कोरोना का नया रूप, एंटीजन-आरटीपीसीआर जांच में नहीं आ रहा पकड़ में, अब होगी ये जांच

कोरोनावायरस के लक्षण होने के बाद भी जांच में नेगेटिव निकल रहा है मरीज

By: Narendra Awasthi

Updated: 19 Apr 2021, 06:52 PM IST

उन्नाव. नेगेटिव रिपोर्ट आने के बाद भी वैश्विक महामारी कोरोना वायरस का असर शरीर में दिखाई पड़ रहा है। जिसे देखते हुए शासन ने नई गाइडलाइन जारी की है। जिसके अनुसार सिटी स्कैन और एक्स-रे के माध्यम से संक्रमित व्यक्ति की पहचान की जाएगी। कोरोनावायरस का सबसे ज्यादा प्रभाव फेफड़े पर पड़ता है। फेफड़े के इंफेक्शन से मरीज को सांस लेने में परेशानी होती है और ऑक्सीजन का लेबल भी घट जाता है जिसे देखते हुए यह निर्णय लिया गया है।

एक्स-रे व सिटी स्कैन से होगी जानकारी

कोबिट के लक्षण दिखाई देने के बाद भी एंटीजन रिपोर्ट नेगेटिव आ रही है। जिसे देखते हुए योगी शासन ने नई गाइडलाइन जारी की है। अब मरीजों की कोविड-19 जांच निगेटिव आने के बाद बीमारी का वास्तविक रूप जानने के लिए सीटी स्कैन और एक्सरे का सहारा लिया जाएगा और मरीज को कोविड-19 पॉजिटिव मानते हुए उपचार होगा। जिससे फेफड़े के संक्रमण की जांच होगी।

जांच पकड़ में नहीं आ रहा कोरोना वैश्विक महामारी का वायरस

कोरोनावायरस का नया रूप एंटीजन और rt-pcr जांच में भी पकड़ में नहीं आ रहा है। नेगेटिव आने के बाद मरीज स्वयं और स्वास्थ्य महकमा भी लापरवाही बरतने लगता है ऐसे मरीजों की तबीयत कुछ ही दिन में काफी खतरनाक स्थिति में पहुंच जा रही है जिसे देखते हुए शासन ने या कदम उठाया सीएमओ डॉ आशुतोष कुमार ने बताया कि सीटी स्कैन और एक्सरे रिपोर्ट के आधार पर संक्रमित व्यक्ति का उपचार शुरू कर दिया जाएगा।

Narendra Awasthi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned