scriptMatriarchal Communities in India, In Khasi marriages, men go and live with the wife and her family, woman is the sole custodian of wealth and property | भारत की इस जनजाती में शादी के बाद दूल्हा जाता है ससुराल, बच्चों को मिलता है मां का उपनाम | Patrika News

भारत की इस जनजाती में शादी के बाद दूल्हा जाता है ससुराल, बच्चों को मिलता है मां का उपनाम

इस जनजाति में घर-परिवार के सदस्यों का भार पुरुषों की जगह महिलाओं के कंधों पर होता है। बेटियों के जन्म लेने पर यहां जश्न मनाया जाता है। हां पर माता पिता की संपत्ति पर पहला अधिकार महिलाओं का होता है।

नई दिल्ली

Updated: July 31, 2022 10:09:10 pm

भारत में कई धर्म, जाति और समुदाय के लोग रहते हैं, जिनके रीति रिवाज अलग अलग होते हैं। लेकिन एक समानता सभी धर्म के लोगों में देखने को मिलती है और वो है दुल्हन की विदाई। भारत शुरू से पुरुष प्रधान देश रहा है और यहां पर प्राचीन काल से शादी के बाद दुल्हनों की विदाई की प्रथा चली आ रही है। मगर आपको जानकर ये हैरानी होगी कि भारत में ही एक ऐसी जनजाती रहती है जहां का समाज महिला प्रधान है। सिर्फ यहीं नहीं यहां पर शादी होने के बाद दुल्हन , दूल्हे के घर नहीं जाती बल्कि दूल्हा, दुल्हन के घर पर आकर रहता है।
In Khasi marriages, men go and live with the wife and her family
In Khasi marriages, men go and live with the wife and her family
यह प्रथा मेघालय की खासी जनजाति में चली आ रही है। इस जनजाति में घर-परिवार के सदस्यों का भार पुरुषों की जगह महिलाओं के कंधों पर होता है। आप यह जानकर भले ही हैरान हो रहे होंगे, लेकिन ये सच है। यह भारत के बाकी समाज से बिल्कुल उलट है। इस समुदाय में फैसले घर की महिलाएं ही करती हैं। बाजार और दुकानों पर भी महिलाएं ही काम करती हैं। बच्चों को उपनाम भी मां के नाम पर दिया जाता है।
मां के बाद परिवार की संपत्ति यहां बेटियों के नाम की जाती है। परिवार की सबसे छोटी बेटी पर सबसे अधिक जिम्मेदारी होती है। उसे माता-पिता, अविवाहित भाई-बहनों और संपत्ति की देखभाल भी करनी पड़ती है। वही घर की संपत्ति की मालिक होती है। खास बात ये हैं कि यहां बेटी होने पर खूब खुशियां मनाई जाती हैं। लड़का और लड़की को विवाह के लिए अपना जीवन साथी चुनने की पूरी आजादी दी जाती है।
इस समुदाय की खास बात यह है कि खासी समुदाय में किसी भी प्रकार के दहेज की व्यवस्था नहीं है। इस समुदाय के लोग दहेज प्रथा के सख्त खिलाफ होते हैं। यह भारत के बाकी समाज से बिल्कुल उलट है। दिलचस्प बात ये है कि बीते कुछ साल से यहां के पुरुषों ने इसे बदलने के लेकर आवाज उठानी भी शुरू कर दी है। उनका कहना है कि वे बराबरी चाहते हैं।
मगर आपको बता दें, इस जनजाती में महिला प्रधान समाज होने के बावजूद राजनीति में महिलाओं की मौजूदगी न के बराबर है। खासी समुदाय की परंपरागत बैठक, जिन्हें दरबार कहा जाता है, उनमें महिलाएं शामिल नहीं होतीं। इनमें केवल पुरुष सदस्य होते हैं, जो समाज से जुड़े राजनीतिक मुद्दों पर चर्चा करते हें और जरूरी फैसले लेते हैं। खासी समाज के लोग मेघालय के अलावा असम, मणिपुर और पश्चिम बंगाल में भी रहते हैं। जबकि पहले ये जाति म्यांमार में रहती थी। ये समुदाय झूम खेती करके अपनी आजीविका चलाता है।

यह भी पढ़ें

भारत के इस जिले में मरने के बाद भी घर वाले कराते हैं शादी, वायरल हो रही वीडियो

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon : राजस्थान में 3 अगस्त से बारिश का नया सिस्टम, पूरे प्रदेश में होगी झमाझमNSA डोभाल की मौजूदगी में बोले मुस्लिम धर्मगुरु- 'सर तन से जुदा' हमारा नारा नहीं, PFI पर प्रतिबंध की बनी सहमतिकीमत 4.63 लाख रुपये से शुरू और देती हैं 26Km का माइलेज! बड़ी फैमिली के परफेक्ट हैं ये सस्ती 7-सीटर MPV कारेंराजस्थान में भारी बारिश का दौर जारी, स्कूलों की तीन दिन की छुट्टी, आज इन जिलों में झमाझम की चेतावनीWeather Update: राजस्थान में झमाझम बारिश को लेकर अब आई ये खबरराजस्थान में आज यहां होगी बारिश, एक सप्ताह तक के लिए बदलेगा मौसमएमपी में 220 करोड़ से बनेगा 62 किमी लंबा बायपास, कम हो जाएगी कई शहरों की दूरी, जारी हो गए टेंडरसरकारी नौकरी लगवा देंगे कहकर 10 युवाओं को लगाई 75 लाख रुपए की चपत, 2 गिरफ्तार

बड़ी खबरें

Maharashtra: करोड़ों की एफडी, दो रिवॉल्वर जानें शिवसेना सांसद संजय राउत के पास कितनी है संपत्ति, ED ने कितनी की जब्तPunjab News: सर्दियों में 90% से ज्यादा घरों को मिलेगा शून्य बिजली बिल- CM भगवंत मानतमिलनाडुः सोशल मीडिया के जरिए आतंकी संगठन IS के संपर्क में था इंजीनियरिंग का छात्र, खुफिया एजेंसी ने ऐसे किया गिरफ्तारCommonwealth Games 2022: वेटलिफ्टिंग में जेरेमी लालरिनुंगा ने भारत को दिलाया दूसरा गोल्डCWG 2022 IND vs PAK: स्मृति मंधाना का तूफानी अर्धशतक, भारत ने पाकिस्तान को 8 विकेट से हरायाकांग्रेस विधायक अनूप सिंह का दावा, झारखंड सरकार गिराने की थी साजिश, '10 करोड़ और मंत्री पद का किया गया था ऑफर'विधायक भी सुरक्षित नहींः हरियाणा में विधायकों को गैंगस्टर से मिल रही धमकी, मांगा जा रहा पैसा, STF को मिला जांच का जिम्माPM मोदी की लीडरशिप में 2024 का लोकसभा चुनाव लड़ेगी BJP, पटना में राष्ट्रीय महासचिव अरूण सिंह ने किया ऐलान
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.