जानिए अयोध्या फैसले के दूसरे दिन बनारस में निकला ईद मिलादुन्नबी का जुलूस कैसा रहा

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का संसदीय क्षेत्र है बनारस।

वाराणसी. अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के ठीक 1 दिन बाद देशभर में मुसलमानों ने पैगंबर हजरत मोहम्मद साहब की पैदाइश का जश्न मनाया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी भी ईद मिलादुन्नबी के जश्न में डूबा रहा। दिनभर जुलूस ओं का क्रम चलता रहा तो शाम होते ही जगह-जगह नातिया महफिल सजी। इनमें पैगंबर साहब की शान में नात पढ़ी गई और उनके बताए हुए रास्तों पर चलने का आह्वान किया गया।

शहर में जुलूस ओं का क्रम सुबह से ही शुरू हो गया। सुबह 8:00 बजे तक शहर के विभिन्न इलाकों से छोटे बड़े कई जुलूस निकले इनमें लोगों ने सर्व पर रंग-बिरंगे बांध रखी थी उनके हाथों में हरे रंग के इस्लामिक झंडे लहरा रहे थे कई जगह जुलूस ओं में इस्लामिक झंडों के साथ तिरंगे भी लहराते हुए देखे गए। इस दौरान लगातार सरकार की आमद मरहबा और नूर वाला आया है जैसे नारे नबी की शान में लगाए जा रहे थे। दोपहर को सभी जुलूस बेनियाबाग पहुंचे जहां उलेमा ने पैगंबर साहब के विचारों उनकी जिंदगी और उनके बताए हुए रास्तों के सिलसिले से हिदायत की तकरीर की और सभी से उनकी सुन्नत पर अमल करने का आह्वान किया।

जोलूसों का सिलसिला शाम को भी जारी रहा। दोपहर बाद भी कई इलाकों से जुलूस निकले जो शाम तक अपनी मंजिल पर पहुंचे शाम को शहर के ज्यादातर मुस्लिम इलाकों में नातिया मुशायरा और नबी की शान में महफिल सजी जो देर रात तक चलती है इस दौरान दिन भर ईद मिलादुन्नबी को लेकर कड़ी सुरक्षा का इंतजाम देखा गया।

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned