काशी विश्वनाथ मंदिर के विस्तारीकरण कॉरिडोर योजना को सुप्रीम कोर्ट का झटका

काशी विश्वनाथ मंदिर के विस्तारीकरण कॉरिडोर योजना को सुप्रीम कोर्ट का झटका
काशी विश्वनाथ मंदिर के विस्तारीकरण कॉरिडोर योजना को सुप्रीम कोर्ट का झटका

Ashish Kumar Shukla | Updated: 12 Jun 2019, 11:05:17 PM (IST) Varanasi, Varanasi, Uttar Pradesh, India

प्राचीन कारमाइकल लाईब्रेरी के ध्वस्तीकरण पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक

वाराणसी. काशी विश्वनात मंदिर ट्रस्ट व प्रदेश सरकार की प्रस्तावित कॉरिडोर व विस्तारिकरण योजना पर ग्रहण लग गया है।कॉरिडोर की जद में आ रहे प्राचीन कारमाइकल लाईब्रेरी भवन सी.के. 36/8 के दुकानों के धवस्तीकरण पर सुप्रीम कोर्ट ने अगले आदेश तक रोक लगा दिया है। इसके पहले इस ध्वस्तीकरण को लेकर दाखिल याचिका को इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने खारिज कर दिया था। जिसके बाद भवन के दुकानदार धीरज गुप्ता व अन्य ने सुप्रीम कोर्ट में विशेष अनुमति याचिका दाख़िल किया था।

जिस पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने धवस्तीकरण पर अगले तारीख तक रोक लगा दिया है।
बतादें कि 1872 में काशी के प्राचीन लाइब्रेरी में कारमाइकल भवन को श्री काशी विश्वनाथ मंदिर न्यास ट्रस्ट ने ख़रीद लिया था। जिसमें कई दुकानें भी है। हाईकोर्ट से याचिका ख़ारिज होने के बाद ट्रस्ट के उक्त भवन को सरकार द्वारा प्रस्तावित काशी विश्वनाथ का कारीडोर योजना में शामिल करके गिराया जा रहा था। सुप्रीम कोर्ट में दाखिल याचिका की सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति इन्दिरा बनर्जी व न्यायमूर्ति अजय रस्तोगी की बेंच ने विशेष अनुमति याचिका पर सुनवाई करते हुये अग्रिम आदेशों तक ध्वस्तीकरण पर रोक लगा दिया।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned