लंबे समय बाद नगर के मुख्य मार्ग के बनने की उम्मीद जगी

तकनीकी स्वीकृति के लिए डीपीआर गया भोपाल, जल्द हो सकता है निर्माण कार्य शुरु
20 वर्षों से खस्ताहाल है मार्ग

लटेरी। नगर का मुख्य मार्ग करीब 20 वर्षों से अधिक समय से खस्ताहाल था। जिससे नागरिक परेशान हो रहे थे। एक बार डीपीआर भोपाल से निरस्त हो गया था। लेकिन अब पुन: एक डीबीआर बनाकर भोपाल भेजा गया है। जिसके करीब एक हफ्ते में स्वीकृत होकर आने की उम्मीद है। जिससे शहरवासियों को इस सड़क के दुरुस्त होने के कुछ उम्मीद जगी है।

डीपीआर में इस बार सिरोंज रोड से लेकर जय स्तंभ तक करीब ३२० मीटर की रोड निर्माण का जिक्र है। जिसकी कीमत 1 करोड़ 27 लाख रुपए आएगी। विशेष निधी के सड़क निर्माण के 1 करोड़ रूपए परिषद के पास है और 27 लाख् रूपए और नगर परिषद इसके लिए खर्च करने को तैयार है। मालूम हो कि इस रोड की चौड़ाई करीब आठ मीटर की होगी और दो-दो मीटर के फुटपाथ बनाए जाएंगे। वहीं बीच में डिवाइडर लगाए जाएंगे।

पूर्व में निरस्त हो गया था डीपीआर
मालूम हो कि पूर्व में सिरोंज चौराहा से लेकर शमशानघाट तक करीब ८०० मीटर के रोड के लिए 3 करोड़ 82 लाख रूपए का डीपीआर भेजा गया था। लेकिन डीपीआर वापस आ गया था। इसके बाद अब पुन: इस सड़क को टुकड़ों में बनाने के लिए कम राशि का डीपीआर भोपाल भेजा गया है।

पूर्व में दे चुके ज्ञापन
मालूम हो कि इस खस्ताहाल मार्ग से व्यापारी वर्ग से लेकर आम नागरिक परेशान हैं। इस सड़क की मरम्मत और पुन: निर्माण के लिए व्यापारी वर्ग के साथ ही आम नागरिक पूर्व में कई बार ज्ञापन दे चुके हैं, लेकिन अब तक उनकी सुनवाई नहीं होने से नागरिक खासे परेशान हैं।

दिनभर उड़ते हैं धूल के गुबार
इस खस्ताहाल मार्ग से दिनभर धूल के गुबार उड़ते हैं। जिसके चलते दुकानदारों को जहां दिन में कई बार साफ-सफाई करना पड़ती है। वहीं रोड किनारे रहने वाले नागरिक अपने घरों के खिड़की-दरवाजे बंद रखने में ही अपनी भलाई समझते हैं। इसके अलावा धूल के कारण कई लोग श्वांस संबंधी बीमारियों की चपेट में आ रहे हैं। वहीं खस्ताहाल मार्ग के कारण दो पहिया और चार पहिया वाहनों में रखरखाव भी खूब निकल रहा है। वहीं जरासी बारिश में यहां कीचड़ हो जाता है।

विधायक ने दिया एक पखवाड़े का समस
मालूम हो कि इस सड़क निर्माण को लेकर विधायक उमाकांत शर्मा ने एक कार्यक्रम में 15 दिन का समय दिया है। १५ दिन में सड़क निर्माण प्रक्रिया शुरु नहीं होने पर आंदोलन की चेतावनी दी थी। इस कारण प्रशासनिक अमला भी इस सड़क को जल्द से जल्द बनवाने की तैयारी में है।

इनका कहना है
हर बार डीपीआर का बहाना करके जनता को गुमराह किया जा रहा है। कई सालों से सीएमओ डीपीआर भोपाल होने का बोल देते है अगर अब टुकड़ों में रोड बनाने का बोल रहे है, तो हो सकता है बन जाए।
- रमेश पंथी, समाजसेवी, लटेरी
कई वर्षों से मेन रोड को खस्ताहाल देख रहा हूं। कई अनशन एवं कई ज्ञापन व्यापारी द्वारा दिए गए, लेकिन प्रशासनिक एवं नगर परिषद द्वारा कोई कार्रवाई मेन रोड को लेकर नहीं की जा रही है।
- घनश्याम शर्मा, व्यापारी, लटेरी
सिरोंज रोड से लेकर जयस्तंभ चौक तक पुन: डीपीआर तकनीकी स्वीकृति कार्यपालन यंत्री के यहां भेजा गया है। एक करोड़ 27 लाख रुपए का डीपीआर ए हफ्ते में आ जाएगा। उसके बाद टेंडर प्रक्रिया चालू की जाएगी।
- पीएस खरे, सीएमओ, लटेरी

Anil kumar soni Desk
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned