माध्यमिक स्कूलों में रिटायर्ड शिक्षकों की नियुक्ति दूर की कौड़ी

Ajay Chaturvedi

Publish: Jul, 13 2018 03:37:51 PM (IST)

Varanasi, Uttar Pradesh, India
माध्यमिक स्कूलों में रिटायर्ड शिक्षकों की नियुक्ति दूर की कौड़ी

नियुक्ति के लिए अवकाश प्राप्त शिक्षकों के पूल तक नहीं बन पाए हैं अभी तक।

डॉ अजय कृष्ण चतुर्वेदी

वाराणसी. माध्यमिक विद्यालयों में रिटायर्ट शिक्षकों की भर्ती आसान नहीं। शासन के मंसूबे पर लग रहा पलीता। आलम यह कि विभाग अब तक अवकाश प्राप्त शिक्षकों का पूल तक तैयार नहीं कर पाया है। कारण सेवानिवृत्त शिक्षक इस नौकरी के लिए तैयार ही नहीं हैं। इसके अलवा जिन्होंने आवेदन किया है उनकी भी कुछ शर्ते हैं। दूसरे सहायता प्राप्त विद्यालयों के प्रबंध तंत्र को भी इसके लिए राजी कर लेना आसान नहीं विभागीय अफसरों के लिए। ऐसे में आलम यह कि तकरीबन जुलाई का आधा महीना गुजर गया पर अभी तक रिक्त पदों के सापेक्ष नियुक्ति नहीं कर पाया है विभाग।

सितंबर 2017 में लिया गया था निर्णय

बता दें कि सितंबर 2017 में ही शासन ने तय किया था कि माध्यमिक स्कूलों में शिक्षकों की कमी अवकाश प्राप्त शिक्षकों से दूर की जाएगी। इसके लिए शासनादेश भी जारी कर दिया गया। योगी आदित्यनाथ कैबिनेट ने कहा कि माध्यमिक स्कूलों में शिक्षकों की कमी अब सेवानिवृत्त शिक्षकों से दूर की जाएगी। इसके तहत जो भी सेवानिवृत्त शिक्षक अपनी सेवा देने में खुद को सक्षम समझते हों वो इसके लिए आवेदन कर सकते हैं। शर्त यह कि उनकी उम्र 70 साल से ज्यादा न हो। तय किया गया कि ऐसे सहायक अध्यापकों को प्रतिमाह 15 हजार रुपये और प्रवक्ता को 20 हजार रुपये प्रतिमाह दिए जाएंगे। इसके लिए जिला स्तर पर अवकाश प्राप्त शिक्षकों का पूल बनाया जाना था और विद्यालयों की डिमांड पर उस पूल से ही शिक्षकों को संबंधित स्कूल में भेजना था।

 

ये आ रही दिक्कत

लेकिन सितंबर में जारी शासनादेश अब तक मूर्त रूप नहीं ले सका है। जानकारी के मुताबिक विभाग ने जो पूल बनाया है उसमें से शिक्षकों की नियुक्ति तो तैनाती तो दे गई। लेकिन शिक्षक हैं विभाग द्वारा आवंटित स्कूल में जाना नहीं चाहते। सबसे बड़ी समस्या है कि कोई अवकाश प्राप्त शिक्षक अपने घर से दूर के स्कूल में नहीं जाना चाह रहा है। सभी को अपने घर के इर्द गिर्द का स्कूल चाहिए।

प्रबंध तंत्र भी कम नहीं

दूसरे सहायता प्राप्त विद्यालय जहां प्रबंध तंत्र प्रभावी है वहां के प्रबंधक अपने चहेतों को ही नियुक्त करना चाहते हैं लिहाजा वो अधियाचन ही नहीं भेज रहे हैं। उन्हें तलाश है कि कोई अपना मिल जाए तो उसे पूल में डलवा कर उसकी नियुक्ति कराई जाए। इस तरह की दिक्कत के चलते ही वाराणसी मंडल के गाजीपुर और जौनपुर में अभी तक यह प्रक्रिया पूरी नहीं हो पाई है।

माध्यिमक स्कूलों के लिए आवेदन प्राथमिक शिक्षकों का

एक अन्य समस्या है कि शिक्षक चाहिए माध्यमिक विद्यालयों के लिए और पूल के लिए आवेदन किया है प्राथमिक विद्यालयों के शिक्षकों ने। ऐसे में वाराणसी में ही राजकीय विद्यालयों के लिए कुल 17 आवेदन प्राप्त हुए थे जिसमें से 13 प्राथमिक शिक्षक थे ऐसे में इन स्कूलों में शिक्षकों की तैनाती अब तक नहीं हो सकी है। इसके अलावा जहां तक सहायता प्राप्त स्कूलों का सवाल है तो वाराणसी में पूल ही पूरा नहीं हो सका है। पूल के लिए ही नौ अशासकीय शिक्षकों की जरूरत है। ऐसे में तैनाती प्रभावित है।

सेवानिवृत्त शिक्षकों के पदस्थापन की स्थिति
जिला- विद्यालय (राजकीय)/प्रवक्ता- एलटी ग्रेड योग- सहायता प्राप्त/प्रवक्ता- एलटी ग्रेड योग- महायोग
वाराणसी - 01-03- 04 17-46-63 67
चंदौली- 02-01-03 18-20-38 41
गाजीपुर- 00-00-00 07-07-14 14
जौनपुर- 00-01-01 25-55-80 81

Ad Block is Banned