किशोर ने दुष्कर्म करने के बाद दलित नाबालिक को जलाया

रात के छह घंटे किशोरी के साथ रहा और सुबह तेल डालकर लगा दी आग

By: Krishna singh

Published: 04 Apr 2019, 06:16 AM IST

विदिशा. यह कच्ची उम्र के प्यार का ही मामला है जिसमें एक 17 साल का किशोर अपने ही गांव की 16 साल की किशोरी के साथ रात 12 बजे से सुबह 6 बजे तक रहा। किसी बात पर सुबह अनबन हुई और किशोर ने किशोरी को केरोसिन डालकर जला दिया। गंभीर हालत में किशोरी को परिजन जिला अस्पताल लाए, जहां से उसे 80 प्रतिशत जली हालत के कारण भोपाल रैफर कर दिया। पुलिस ने प्रकरण कायम कर आरोपी किशोर की तलाश शुरू की है।

 

मामला हैदरगढ़ थाना क्षेत्र के एक गांव का है। मंगल-बुधवार की दरम्यिानी रात किशोरी के माता-पिता खेत पर थे। रात करीब 12 बजे गांव का ही एक किशोर चुपके से किशोरी के घर में घुस गया और रात बिताने के बाद सुबह अपने साथ चलने के लिए दबाव बनाया। लड़की द्वारा विरोध करने के दौरान कपड़े फाड़ दिए। इसके बाद आरोपी ने उस पर केरोसिन डालकर आग लगाई और भाग गया। चीख पुकार सुनकर ग्रामीण पहुंचे और आग बुझाकर किशोरी के माता-पिता को सूचना दी। उनके आने के बाद किशोरी को ग्यारसपुर अस्पताल ले जाया गया, जहां से उसे जिला अस्पताल भेज दिया। यहां जिला अस्पताल में किशोरी को भर्तीकर उपचार किया गया। अस्पताल से मिली जानकारी के अनुसार किशोरी करीब 80 प्रतिशत जली है। गंभीर हालत होने से उसे भोपाल रैफर किया गया।

 

बेटी मर गई तो किसके बयान लोगे...
जिला अस्पताल से भोपाल रैफर किशोरी के यहां किसी मजिस्ट्रेट ने बयान नहीं लिए और उसे एम्बूलेंस से भोपाल भेजा जाने लगा तो परिजनों ने हंगामा कर दिया। वे भोपाल ले जाने से पहले किशोरी का बयान कराना चाहते थे। इस दौरान हैदरगढ़ थाना प्रभारी मौजूद रहे जो परिजनों का समझाते रहे कि तहसीलदार आ रहे हैं। बयान में हो रही देरी पर परिजन आक्रोश में आ गए। इनका कहना था कि हम गांव से ग्यारसपुर और यहां विदिशा तक आ गए, लेकिन जिला मुख्यालय पर अधिकारी होते हुए भी बयान लेने नहीं आ पा रहे। उनकी बेटी अगर मर गई तो फिर किसके बयान लोगे। वे आरोपी को बचाने के लिए बयान नहीं लिए जाने के आरोप पुलिस पर लगाने लगे। करीब 20 मिनट बाद नायब तहसीलदार प्रमोद उइके मौके पर पहुंचे और एंबूलेंस में ही बैठकर बयान लिए। इसके बाद एंबूलेंस भोपाल के लिए रवाना हुई।

 

आरोपी साथ ले जाना चाहता था
अस्पताल में किशोरी के माता-पिता, ताऊ एवं छोटी बहन मौजूद रही। माता पिता का कहना रहा कि वह खेत पर थे। सुबह छह बजे घटना की जानकारी मिली। उन्होंने बेटी के हवाले से बताया कि गांव के ही एक लड़के ने उनकी बेटी की यह दुर्दशा की। रात में उस पर अत्याचार किए गए। किशोरी को धमकाया गया कि किसी को भी कुछ बताया तो ठीक नहीं होगा। आरोपी उसे कहीं साथ ले जाना चाहता था।

 

दुष्कृत्य की कायमी
पुलिस ने आरोपी को भी नाबालिग बताया है। इस मामले में आरोपी के खिलाफ भादंवि की धारा 376, 457, 506, 307 तथा 3/4 पाक्सो एक्ट एवं एसटीएससी के तहत प्रकरण कायम किया है। आरोपी की तलाश जारी है।

 

आरोपी रात में किशोरी के साथ उसके घर में रहा। सुबह किसी बात पर विवाद हुआ जिस पर आरोपी द्वारा उसे मिट्टी का तेल डालकर जलाने की बात सामने आई है। वह उसे कहीं ले जाना चाहता था। प्रे्रमप्रसंग का मामला प्रतीत होता है।
-जयपाल इवनाती, थाना प्रभारी, हैदरगढ़


किशोरी के साथ अत्याचार हुआ और उसे किसी के द्वारा मिट्टी का तेल डालकर जलाया जाना सामने आया है। बयान लिए गए है। जांच का विषय है।
-प्रमोद उइके, नायब तहसीलदार, विदिशा

Krishna singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned