scripttherapy treatment for rare spinal muscular atrophy cost 14 crore | 11 हज़ार बच्चों में से एक को होती है ये बीमारी, एक खुराक होती है 14 करोड़ की | Patrika News

11 हज़ार बच्चों में से एक को होती है ये बीमारी, एक खुराक होती है 14 करोड़ की

  • न्यूरोमस्कुलर डिसऑर्डर के इलाज में अब लगेंगे 14 करोड़ रुपए
  • अब तक की सबसे महंगी है ये थेरेपी

नई दिल्ली

Published: May 27, 2019 02:32:06 pm

नई दिल्ली। कई बीमारियां ऐसी हैं जिनके इलाज में काफी पैसे खर्च हो जाते हैं। लेकिन फिर भी वह बीमारी पूरी तरह से ठीक नहीं हो पाती। अमरीका ( America ) के फूड एंड ड्रग्स एडमिनिस्ट्रेशन ( The Food and Drug Administration ) ने गंभीर किस्म की बीमारी स्पाइनल मस्कुलर अट्रॉफी (एसएमए) के इलाज के लिए जीन-थेरेपी को मंजूरी दे दी है। इस थरेपी को जोलेगेंस्मा नाम दिया गया। इस थेरेपी में करीबन 21 लाख डॉलर (करीब 14 करोड़ रुपए) का खर्च आएगा। इस थेरेपी को अब तक का सबसे महंगा इलाज बताया गया है। इससे पहले एसएमए के इलाज के लिए कई ड्रग्स विकसित की गई थीं। इनके एक डोज़ का खर्च लगभग दस डॉलर होता था।

therapy treatment for rare spinal muscular atrophy cost 14 crore

स्पाइनल मस्कुलर अट्रॉफी एसएमए की बात करें तो यह एक तरह का न्यूरोमस्कुलर डिसऑर्डर है। इसमें बच्चे की शारीरिक क्षमता झट जाती है। शोध में यह बात सामने आई है कि 11 हज़ार बच्चों में से एक ही इस गंभीर बीमारी से ग्रसित होता है। इससे पीड़ित बच्चा चल-फिर नहीं पाता है। कई केस ऐसे भी आए हैं जिनमें बच्चे की मौत 2 साल की उम्र तक हो जाती है।

बता दें कि एसएमए के इलाज में अब तक स्पिनरजा नामक दवा का इस्तेमाल हो रहा था। इस दवा का खर्च करीब 40 लाख डॉलर (करीब 27 करोड़ रुपए) पड़ जाता है। जोलेगेंस्मा को विक्सित करने वाले शोधकर्ताओं का कहना है कि जोलेगेंस्मा के आने के बाद यह खर्चा आधा हो जाएगा। इस दवा को बनाने वाली कंपनी के सीईओ का कहना है कि, 'हम सही रास्ते पर हैं और एक दिन इस बीमारी को पूरी तरह खत्म कर पाएंगे।' जहां कुछ लोग इस इलाज ने विकास के बाद खुश हैं वहीं कुछ लोगों को चिंता है।

बच्चे पर सफल रहा ट्रायल

इस इलाज के ट्रायल के दौरान ओहायो की रहने वाली टोरंस एंडरसन के बेटे मलाची को इसका डोज़ दिया गया। मलाची एसएमए से ग्रसित थे। साल 2015 में मलाची चार महीने का था जब उसपर ये ट्रायल किया गया। आज वह चार साल का है। बाकि एसएमए पीड़ित बच्चों में से वह काफी स्वस्थ है साथ ही अपनी व्हीलचेयर भी खुद चला लेता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

कोरोना: शनिवार रात्री से शुरू हुआ 30 घंटे का जन अनुशासन कफ्र्यूशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेCM गहलोत ने लापरवाही करने वालों को चेताया, ओमिक्रॉन को हल्के में नहीं लें2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.