आप ने नहीं उतारा प्रत्याशी, मेयर पद के लिए इस बटन को दबायेंगे कार्यकर्ता

Devesh Singh

Publish: Nov, 14 2017 06:40:20 (IST)

Varanasi, Uttar Pradesh, India
आप ने नहीं उतारा प्रत्याशी, मेयर पद के लिए इस बटन को दबायेंगे कार्यकर्ता

पार्टी ने विरोधी दल के प्रत्याशी को नहीं माना योग्य, जानिए क्या है कहानी

वाराणसी. आप ने बनारस मेयर पद पर प्रत्याशी नहीं उतारा है, लेकिन पार्टी के कार्यकर्ता मेयर पद पर इस विकल्प का प्रयोग कर सकते हैं। आप ने वार्ड में प्रत्याशी उतार दिये हैं, लेकिन मेयर पद पर किसी उम्मीदवार का चयन नहीं किया है।
यह भी पढ़े:-दरोगा के उड़ गये होश जब जज ने कोर्ट में पूछ लिया आरोपी का नाम



पीएम नरेन्द्र मोदी का संसदीय क्षेत्र काशी होने के चलते यहां के मेयर पद पर चुनाव बहुत महत्वपूर्ण है। बीजेपी हारती है तो इसे पीएम मोदी से जोड़ कर देखा जायेगा। मेयर पद पर बीजेपी को जीत मिलती है तो भी पीएम मोदी से इस जीत को जोड़ कर देखा जायेगा। बनारस मेयर पद पर सपा, बसपा व कांग्रेस ने भी अपने प्रत्याशी उतारे हैं और सभी दलों ने अपने जीत का दावा किया है। नगर निगम चुनाव के नामांकन के पहले तक माना जा रहा था कि मेयर पद पर आप पार्टी अपने प्रत्याशी को उतारेगी, लेकिन योग्य प्रत्याशी नहीं मिलने के चलते आप ने इस पद पर चुनाव लडऩे से इंकार कर दिया। इसके बाद सवाल उठने लगा कि आप के कार्यकर्ता व समर्थक मेयर पद पर किस प्रत्याशी को समर्थन दे सकते हैं पत्रिका ने जब इस बारे में पार्टी के नेताओं से बात की तो सही तस्वीर समाने आ गयी।
यह भी पढ़े:-ट्रेन में सफर के दौरान एसएमएस से मिलेगा जीआरपी सिपाही का नम्बर

आप कार्यकर्ता यहां कर सकते हैं मतदान
पार्टी नेताओं की माने तो विरोधी दलों के कोई भी प्रत्याशी योग्य नहीं है। सभी दलों ने परिवारवाद को ही बढ़ावा दिया है। सपा, कांग्रेस, बसपा व बीजेपी ने जिन प्रत्याशी को मेयर पद का चुनाव लड़ाया है वह राजनीतिक घराने से आती हैं उनका अपना कोई राजनीतिक वजूद नहीं हैं। इसलिए पार्टी के कार्यकर्ता किसी दल के अयोग्य प्रत्याशी को वोट देने की जगह नोटा का प्रयोग कर सकते हैं।
यह भी पढ़े:-अवैध बूचडख़ाना बंद होने के बाद भी मुख्तार के गढ़ में इस मुस्लिम समाज का बीजेपी को समर्थन

जानिए क्या कहा आप के वरिष्ठ नेता ने
आप के पूर्वांचल संयोजक संजीव सिंह का कहना है कि विरोधी दल के प्रत्याशी इस योग्य नहीं है कि उन्हें वोट दिया जाये। मेयर पद पर वोट देने के लिए जनता अपने स्तर से भी निर्णय कर सकती है। हम लोगों से अपील करते हैं कि बाहुबल, धनबल व परिवारवाद को बढ़ावा देने की जगह नोटा विकल्प का प्रयोग किया जा सकता है, जिससे राजनीतिक दलों का यह संदेश जाये कि योग्य प्रत्याशी नहीं उतारते हैं तो जनता उन्हें ठुकरा देगी।
यह भी पढ़े:-बीजेपी की बाहुबली विजय मिश्रा को घेरने के लिए खास योजना, बीएसपी नेता को पार्टी में लाने की तैयारी

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned