कोरोना मरीज ने बीएचयू हॉस्पिटल की चौथी मंजिल से कूदकर जान दी, दूसरे का शव अस्प्ताल के पीछे पाया गया

दोनों मृतकों के परिजनों ने बीएचयू अस्पताल पर इलाज में लापरवाही का लगाया आरोप। थाने में हुई शिकायत।

वाराणसी. कोरोना काल में हो रही घटनाओं और लापरवाहियों को लेकर को लेकर बीएचयू पर सवाल उठते जा रहे हैं। ताजा घटनाक्रम में बीएचयू अस्पताल की चौथी मंजिल से एक कोरोना पाजिटिव के कूदकर जान दे देने और 24 घंटे से लापता संक्रमित युवक का शव बीएचयू में ही मिलने के बाद इलाज में लापरवाही का का आरोप लगाया गया है। बताते चलें कि इसके पहले भी इलाज में लापरवाही का वीडियो वायरल हुआ था तो बीते नौ अगस्त को भी एक युवक लापता हो गया था। इसके अलावा एसीएमओ का शव बदल जाने की घटना पर हंगामा हुआ था। फिलहाल दोनों मृत युवकों के परिजनों ने बीएचयू अस्पताल पर लापरवाही का आरोप लगाया है। इस मामले में लंका थाने में शिकायत की गई है।


कोरोना संक्रमित ने छत से कूदकर जान दी

वाराणसी के बाबतपुर कैथेली निवासी जितेन्द्र पाठक का इकलौता बेटा अंकित पाठक मस्तिष्क में कुछ समस्या के बाद बीएचयू अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहां अंकित का टेस्ट हुआ तो वह कोरोना संक्रमित निकला, जिसके बाद उसे कोविड-19 वार्ड में शिफ्ट कराया गया। इसी दौरान रवविार की रात उसने अस्पताल की चौथी मंजलि से कूदकर जान दे दी। घटना के बाद अंकित के परिजनों की ओर से बीएचयू अस्पताल पर इलाज में लापरवाही का आरोप लगाया गया है। उनका आरोप है कि अस्पताल में अंकित के इलाज में घोर लापरवाही बरती गई। इसी से परेशान होकर उसने यह कदम उठाया। परिजनों ने इस मामले में मुकदमा दर्ज कराने और कोर्ट जाने की बात कही।


बीएचयू से 24 घंटे से लापता कोरोना संक्रमित की लाश मिली

लंका थानाक्षेत्र के डाफी निवासी 25 साल के युवक अजय भारती को बीते 11 अगस्त को एक सड़क दुर्घटना में घायल होने के बाद बीएचयू अस्पताल ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया था। 15 अगस्त को उसकी रिपोर्ट कोरोना पाजिटिव आने के बाद उसे बीएचयू सुपर स्पेशालिटी हाॅस्पिटल में बने कोरोना वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया। परिजनों का कहना है कि इस बीच उन्हें बीएचयू अस्पताल की ओर से सूचना दी गई कि उनका मरीज कहीं लापता हो गया है। इस पर परिवार वालों ने हंगामा किया और दावा किया कि मरीज अजय से दोपहर में ही उन लोगों की बात हुई है। परिजनों ने लंका थाने में शिकायत की, जिसके बाद पुलिस जांच के लिये बीएचयू पहुंची, पर कोई सुराग नहीं मिला। सोमवार को परिजन फिर बीएचयू पहुंचे और हंगामा किया, जिसके बाद देर शाम परिवार को जानकारी दी गई कि अजय की लाश अस्पताल के पिछले हिस्से से मिली है। परिजनों ने अजय की किडनी निकाले जाने का आरोप लगाते हुए हंगामा किया।

Coronavirus Pandemic कोरोना वायरस
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned