प्रत्याशी के चेहरे से अधिक पार्टी के नाम पर होगी वोटिंग

प्रत्याशी के चेहरे से अधिक पार्टी के नाम पर होगी वोटिंग
Nagar Nigam Election 2017

Devesh Singh | Updated: 06 Nov 2017, 05:09:26 PM (IST) Varanasi, Uttar Pradesh, India

परिसीमन के चलते मतदाताओं को हुई दिक्कत, जानिए क्या है कहानी

वाराणसी. नगर निगम चुनाव २०१७ में प्रत्याशियों की जगह पार्टी के नाम पर मतदान हो सकता है। काशी के ९० वार्ड में परिसीमन का बड़ा प्रभाव पड़ा है। इस बार अधिकांश वार्ड में नये चेहरे मैदान में है, जिसके चलते लोगों को प्रत्याशी का नाम नहीं पार्टी का सिंबल याद आ रहा है।
यह भी पढ़े:-बीजेपी में टिकट वितरण के बाद शुरू हो गया विद्रोह, चुनाव में हो सकता है पार्टी को नुकसान



आम तौर पर नगर निगम चुनाव में प्रत्याशी की पहचान भी काम आती थी। इस बार ऐसा नहीं है। अधिकांश वार्ड में नये प्रत्याशी चुनावी मैदान में है। नगर निगम चुनाव के लिए अब अधिक समय भी नहीं बचा है इसलिए प्रत्याशी सभी मतदाताओं तक अपनी पहचान नहीं बना पायेंगे। मतदान के दिन तक मतदाताओं को सभी प्रत्याशी का नाम याद रहेगा। इस पर भी संशय है। ऐसे में मतदान देते समय मत मतदाताओं को प्रत्याशी के नाम की जगह पार्टी का सिंबल ही वोट देने का आधार बनेगा।
यह भी पढ़े:-नगर निगम चुनाव में टूटने के कगार पर बीजेपी गठबंधन, सहयोगी दल ने उतार दिये प्रत्याशी

बागी पहुंचायेंगे सभी दलों को नुकसान
बागी प्रत्याशी से सभी दलों को नुकसान पहुंचना तय है। बागी प्रत्याशियों की अपनी क्षेत्र में एक पहचान होती है और इसी पहचान के आधार पर ऐसे प्रत्याशियों ने विभिन्न राजनीतिक दलों से टिकट मांगा था, लेकिन किन्हीं कारणों से उनका टिकट कट गया है। ऐसे लोगों ने अब अपने ही पार्टी के प्रत्याशियों को पटखनी देने की तैयारी की है। ऐसे बागी अपने खास लोगों से पार्टी के विरोध में मतदान करने में जुट गये हैं।
यह भी पढ़े:-सपा व बसपा के गढ़ में बीजेपी की सूची ने मचाया धमाल, क्या बदल पायेगा चुनावी समीकरण

मेयर पद पर भी काम आयेगा पार्टी का सिंबल
मेयर पद पर भी पार्टी का ही सिंबल काम आयेगा। सपा, बसपा, बीजेपी व कांग्रेस सभी दलों के मेयर पद के प्रत्याशी नये हैं। सभी प्रत्याशियों का परिवार भले ही राजनीति से जुड़ा है, लेकिन प्रत्याशियों की खुद की बड़ी पहचान है ऐसे में पार्टी का सिंबल ही प्रत्याशियों के हार व जीत का कारण तय करेगा।
यह भी पढ़े:-राजा भैया की कुंडा से बीजेपी ने शशिप्रभा पाण्डेय को बनाया अध्यक्ष पद का प्रत्याशी, क्या जीत पायेंगी चुनाव

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned