बुनकरों की हड़तालः प्रदशर्न कर रहे 35 बुनकरों पर मुकदमा, बुनकर साझा मंच ने कहा जरूरत पड़ी तो घेरेंगे सीएम आवास

  • बिजली फ्लैट रेट की मांग को लेकर 12 अक्टूबर से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं बुनकर
  • प्रदशर्न के दौरान कोरोना प्रोटोकाॅल के उल्लंघन के आरोप में दर्ज हुआ बुनकरों पर मुकदमा
  • प्रशासन भी हुआ सख्त, कहा किसी को प्रदशर्न की नहीं दी जाएगी इजाजत

वाराणसी. पहले की तरह फ्लैट रेट बिजली प्रणाली की बहाली को लेकर पिछले 12 दिनों से बुनकर हड़ताल पर हैं। अपनी मांगों को लेकर लगातार प्रदशर्न या मानव श्रृंखला समेत कुछ न कुछ करके सरकार से अपनी मांगों को मनवाने की कोशिश में जुटे बुनकरों के खिलाफ अब प्रशासन ने भी कड़ा रुख अपना लिया है। बुनकर कालोनी में हुए प्रदशर्न के बाद पुलिस ने कोरोना प्रोटोकाॅल के उल्लंघन के आरोप में 35 बुनकरों पर मुकदमा दर्ज किया है। इसके बाद बुनकर साझा मंच के बैनर तले सोमवार को सरैयां से शक्कर तालाब तक एक जुलूस निकालकर मुकदमे वापस लेने और फ्लैट रेट बिजली बहाल करने की मांग की गई। जुलूस की अगुवाई कर रहे बुनकर साझा मंच के मनीष शर्मा ने चेतावनी दी कि अगर सरकार हमारी मांगों को नहीं मानती है तो इसके बाद बुनकर जिला मुख्यालयों का घेराव करेंगे और जरूरत पड़ने पर उसके अगले चरण में मुख्यमंत्री आवास भी घेरा जाएगा।

 

 

दरअसल बिजली के फ्लैट रेट बहाली की मांग को लेकर बुनकर भी 15 अक्टूबर से प्रदेश व्यापी हड़ताल पर हैं। बनारस में बुनकर बिरादराना तंजीमों और संगठनों ने उत्तर प्रदेश बुनकर संघ और वाराणसी वस्त्र बुनकर संघ के बैनर तले मुर्री बंद का ऐलान किया है। इसके बाद से पावरलूम खामोश हैं और बुनकर हड़ताल पर हैं। इसी क्रम में शनिवार को बुनकर कालोनी मैदान में बुनकरों ने एक प्रदशर्न किया, जिसके बाद 35 नामजद और अन्य अज्ञात के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया। जैतपुरा थाने में तैनात उपनिरीक्षक संदीप तिवारी ने मीडिया को बताया कि बुनकर कालोनी में हुए प्रदर्शन में कोविड 19 प्रोटोकाॅल के उल्लंघन में मुकदा दर्ज किया गया है।

 

उधर डीएम ने भी प्रदशर्न करने वालों को हिदायत दी है कि प्रदशर्न की अनुमति किसी को नहीं दी जाएगी। समस्या का शांति से हल होना चाहिये और इसके लिये 5-7 लोगों का डेलिगेशन आकर मिलकर अपनी बात रखे। जिला प्रशासन को शक है कि इस आंदोलन में अब बाहर के लोग भी शामिल हो रहे हैं। बुनकर नेता हाजी ओकास अंसारी ने कहा कि मुकदमा दर्ज कर हमें डराने का काम किया जा रहा है। दावा किया कि बहुत से ऐसे लोगों पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है जो उस आंदोलन में शामिल नहीं थे।

रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned