काशी विश्वनाथ मंदिर ने हटाया एक और प्रतिबंध, फूल माला चढ़ाने पर लगी रोक खत्म

  • कोरोना संक्रमण के खतरे के चलते लाॅक डाउन के समय ही बंद कर दिया गया था काशी विश्वनाथ मंदिर।
  • प्रशासन की इजाजत के बाद मंदिर तो खोला गया, लेकिन गर्भगृह में प्रवेश और फूल माला अर्पित करने पर थी रोक।
  • अब मंदिर प्रशासन ने फूल माला चढ़ाने पर लगी रोक को हटा लिया है, जिससे एक बार फिर दुकानें गुलजार हो गई हैं।

वाराणसी. कोरोना संक्रमण से बचाव के मद्देनजर श्री काशी विश्वनाथ मंदिर में लगा एक और प्रतिबंध हटा लिया गया है। मंदिर में दर्शन करने के साथ ही श्रद्घालु अब बाबा को फूल माला और बेलपत्र भी चढ़ा सकेंगे। मंदिर प्रशासन ने इसका फैसला करते हुए माला फूल पर लगा प्रतिबंध हटा लिया है। करीब छह माह बाद प्रतिबंध हटाए जाने के बाद फूल माला बेचने वाले खुश हैं तो श्रद्लुओं के चेहरे पर भी प्रसन्नता और संतोष का भाव दिखायी दिया।

 

मंदिर प्रशासन के फैसले के अमल में लाते ही छह महीने बाद फूल मालाओं की दुकानें फिर से गुलजार हो गईं। श्रद्घालुओं ने भी श्रद्घा पूर्वक फूल माला और बेलपत्र बाबा को अर्पित किये। दरअसल कोरोना वायरस महामारी के देश में तेजी से पांव पसारने के बाद पूरे देश में लाॅक डाउन लगा दिया गया गया और कहीं भी भीड़ न जुटने की हिदायत देते हुए धार्मिक समेत सभी आयोजनों पर रोक लगा दी गई। धर्मस्थलों को भी आम लोगों के लिये बंद कर दिया गया।

 

इसके बाद जब जून में कई प्रतिबंधों के साथ धर्मस्थल खोले गए। काशी विश्वनाथ मंदिर भी खुला, लेकिन केवल दर्शन करने की इजाजत थी, फूल माला चढ़ाने पर रोक थी। इससे मंदिरों के आस पास लगने वाले फूल मालाओं की दुकानें वीरान थीं। अब छह माह बाद मंदिर प्रशासन की ओर से इसपर लगा प्रतिबंध भी हटा लिया गया है। इसके बाद फूलों की दुकानें फिर सज गयी हैं।

Coronavirus Pandemic कोरोना वायरस
Show More
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned