scriptCountdown for WW-III apocalypse: Russia's atomic bomb train spotted | प्रलयकारी युद्ध की उल्टी गिनती शुरू: रूस की परमाणु बम ट्रेन और परमाणु पनडुब्बी ने कर दिया है कूच | Patrika News

प्रलयकारी युद्ध की उल्टी गिनती शुरू: रूस की परमाणु बम ट्रेन और परमाणु पनडुब्बी ने कर दिया है कूच

locationजयपुरPublished: Oct 04, 2022 08:44:56 am

Submitted by:

Swatantra Jain

Russia Nuclear Attack To Come True... युक्रेन युद्ध के मद्देनजर अब तनाव अपने चरम पर पहुंच चुका है क्योंकि पिछले दिनों रूस को मिली कुछ पराजयों के बाद अब पुतिन ने अपने परमाणु हथियारों को बोर्डर पर ले जाने के लिए आदेश दे दिया है। वहीं, नाटो भी पुतिन की धमकियों का उन्हीं की भाषा में जवाब दे रहा है। कुछ दिनों पहले नाटो चीफ ने कहा था कि पुतिन द्वारा परमाणु हथियारों के उपयोग के विनाशकारी परिणाम होंगे।

russia_atomic_train_spotted.jpg
हाल के कुछ घटनाक्रम को देखें तो लगता है कि अब दुनिया में किसी भी परमाणु युद्ध शुरू हो सकता है। खबर है कि रूस के परमाणु शस्त्रागार के लिए जिम्मेदार बलों से संबंधित एक सैन्य ट्रेन को यूक्रेन में अग्रिम पंक्तियों की ओर बढ़ते हुए देखा गया है, यह खबर ऐसे समय में आई जबकि बताया जा रहा है कि मॉस्को द्वारा दुनिया की सबसे बड़ी परमाणु पनडुब्बी को तैनात कर दिया है। ये वो पनडुब्बी है जो "एपोक्लिप्स यानी प्रलय" ड्रोन को ले जाने में सक्षम है। यूक्रेन से युद्ध के मोर्चे पर हाल में मिलीं कुछ शर्मनाक हारों की एक श्रृंखला के बाद, जिसमें डोनेट्स्क में एक प्रमुख शहर का नुकसान और खेरसॉन क्षेत्र में सबसे हालिया झटके शामिल हैं, ये नवीनतम युद्धाभ्यास व्लादिमीर पुतिन की ओर युद्ध को बेहद खतरनाक दिशा में आगे बढ़ाने की इच्छा का संकेत माने जा रहे हैं । मीडियाकी रिपोर्ट के अनुसार, रूस समर्थक टेलीग्राम चैनल रायबर ने रविवार को एक वीडियो साझा किया जिसमें मध्य रूस के रास्ते से उन्नत बख्तरबंद कर्मियों के वाहक (एपीसी) और अन्य परिष्कृत सैन्य उपकरणों को ढोते हुए एक मालगाड़ी को दिखाया गया है।
एपीसी कथित तौर पर रूसी रक्षा मंत्रालय के गुप्त 12वें मुख्य निदेशालय से संबंधित हैं, जो देश के परमाणु शस्त्रागार के प्रबंधन और उपयोगके लिए जिम्मेदार है।

रूस की परमाणु पनडुब्बी ने अपना बेस छोड़ा
इस बीच, नाटो ने भी अमरीका सहित अपने सदस्य राज्यों को चेतावनी दी कि रूस की बेलगोरोड परमाणु पनडुब्बी ने आर्कटिक सर्कल में अपना बेस छोड़ दिया है। एक इतालवी अखबार ला रिपब्लिका की ओर से ये बताया गया है।600 फीट से अधिक लंबाई वाली बेलगोरोड दुनिया की सबसे बड़ी पनडुब्बी है। यह "प्रलय का दिन" पोसीडॉन परमाणु टारपीडो ड्रोन ले जाने में सक्षम है, जो रूस के अनुसार, 1,600-फुट ऊंची परमाणु सुनामी को ट्रिगर कर सकता है, जो कि सैकड़ों मील दूर से तटीय शहरों को जलमग्न कर देगा और दशकों तक उन्हें निर्जन बना देगा।
पनडुब्बी पर तैनात है प्रलयकारी ड्रोन

बेलगोरोड, जिसने इसी जुलाई में ही रूसी नौसेना की सेवा में प्रवेश किया, को "युद्ध की एक नई अवधारणा का प्रतीक" माना जाता है, और पोसीडॉन को "सर्वनाश के हथियार" के रूप में जाना जाता है। "यह परमाणु 'मेगा टारपीडो' दुनिया के इतिहास में अद्वितीय है," अमरीकी पनडुब्बी विशेषज्ञ एच.आई. सटन ने मार्च में अपनी वेबसाइट गुप्त तटों पर लिखा था। "पोसीडॉन हथियार की एक पूरी तरह से नई श्रेणी है। यह रूस और पश्चिम दोनों में नौसैनिक नियोजन को नया रूप देगा, जिससे नई आवश्यकताएं और नए काउंटर-हथियार बनेंगे। ”
फिलहाल आर्कटिक में कहीं है ये पनडुब्बी

नाटो इंटेलिजेंस का कथित तौर पर मानना है कि अत्याधुनिक पनडुब्बी, जिसे आधिकारिक तौर पर K-329 बेलगोरोड के रूप में जाना जाता है, फिलहाल आर्कटिक में कहीं बनी हुई है और रूस के नोवाया ज़म्ल्या द्वीप के तट से कारा सागर के रास्ते में हो सकती है, ताकि गुप्त परीक्षण।गतिविधियों की एक श्रृंखला का संचालन किया जा सके। फेडरेशन ऑफ अमेरिकन साइंटिस्ट्स में न्यूक्लियर इंफॉर्मेशन प्रोजेक्ट के निदेशक हैंस क्रिस्टेंसन ने कहा कि पोसीडॉन टॉरपीडो अभी भी विकास के चरण में हैं और कम से कम अगले कई वर्षों तक यह चालू नहीं होगी।
नाटो भी नहीं हट रहा है पीछे

परमाणु ट्रेन काफिले के मूवमेंट केवीडियो और बेलगोरोड पनडुब्बी की गतिविधियों के बारे में ये खुलासे तब हुए हैं जब पुतिन ने युद्ध में परमाणु हथियारों के उपयोग की कई धमकियाँ पिछले दिनों दी हैं। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलिवन और विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने पुतिन की टिप्पणी का जवाब देते हुए रूस को चेतावनी देते हुए कहा था कि अगर वह अपने परमाणु शस्त्रागार को तैनात करता है तो इसके "विनाशकारी" परिणाम होंगे ।
यूक्रेन के चार क्षेत्रों पर कब्ज़ा करने की घोषणा करने वाले एक समारोह में शुक्रवार को एक तेजतर्रार भाषण में, पुतिन ने अमरीका पर द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान जापान पर बमबारी करते समय परमाणु हथियारों का उपयोग करने के लिए एक "उदाहरण" पेश करने का आरोप लगाया था।

सम्बधित खबरे

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

दिल्ली में श्रद्धा मर्डर जैसा एक और केस, शव के टुकड़े कर फ्रिज में रखा, मां-बेटा गिरफ्तारगुजरात चुनाव में 'आप' को झटका, वसंत खेतानी भाजपा में शामिल केजरीवाल निराशादिल्ली के स्कूल में बम की सूचना से मचा हड़कंप, डिस्पोजल स्क्वॉड मौके परगुजरात चुनाव: भाजपा के पूर्व मंत्री जय नारायण व्यास बेटे के साथ कांग्रेस में शामिलऋतुराज गायकवाड़ ने एक ओवर में 7 छक्के जड़कर बनाया विश्व रिकॉर्ड, युवराज को भी छोड़ा पीछेFIFA 2022 : मोरक्को से हारने पर बेल्जियम में दंगा, पथराव के दौरान दागे आंसू गैस के गोले, कई गिरफ्तारएनालिसिस: मुुलायम की सीट बचाने में कहीं सपा के हाथ से निकल न जाए आजम का गढ़रूबी आ‌सिफ खान बोलीं- भगवान श्रीराम ही हमारे पैंगबर थे, सबसे श्रेष्ठ है सनातन धर्म
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.