Taj Mahal: पर्यटकों को ताजमहल में यहां जाने से रोकने को लगाई जा रही मलेशियन लकड़ी की रेलिंग

Highlights:

-पर्यटकों मुख्य मकबरे पर संगमरमर की जाली के पास नहीं जा सकेंगे

-एएसआइ ने पहले से यहां बांध रखी है रस्सी

-इसमें करीब 20 लाख से अधिक का खर्च आएगा

By: Rahul Chauhan

Published: 13 Nov 2020, 08:12 AM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

आगरा। प्यार की निशानी कहने जाने वाले और दुनिया के सात अजूबों में शुमार ताजमहल में एक पर्यटकों के लिए एक और बड़ा बदलाव होने जा रहा है। जिसके बाद लोग मुख्य मकबरे पर लगी संगमरमर की जाली से नजदीक जाकर अब नीचे नहीं झांक सकेंगे। दरअसल, एएसआई द्वारा ताजमहल के मुख्य मकबरे पर संगमरमर की जाली से पहले मलेशियन लकड़ी की रेलिंग लगवाई जा रही है। जिसका कार्य शुरू हो चुकी है। इसका टेंडर पिछले वर्ष किया गया था। वहीं इससे पहले ताजमहल के कई हिस्सों में पर्यटकों को जाने से रोकने के लिए स्टेनलैस स्टील की रेलिंग भी लगवाई जा चुकी है।

यह भी पढ़ें: 5 साल में बनकर तैयार होगा देश का सबसे बड़ा डेटा सेंटर पार्क, मुंबई की इस कंपनी को जमीन आवंटित

बता दें कि ताजमहल में मुख्य मकबरे करे चारों तरफ संगमरमर की जाली लगी हुई है। जिसकी ऊंचाई बहुत होने के कारण पर्यटक जाली के नजदीक जाकर नीचे झांकते हैं। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआइ) के मुताबिक ऐसा होने से पर्यटकों के नीचे गिरने का खतरा बना रहता था। उन्हें ऐसा करने से रोकने के लिए जाली से करीब एक मीटर पहले रस्सी भी बांधी गई, लेकिन ऐसा देखने को मिला कि कई पर्यटक रस्सी को लांघकर कर जाली तक चले जाते थे। इसके मद्देनजर मुख्य मकबरे पर लकड़ी की रेलिंग लगवाने का फैसला किया गया।

पुरातत्वविद वसंत कुमार स्वर्णकार ने बताया कि ताजमहल के मेहमानखाना की तरफ रेलिंग लगा दी गई है। अभी मुख्य मकबरे के चारों तरफ भी रेलिंग लगाई जाएगी। यह रेलिंग मुख्य मकबरे से अलग नजर नहीं आए, इसको ध्यान में रखा गया है। इसके लिए मुख्य मकबरे पर सफेद संगमरमर के ब्लाक रखकर उनमें लकड़ी की रेलिंग को फिक्स किया जा रहा है और इसके बाद रेलिंग पर सफेद रंग किया जाएगा। नवंबर अंत तक यह कार्य पूरा हो जाएगा।

यह भी पढ़ें: सीएम योगी बोले- वैश्विक स्तर पर अपनी चमक बिखेर रही यूपी के इस जिले की शिल्पकला

गुजरात से मंगाई गई लकड़ी

जिस लकड़ी का इस्तेमाल ताजमहल के मुख्य मकबरे की रेलिंग बनाने में किया जा रहा है, वह मलेशियन लकड़ी गुजरात से आगरा मंगाई गई है। जानकारी के अनुसार इस पर 20 लाख रुपये से अधिक का खर्च किया गया है। वहीं जानकारों का कहना है कि यह कार्य पूर्ण होने के बाद ताजमहल देखने आने वाले पर्यटकों को मुख्य मकबरे की जाली के पास जाने से रोकने में बहुत मदद मिलेगी।

Show More
Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned