व्हाट्सऐप पर लेते थे ऑर्डर, फिर चुराते थे बाइक, पहली बार पकड़ा गया ऑनलाइन ऑर्डर लेकर बाइक चुराने वाला गिरोह

ऑनलाइन ऑर्डर लेकर बाइक चुराने वाले गिरोह (Online Bike Lifter Gang) के सात सदस्य वाराणसी में पकड़े गए। पुलिस के अनुसर इनके तार बनारस से बिहार तक फैले हैंं ये लोग यहां से गाड़ियां चुराकर उन्हें बिहार में अलग-अलग जगहों पर बेच देते थे।

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

वाराणसी. पुलिस ने एक ऐसे बाइक उठाने वाले गिरोह का भांडा फोड़ किया है जो व्हाट्सऐप पर ऑर्डर लेकर बाइक उठाते (Online Bike Lifter Gang) थे। इस ऑटो लिफ्टर गैंग (Auto Lifter Gang) के तार बनारस से बिहार तक जुड़े हुए हैं। पुलिस की मानें तो गैंग ने अब तक सैकड़ों गाड़ियां चुराई हैं। ये लोग बिहार के अलग-अलग इलाकों में चोरी की बाइक बेचते हैं।


काशी जोन के एडीसीपी विकास चंद्र त्रिपाठी के अनुसार गिरोह के लोग व्हाट्सेएप पर ऑनलाइन ऑर्डर मिलने के बाद गाड़ी उठाते थे। इन लोगाें ने इसके लिये एक व्हाट्सऐप ग्रुप भी बना रखा था। इसी ग्रुप पर उन्हें गाड़ी का माॅडल और फोटो मिलते थे, जिसके बाद ये लोग उस गाड़ी को चुराते थे।


पुलिस की मानें तो गिरोह के लोगों के निशाने पर सबसे ज्यादा बीएचयू में सर सुंदरलाल अस्पताल रहता था। वहां तीमारदारों और डाॅक्टर्स की बाइक खड़ी रहती है। गिरोह के चोर वहां से बाइक चुराकर बिहार में बेच देते थे। अब पुलिस बिहार में इनके नेटवर्क और इनसे जुड़े की तलाश में है। इसके लिये स्थानीय पुलिस बिहार पुलिस से भी संपर्क कर रही है।


सात शातिर अंतर्राज्यीय वाहन चोरों को गिरफ्तार किया है। इनमें पंकज, रमजान, अमन, जितेश, दीपक कुमार, संदीप, दीपक चौरसिया गिरफ्तार किये गए हैं। इनके कब्जे से 10 बाइक बरामद की गई है।

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned