scriptIIT-gandhinagar, professor, book, wild life, published, , conservation | IIT-Gandhinagar : प्रोफेसर ने पुस्तक में उजागर किए वन्यजीव संरक्षण के पहलू | Patrika News

IIT-Gandhinagar : प्रोफेसर ने पुस्तक में उजागर किए वन्यजीव संरक्षण के पहलू

IIT-gandhinagar, professor, book, wild life, published, , conservation;वाइल्डलाइफ कंजर्वेशन इन नॉर्थईस्ट इंडियाÓ पुस्तक पर एक चर्चा सत्र की मेजबानी की

अहमदाबाद

Updated: November 26, 2021 09:09:29 pm

गांधीनगर. विश्व वन्यजीव संरक्षण दिवस से पहले, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) गांधीनगर ने 'टाइगर्स आर अवर ब्रदर्स एंथ्रोपोलॉजी ऑफ वाइल्डलाइफ कंजर्वेशन इन नॉर्थईस्ट इंडियाÓ पुस्तक पर एक चर्चा सत्र की मेजबानी की। यह पुस्तक आईआईटी-गांधीनगर की मानविकी और सामाजिक विज्ञान शाखा में सहायक प्रोफेसर अंबिका अय्यादुरई ने लिखी है। राजीव गांधी विश्वविद्यालय, ईटानगर के नृविज्ञान के प्रोफेसर, प्रोफेसर सरित कुमार चौधरी ऑनलाइन शामिल हुए और आईआईटी-गांधीनगर के सहायक अनुसंधान प्रोफेसर आलोक कुमार कानुगो ने सत्र का संचालन किया।
IIT-Gandhinagar : प्रोफेसर ने पुस्तक में उजागर किए वन्यजीव संरक्षण के पहलू
IIT-Gandhinagar : प्रोफेसर ने पुस्तक में उजागर किए वन्यजीव संरक्षण के पहलू
ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस की ओर से हाल ही में प्रकाशित यह पुस्तक, अरुणाचल प्रदेश की चीन-भारत सीमा के पास प्रोफेसर अंबिका अय्यादुरई के दीर्घकालिक नृवंशविज्ञान क्षेत्रकार्य पर आधारित है और वन्यजीव संरक्षण की बहस और दिबांग घाटी के एक स्वदेशी समुदाय इदु मिश्मी के जीवन पर इसके प्रभाव की चर्चा गंभीर रूप से भाग लेती है।
डॉ. अय्यादुरई ने अपनी पुस्तक की मुख्य सामग्री पर प्रकाश डाला और प्राकृतिक विज्ञान, सामाजिक विज्ञान और संरक्षण के बीच संघर्ष पर चर्चा की। उन्होंने स्वदेशी समुदायों के दृष्टिकोण से संरक्षण की अवधारणा को देखने के महत्व को रेखांकित किया। वन्यजीव संरक्षण के लिए एक समावेशी, सांस्कृतिक रूप से सूचित और जन-केंद्रित दृष्टिकोण की आवश्यकता पर जोर देते हुए, डॉ अय्यादुरई ने कहा कि वन्यजीव संरक्षण में मानव-आयाम काफी हद तक अदृश्य हैं, विशेष रूप से जातीय समुदायों के आख्यान, जो संरक्षण स्थलों में और उसके आसपास रहते हैं। यह पुस्तक स्थानीय समुदायों के जीवन पर वन्यजीव अनुसंधान और संरक्षण के प्रभाव की महत्वपूर्ण अंतर्दृष्टि प्रदान करती है।
पुस्तक के बारे में प्रोफेसर सरित कुमार चौधरी ने इसे पूर्वोत्तर भारत के संदर्भ में वन्यजीव संरक्षण के मुद्दों पर एक भारतीय मानवविज्ञानी द्वारा लिखी गई अब तक की सबसे बेहतरीन पुस्तकों में से एक बताया। उन्होंने इस पुस्तक के समृद्ध मानवशास्त्रीय विवरण की सराहना कराते हुए कहा की उसे इस तरह से लिखा है कि एक नौसिखिया भी उसे समझ सकता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहकर्नाटक में कोरोना की रफ्तार तेज, 47  हजार से अधिक नए मामलेरामगढ़ पचवारा में बरसे टिकैत, कहा किसानों की जमीन को छीनने नहीं दिया जाएगाप्रदेश के डेढ़ दर्जन जिलों में रेत का अवैध परिवहन जारी, सरकार को करोड़ों का नुकसान
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.