पैरोंं में सोना न पहनने के पीछे ये हैं कारण, एक तरफ देवता जाते हैं रूठ और दूसरी ओर शरीर के साथ होता है कुछ ऐसा

पैरोंं में सोना न पहनने के पीछे ये हैं कारण, एक तरफ देवता जाते हैं रूठ और दूसरी ओर शरीर के साथ होता है कुछ ऐसा

| Updated: 11 Jan 2019, 10:35:16 AM (IST) अजब गजब

पैरों में सोने से बनी हुई पायल या बिछिया नहीं पहननी चाहिए।

नई दिल्ली। सोने का आभूषणों की चाह सबको होती है। इसकी एक अलग ही खासियत होती है जिसे चाहकर भी कोई नकार नहीं सकता है। सोने से बने गहने महिलाओं को खूब पसंद है, लेकिन पैरों में इसे धारण करने की मनाही है। यह तो आपने भी देखा होगा कि लोग सोने से निर्मित आभूषणों को पैरों में पहनने से बचते हैं।

 

विष्णु भगवान

हिंदुओं में कई तरह की मान्यताएं प्रचलित हैं जिन्हें लोग सदियों से मानते आ रहे हैं। इनमें से एक मान्यता यह है कि पैरों में सोने से बनी हुई पायल या बिछिया नहीं पहननी चाहिए। इस मान्यता के होने के पीछे की वजह यह है कि भगवान विष्णु को सोना बहुत पसंद है।

ऐसा भी माना जाता है कि सोना धारण करने से विष्णु भगवान बहुत खुश होते हैं। चूंकि सोना उन्हें बहुत पसंद है इसलिए नाभि के नीचे इसे कभी नहीं पहनना चाहिए। पैरों में सोना पहनना कहीं न कहीं उनका अपमान करने के समान है। ऐसे में व्यक्ति को उनकी कृपा नहीं मिल पाती है।

 

माता लक्ष्मी

माता लक्ष्मी का प्रिय रंग है पीला। सोने का रंग भी पीला ही होता है इसलिए सोने का कनेक्शन लक्ष्मी जी से भी है। इस वजह से भी सोने को नाभि के नीचे नहीं पहनना चाहिए इससे धन की देवी रुठ जाती हैं। ऐसे में व्यक्ति को कई सारी आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

 

gold

इन आध्यात्मिक कारणों के साथ ही अब हम वैज्ञानिक कारणों की भी बात करेंगे कि आखिर क्यों पैरों में सोना पहनने से मना किया जाता है।

विज्ञान के अनुसार, इंसान के शरीर की बनावट कुछ इस प्रकार होती है कि जिसमें शरीर के ऊपरी हिस्से यानी सिर पर ठण्डक और निचले हिस्से यानी पैरों में गर्माहट की जरूरत होती है।

सोना शरीर में गर्मी का संचार करती है। ऐसे में अगर कोई सोने को पैर में पहनता है तो उसकी गर्मी सिर तक पहुंचती है। जिससे इंसान अपने दिमाग को एकाग्र नहीं कर पाता है। दिमाग गर्म रहता है।

silver

इसके विपरीत जब चांदी के गहने आप अपने पैरों में पहनते हैं तो इससे ठण्डक निकलती है। चांदी में शीतलता पाई जाती है।यह ठण्डक पैरों से होकर मस्तिष्क तक पहुंचती है और व्यक्ति का दिमाग ठंडा रहता है। इसके अलावा चांदी की पायल पहनने से पीठ, एड़ी, घुटनों के दर्द और हिस्टीरिया जैसे रोगों से भी राहत मिलती है।ऐसा भी कहा जाता है कि पैरों में इसकी रगड़ से हड्डियां मजबूत होती हैं। इन सभी कारणों के चलते पैरों में सोने के बजाय चांदी के आभूषणों को पहनने की सलाह दी जाती है।

 

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned