Germany Elections 2021: जर्मनी में राष्ट्रीय चुनाव के लिए वोटिंग आज, 16 साल बाद पद छोड़ेंगी एंजेला मर्केल

वोटिस से दो दिन पहले एक जर्मन टीवी न्यूज चैनल ने गलती से राष्ट्रीय चुनाव के परिणामों को प्रसारित कर दिया था। इस प्रसारण के बाद से ही वहां हंगामा मचा हुआ है और चुनावी प्रक्रिया पर सवाल खड़े हो रहे हैं।

 

By: Ashutosh Pathak

Published: 26 Sep 2021, 08:29 AM IST

नई दिल्ली।

जर्मनी में आज आम चुनाव के लिए मतदान होने जा रहा है। इस चुनाव के साथ ही वहां की चांसलर एंजेला मर्केल का अंतिम कार्यकाल खत्म हो जाएगा। वह 16 साल तक जर्मनी की सत्ता में रहीं। हालांकि, विशेषज्ञ एंजेला मर्केल के इस कार्यकाल को बेहतर और प्रभावी बता रहे हैं।

माना जाता है कि एंजेला मर्केल ने जर्मनी की राजनीति को राजनीति की जगह नीति की चर्चा में बदल दिया। उनसे पहले जर्मनी की राजनीति मैनरक्लब यानी पुरुषों का क्लब हुआ करती थी। मगर एंजेला के नेतृत्व में जर्मनी में नीतियों पर काम अधिक हुआ। यह बात बहुत कम लोग जानते हैं कि एंजेला मर्केल भौतिक विज्ञानी रही हैं। उन्होंने क्वांटम केमिस्ट्री में पीएचडी की है, इसलिए उनके पास तथ्यों पर आधारित नजरिया है और ज्यादातर समय उन्होंने उसे लागू किया है।

यह भी पढ़े:- UNGA में पाकिस्तान को भारत का सख्त संदेश- आतंक फैलाने वाले इमरान POK खाली करें

फोब्र्स मैग्जीन ने एंजेला मर्केल को करीब दस साल तक दुनिया की सबसे शक्तिशाली महिला घोषित किया। जर्मनी एक पीढ़ी ऐसी भी है, जिसने एक महिला नेता के अलावा किसी और को नहीं जाना। एंजेला के प्रमुख कार्यों में जो उल्लेखनीय रहे हैं वह यूरो को बचाए रखना और 2008 की मंदी से बेहतर तरीके से निपटना शामिल था।

एंजेला मर्केल और उनकी वित्त मंत्री ने वर्ष 2008 में जर्मन नागरिकों को यह भरोसा देने के लिए संबोधित किया कि सरकार बैंकों में जमा उनकी बचत की गारंटी देगी। वहीं, यूरो संकट के दौरान ग्रीस को कर्ज में राहत देने के लिए यूरोपीय संघ से बातचीत की। इसके अलावा उन्होंने वर्ष 2015 में हंगरी में फंसे शरणार्थियों के लिए जर्मनी ने अपनी सीमा बंद नहीं करने का निर्णय लिया।

यह भी पढ़े:- PM Modi in UNGA: 'UN पर आज कई तरह के सवाल खड़े हो रहे, प्रॉक्सी वॉर, आतंकवाद और अफगानिस्तान संकट ने इन सवालों को और गहरा कर दिया है'

बहरहाल, जर्मनी में वोटिंग रविवार को होनी है, लेकिन दो दिन पहले एक जर्मन टीवी न्यूज चैनल ने गलती से राष्ट्रीय चुनाव के परिणामों को प्रसारित कर दिया था। इस प्रसारण के बाद से ही वहां हंगामा मचा हुआ है और चुनावी प्रक्रिया पर सवाल खड़े हो रहे हैं।

चैनल के इस शो में बताया गया था कि जर्मनी के राष्ट्रीय चुनाव में यूनियन पार्टी को 22.1 प्रतिशत, सोशल डेमोक्रटिक पार्टी को 22.7 प्रतिशत, जर्मनी के लिए वैकल्पिक 10.5 प्रतिशत और फ्री डेमाक्रेटिक पार्टी को 13.2 प्रतिशत वोट मिलेंगे। वहीं, लेफ्ट और ग्रीन्स के परिणाम को दिखाने से पहले ही एआरडी बैनर को हटा लिया गया।

Ashutosh Pathak
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned