घड़ी, बेल्ट और पर्स सहित अन्य जरूरी सामान होंगे सेनेटाइज, 10 मिनट में दम तोड़ देगा कोरोना वायरस, बीएचयू आईआईटी ने बनाई खास मशीन

बीएचयू आईआईटी के प्रोफेसर डॉ. पी के मिश्रा का दावा- कर्मचारियों को कोरोना संक्रमण के खतरे से बचाने में मददगार साबित होगी यह मशीन

By: Hariom Dwivedi

Published: 08 Apr 2020, 01:35 PM IST

वाराणसी. देश में कोरोना वायरस से के बढ़ते खतरे कप देखते हुए बीएचयू आईआईटी ने एक ऐसी मशीन का अविष्कार किया है जिससे छोटी-छोटी चीजें भी सेनेटाइज हो जाएंगी। यह मशीन उन लोगों की सुरक्षा को देखते हुए बनाई गई है जो इमरजेंसी सेवा में लगे हुए हैं। ताकि वायरस से किसी तरह का खतरा न हो सके। इस मशीन को जल्द बाजार में भी उतारने की तैयारी है।

आईआईटी बीएचयू ने शोध में पाया की कर्मचारियों, डॉक्टर और अधिकारी समेत तमाम ऐसे लोग हैं जो खुद तो सेनेटाइजर से बचाव कर पाते हैं, लेकिन इनकी उपयोगी चीजें जैसे बेल्ट, घड़ी, पर्स, चाभी, अंगूठी इत्यादि इत्यादि सामग्री सेनेटाइज नहीं हो पाती जिससे इन्हें इस संक्रमण का खतरा बना रहता है। इसके लिए बीएचयू आईआईटी के साथ मिलकर काम करने वाले गौरव ने माइक्रोवेव की तरह एक मशीन बनाई है, जिसमें अल्ट्रा वॉयलेट रेस से वायरस का खात्मा का दावा किया गया है। इसे बनाने में दो से तीन दिन लगा है।

मशीन से जुड़ी खास बातें
मशीन को बनाने वाले गौरव बताते हैं की यह अल्ट्रावायलेट किरणों से कोरोना के वायरस को मार देगी। यह मशीन सी कैटोगरी की अल्ट्रावायलेट किरणें छोड़ती हैं। कोई भी वायरस इसमें 10 से 15 मिनट तक जिंदा नहीं रह सकता। इस मशीन में एक पंखा भी लगा है जो वायरस को रोटेट करके किरणों के नजदीक लाने का काम करता है। बीएचयू आईआईटी के प्रोफेसर डॉ. पी के मिश्रा ने बताया कि इस मशीन को बड़े पैमाने पर मार्केट में लाने के लिए पहल की जा रही है। यह कम लागत में इजाद की हुई एक बढ़िया मशीन है, जिसे डॉक्टर, पुलिस विभाग, सफाई विभाग अपने कर्मचारियों को इस संक्रमण के खतरे से बचाने में मददगार साबित होंगे। निश्चित ही यह मशीन कारगर है।

coronavirus
Hariom Dwivedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned