र में मांग की है कि उक्त वाहन पर ऑनलाइन दर्ज एनसीआरबी एवं एफआइआर की जांच करा कर प्रकरण को निस्तारित करें। जिससे कि ऑनलाइन लॉक हटने के उपरांत उक्त वाहन की फिटनेस हो सके। उप संभागीय परिवहन अधिकारी उपरोक्त पत्र पुलिस अधीक्षक को भेजकर गेंद पुलिस अधीक्षक के पाले में डाल दी अब पीड़ित वाहन स्वामी फिटनेस ना होने के कारण वाहन घर में खड़ी किए हैं और आरटीओ ऑफिस तो कभी पुलिस अधीक्षक कार्यालय तो कभी जिलाधिकारी कार्यालय पहुंच अपनी फरियाद लगा रहा है सरकारी तंत्र पीड़ित की फरियाद में हां में हां तो मिल आता है लेकिन सुधार नहीं कर रहा है।

 

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned