वांछित नागोरी को एटीएस ने महाराष्ट्र से पकड़ा

सूरत गुजसीटोक मामला, 9 माह से था फरार, जेहादी षड्यंत्र सहित 24 मामले हैं दर्ज

By: MOHIT SHARMA

Published: 19 Sep 2021, 11:43 PM IST

अहमदाबाद. सूरत के लालगेट थाने में द गुजरात कंट्रोल ऑफ टेररिज्म एंड ऑर्गनाइज्ड क्राइम एक्ट 2015 (गुजसीटोक) के तहत दर्ज मामले में वांछित मो.अशरफ नागोरी को गुजरात एटीएस ने महाराष्ट्र से पकड़ा है। आरोपी बीते नौ महीनों से फरार था। नाम बदलकर पश्चिम बंगाल में रह रहा था। आरोपी के बीते दो तीन महीनों से महाराष्ट्र के नवापुरा में छिपे होने की सूचना मिलने पर एटीएस की टीम ने वहां दबिश देकर आरोपी को धर दबोचा है।
आरोपी को फिलहाल एटीएस की टीम अपने साथ अहमदाबाद लेकर आई है। उससे पूछताछ की जा रही है। उसके बाद आरोपी को सूरत पुलिस को सौंप दिया जाएगा। आरोपी के विरुद्ध सूरत में 213 से लेकर अब तक ही मारपीट, हत्या की कोशिश, आम्र्स एक्ट सहित अन्य धाराओं में 13 मामले दर्ज हैं। जिसमें चौक बाजार में छह, उमरा में एक, उधना में एक, लालगेट थाने में दो, सूरत क्राइम ब्रांच में एक और कतारगाम में एक मामला दर्ज है।जबकि मो.अशरफ नागोरी पर कुल 24 मामले दर्ज हैं। वह इससे पहले 2003 में सूरत और अहमदाबाद में पोटा के तहत दर्ज मामलों में पकड़ा जा चुका है। आरोपी को सूरत में हसमुख लालवाला पर फायरिंग करने के मामले में सात साल की सजा भी हुई थी, जिसके तहत आरोपी 2005 से 2010 तक जेल में भी रहा। आरोपी 2003 के जेहादी षडयंत्र के मामले में पोटा के तहत दर्ज मामले में पकड़ा गया था। उसमें 54 आरोपी पकड़े थे। जिस मामले में आरोपी सात साल तक जेल में रहा था। नागोरी के साथ उसके गिरोह में मो. फिरोज उर्फ गजनी अंसारी, मो.आरिफ नागोरी, वसीम कुरैशी, अब्दुल समद उर्फ गुलाम शेख शामिल हैं।

MOHIT SHARMA
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned