आतंक के साथ पोलियों के लिए भी खतरा बना पाकिस्तान, देखें वीडियो

रोटरी क्लब द्वारा होटल अमर में आयोजित मेगा पोलियो कैम्पेन में पांच देशों के 19 प्रतिनिधियों ने लिया भाग
भारत के पड़ोसी देशों में अभी भी मौजूद पोलियो के मामलों से भारत पर मंडरा रहे खतरे के प्रति किया आगाह

आगरा। पाकिस्तान विश्व में सिर्फ आतंक ही नहीं पोलियो के लिए भी खतरा बन कर उभर रहा है। 2012 में पोलियो मुक्त घोषित होने के बाद भी पाकिस्तान और फगानिस्तान जैसे पड़ोसी देशों के कारण भारत से पोलियो का खतरा टला नहीं है। 2019, 31 दिसम्बर तक पाकिस्तान में 117 व अफगानिस्तान में 26 मामले पाए गए हैं। जब तक भार के पड़ोसी देश पोलियो मुक्त नहीं होंगे, तब तक भारत पर भी पोलियो का खतरा मंडराता रहेगा। इसलिए पाकिस्तान व अफगानिस्तान देशों से भारत में प्रवेश करने वालों पर नजर रखने के साथ भारत में पोलियो अभियान को अभी चालू रखना होगा। खतरा उन पड़ोसी देशों के नागरिकों से अधिक है जो बिना पासपोर्ट के चोरी छुपे बार्डर से प्रवेश करते हैं।

कार्यशाला का हुआ आयोजन
रोटरी क्लब द्वारा (रोटरी क्लब ताजमहल, रोटरी क्लब नार्थ, रोटरी क्लब नार्थ ईस्ट, रोटरी क्लब ग्रेटर,रोटरी क्लब वेस्ट) होटल अमर में मेगा पोलियो कैम्पेन के तहत कार्यशाला का आयोजन किया गया। जिसमें कनाडा, आस्ट्रेलिया, अमेरिका, फ्रांस, यूएसए, न्यूजीलैंड व भारत सहित विभिन्न देशों के 100 से अधिक रोटेरियन प्रतिनिधियों ने भाग लिया। अतिथियों का स्वागत करते हुए कार्यक्रम समन्वयक राहुल वाधवा ने देश की जनता को भारत के पोलियो मुक्त होने के बावजूद 1 से 5 वर्ष तक के बच्चों को पोलियो का दवा पिलाने के लिए आह्वान किया। नेशनल पोलियो प्लस कमेटी इंडिया के पीजीडी चंद्र ऋषि (कानपुर) ने पोलियों की स्तिति पर विभिन्न देशों के आंकड़े प्रस्तुत किए। नरेश सूद ने बताया कि किस तरह से 1974 से रोटरी क्लब भारत को पोलियो मुक्त देश बनाने के लिए काम करता रहा। कार्यक्रम का शुभारम्भ दीप जालकर किया गया। विश्व भारती रोटरी स्कूल की छात्राओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए। संचालन संजय बंसल ने किया। इस अवसर पर मुख्य रूप से पीजीडी राम नरायण, डॉ. डीवी शर्मा, डॉ राजीव उपाध्याय, प्रो. जीसी सक्सेना, सचिन वाधवा आदि उपस्थित थे।

शमशाबाद में निकाली जागरूकता रैली
दोपहर 3 बजे शमशाबाद में रोटली क्लब के सदस्यों व विभिन्न स्कूलों के विद्यार्थियों द्वारा जागरूकता रैली का आयोजन किया गया। शमशाबाद चौराहे से प्रारम्भ हुई रैली ने विभन्न गांवों में घूमकर लोगों को 1-5 वर्ष तक के बच्चों को पोलियों की दवा पिलाने के लिए जागरूक किया।

2 वर्ष की उम्र से पोलियो पीडित दीपक राजोरिया ने साझा किए अपने अनुभव
आगरा। दो वर्ष की उम्र में पोलियो से ग्रस्त दीपक राजौरिया (फ्री गंज निवासी) ने अपने अनुभवों को साझा किया। बताया कि कैलीपर्स के सहारे वह चल सके। जीवन में कितनी बार गिरे, फिल उठे और चले लेकिन हार नहीं मानी। उन्होंने कैलीपर्स बनाने का हुनर सीखकर अपना जीवन अपने जैसे लोगों के लिए समर्पित कर दिया।

Show More
धीरेंद्र यादव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned