scriptGujarat police investigate france 'human trafficking' concerns case | संदिग्ध मानव तस्करी की आशंका: फ्रांस से लौटे गुजरात के लोगों की पूछताछ करेगी सीआईडी क्राइम | Patrika News

संदिग्ध मानव तस्करी की आशंका: फ्रांस से लौटे गुजरात के लोगों की पूछताछ करेगी सीआईडी क्राइम

locationअहमदाबादPublished: Dec 26, 2023 10:24:57 pm

गुजरात पुलिस ने जांच के लिए 4 विशेष टीमें गठित की हैं। इसमें चार उपाधीक्षक और 16 पीआई को लगाया है। पूछताछ के दौरान नियम के विरुद्ध कोई कायर्वाही का तथ्य सामने आने पर कार्रवाई की जाएगी। फ्रांस से लौटे लोगों में गुजरात के 21 यात्रियों के नाम आए सामने हैं। इस मामले की जांच में गुजरात पुलिस की सीआईडी क्राइम जुटी है।

संदिग्ध मानव तस्करी की आशंका: फ्रांस से लौटे गुजरात के लोगों की पूछताछ करेगी सीआईडी क्राइम
संदिग्ध मानव तस्करी की आशंका: फ्रांस से लौटे गुजरात के लोगों की पूछताछ करेगी सीआईडी क्राइम

संदिग्ध मानव तस्करी के चलते फ्रांस में रोके गए चार्टर विमान के 303 यात्रियों में से 276 को लेकर मंगलवार तड़के विमान मुंबई एयरपोर्ट पर पहुंचा। इस मामले में गुजरात पुलिस की ओर से आधिकारिक रूप से जांच शुरू करने की घोषणा की गई है।

चार दिनों से विमान (एयरबस ए 340) फ्रांस में था जो सुबह चार बजे के आसपास मुंबई पहुंचा। इस विमान ने पेरिस के पास वेट्री हवाईअड्डे से उड़ान भरी थी। इन यात्रियों में से गुजरात के 21 लोगों के नाम सामने आए हैं। इन लोगों से गुजरात पुलिस पूछताछ करेगी। यदि नियम के खिलाफ कुछ पाया जाएगा तो कानूनी कार्रवाई की जाएगी।सीआईडी क्राइम ने गठित की 4 विशेष टीमें

गुजरात सीआईडी क्राइम के पुलिस अधीक्षक (एसपी) संजय खरात ने मंगलवार को संवाददाताओं को बताया कि इस मामले में जांच शुरू की गई है। गुजरात के 21 यात्रियों के नाम का पता चला है जो पाटण, बनासकांठा और आणंद जिले के हैं। इनमें कुछ महेसाणा व गांधीनगर जिले के भी बताए जा रहे हैं।सीआईडी क्राइम ने इनके नाम सामने आने पर इनके परिजनों के बयान दर्ज करने की प्रक्रिया शुरू की है। जांच के लिए चार उपाधीक्षक, 16 पुलिस निरीक्षक (पीआई) की टीमें गठित की गई हैं। ये टीमें इनके परिजनों से बातचीत कर रही हैं। पुलिस लौटने वाले यात्रियों से भी मिलकर उनके बयान दर्ज करेगी। इन यात्रियों को पीडि़त के रूप में देखते हुए जांच की जा रही है।

मुख्य आरोपियों तक पहुंचने की होगी कोशिश

एसपी खरात ने बताया कि बीते कुछ दिनों में सीआईडी क्राइम ने 17 वीजा एजेंसियों के यहां दबिश दी थी। इनकी जांच में पता चला कि हर एजेंसी की अलग-अलग मॉडस ओपरेन्डी (एमओ) होती है। इसकी जांच की जाएगी। दस्तावेज कम होने, बनाने और व्यक्ति की क्षमता के अनुरूप राशि ली जाती है। कुछ एजेंसी लोगों को संबंधित देश में पहुंचाने के बाद राशि लेती हैं, कुछ एजेंसी काफी राशि पहले ले लेती है। सभी के पहुंचाने के रूट अलग-अलग होते हैं जिसके आधार पर भी राशि ली जाती है। फ्रांस से लौटने वाले यात्रियों के एजेंट और एजेंसी का पता लगाया जा रहा है। मुख्य एजेंट तक पहुंचने की कोशिश होगी। कुछ गलत मिलेगा तो कानून कार्रवाई की जाएगी।

भारत सरकार की एजेंसियों के साथ संपर्क में

खरात ने बताया कि जब से इन यात्रियों में गुजरात के लोगों के भी होने की बात पता चली है तब से गुजरात पुलिस भारत सरकार की संबंधित एजेंसियों के साथ संपर्क में हैं। कुछ एजेंटों का पता भी चला है अभी सिर्फ प्राथमिक जानकारी सामने आ रही है। लौटने वाले यात्रियों की पूछताछ में पुख्ता तथ्य हाथ लगने पर कार्रवाई की जाएगी।

ट्रेंडिंग वीडियो