'मुझे न बताएं... मैं अपने कपड़ों के नीचे क्या पहनूं आैर क्या नहीं', महिला बोली- पुरुषों के पास भी है ये चीज

'मुझे न बताएं... मैं अपने कपड़ों के नीचे क्या पहनूं आैर क्या नहीं', महिला बोली- पुरुषों के पास भी है ये चीज

Vinay Saxena | Publish: Sep, 04 2018 12:02:43 PM (IST) | Updated: Sep, 04 2018 12:08:12 PM (IST) अजब गजब

कनाडा में रहने वाली 25 साल की एक लड़की को उस वक्त नौकरी से हटा दिया गया, क्योंकि उसने कंपनी का ड्रेसकोड फॉलो करने से इनकार कर दिया था।

 

नई दिल्ली: कनाडा में रहने वाली 25 साल की एक लड़की को उस वक्त नौकरी से हटा दिया गया, क्योंकि उसने कंपनी का ड्रेसकोड फॉलो करने से इनकार कर दिया था। वो ऑफिस में इनरवियर (ब्रा) पहनकर नहीं आती थी, जबकि कंपनी के रूल के मुताबिक उसे ये करना जरूरी था।

कंपनी ने ब्रा पहनना किया अनिवार्य


मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 25 साल की क्रिस्टीना शैल अलबर्टा शहर में रहती हैं। उन्होंने मई महीने में गोल्फ क्लब के रेस्तरां में एक सर्वर के रूप में नौकरी शुरू की। वह शराब परोसने का काम करती थी। कुछ समय पहले ही कंपनी ने एक नया ड्रेसकोड जारी करते हुए टेबल पर परोसने वाली हर फीमेल कर्मचारी के लिए इनरवियर (ब्रा या अंडरशर्ट) पहनना जरूरी कर दिया था।

नहीं पहनने पर नौकरी से निकाला

क्रिस्टीना ने ये ड्रेसकोड मानने से इनकार कर दिया। इसके बाद कंपनी ने उसके खिलाफ एक्शन लेते हुए उसे नौकरी से निकाल दिया। अब क्रिस्टीना ने अपनी कंपनी के खिलाफ केस करते हुए मानवाधिकार उल्लंघन की शिकायत दर्ज कराई है। उसका कहना है कि ऐसा कोई रूल पुरुषों के लिए तो नहीं है, तो हमारे ऊपर नियम क्यों थोपे जा रहे हैं। ये एक बेतुका फरमान है कि आप मुझे हुक्म दे रहे हैं कि मैं अपने कपड़ों के नीचे क्या पहनू आैर क्या नहीं।

इसलिए दो साल से नहीं पहन रही इनरवियर


शैल का कहना है कि उन्होंने दो साल पहले इनरवियर (ब्रा) पहनना बंद कर दिया था, क्योंकि इससे उन्हें बेहद तकलीफ होती थी। मेरे साथ लैंगिक भेदभाव हुआ है, इसलिए ये मानवाधिकार से जुड़ा मुद्दा है। मेरे पास निप्पल हैं जो पुरुषों के पास भी होते हैं।

महिला ने ठोका केस


क्रिस्टीना का कहना है कि उसने गोल्फ क्लब के जनरल मैनेजर से बात की तो उन्होंने कहा कि 'ये नियम लोगों से आपकी रक्षा के लिए है।' आगे उन्होंने कहा, 'मुझे पता है कि गोल्फ क्लब में जब लोग शराब पी लेते हैं, तो फिर क्या होता है।' बता दें, इस मामले में क्रिस्टीना ने मानवाधिकार कानून के तहत शिकायत की है। उनका कहना है कि पुरुषों के लिए ऐसी कोई बंदिशें नहीं हैं कि उन्हें क्या पहनना चाहिए और क्या नहीं।

Ad Block is Banned