लॉकडाउन का छठा दिन, सुबह दुकानों पर खरीददारी करने पहुंचे लोग

सामान लेने के चक्कर में लोग सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान नहीं रख रहे हैं।

By: raktim tiwari

Updated: 30 Mar 2020, 09:21 AM IST

अजमेर.

देशव्यापी लॉक डाउन का छठा दिन शुरू हो चुका है। अजमेर में पुलिस ने सडक़ों, गलियों, मोहल्लों, कॉलोनियों में मोर्चा संभाला हुआ है। सोमवार सुबह से लोग दूध, सब्जी और जरूरी सामान खरीदने दुकानों, डेयरी पर पहुंच रहे हैं। सामान लेने के चक्कर में लोग सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान नहीं रख रहे हैं।

केंद्र सरकार ने पूरे देश में 14 अप्रेल तक लॉक डाउन घोषित किया है। अजमेर में एक ही परिवार के चार कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद शहर के लोग खौफजदा है। गंज, कोतवाली, दरगाह और क्लाक टावर थाना इलाके में कफ्र्यू जारी है। शहर का समूचा अंदरूनी हिस्सा लॉकडाउन है।

खरीद रहे दूध-परचूनी का सामान
सोमवार सुबह से लोग आवश्यक सामान खरीदने निकल रहे हैं। वैशाली नगर, सुभाष नगर, आदर्श नगर, नसीराबाद रोड, नगरा, धौलभाटा सहित इलाकों में लोग दुकानों पर परचूनी का सामान खरीदते दिख रहे हैं। फल-सब्जियों की दुकानों-ठेलों पर भी भीड़ दिखी है। रिहायशी मोहल्लों, कॉलोनियों में सब्जी के ठेले भी पहुंचे हैं।

Read More: रेलवे प्लेटफार्म सूने,ट्रैक पर सिर्फ दौड़ रही मालगाडिय़ां

भूल रहे सोशल डिस्टेंसिंग
दुकानों, ठेलों पर खरीददारी के दौरान लोग सोशल डिस्टेसिंग का ध्यान रखे हुए हैं। लेकिन कई इलाकों में इसकी अवहेलना हो रही है। कई दुकानों पर खरीददारी के दौरान लोग पास-पास खड़े हो रहे हैं। पुलिस और दुकानदार लोगों को समझाइश कर दूर-दूर खड़ा रहने की हिदायत दे रहे हैं।

फटकारने पड़ रहे डंडे
कफ्र्यूग्रस्त इलाकों और अन्य क्षेत्रों में बेवजह घूमने वाले दोपहिया-चौपहिया वाहन चलाने वालों के खिलाफ पुलिस सख्ती कर रही है। कई जगह पुलिस ने वाहन लॉक कर चाबी जब्त की है। निर्देशों की पालना नहीं करने वालों के नियमानुसार चालान बनाए जा रहे हैं। लॉकडाउन की अवहेलना करने वालों पर डंडे फटकारने पड़ रहे हैं।

Read More: #Lockdown-आटा 30 और चीनी 40 रुपए से ज्यादा में नहीं बिकेगी

बढ़ाएं रोग-प्रतिरोधक क्षमता, रह सकते हैं कोरोना से सुरक्षित

रक्तिम तिवारी/ अजमेर.

नोवल कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया को जकड़ लिया है। लाखों लोग इससे संक्रमित हो चुके हैं। भारत भी इनमें शामिल हैं। कोरोना वायरस की अब तक कोई दवा अथवा टीका नहीं बना है। लोगों का विश्वास ऐलोपैथिक मेडिसन के अलावा प्राचीन भारतीय आयुर्वेद, गुणकारी वनस्पतियों-औषधियों के अलावा होम्योपैथी पर कायम है। लोग रोग-प्रतिरोधक क्षमता (इम्यूनिटी) बढ़ाने के लिए अपने स्तर पर प्रयासरत हैं। आयुर्वेद से जुड़े वैद्य, होम्योपैथी डॉक्टर, यूनानी चिकित्सकों से भी सलाह ली जा रही है।

कोरोना संक्रमण का सीधा संबंध खांसी, जुखाम, बुखार और फेफड़ों से है। लिहाजा रोग प्रतिरोधक क्षमता बनाए रखनी बहुत आवश्यक है। आयुर्वेदाचार्य और वैद्य लोगों को इसके लिए साधारण से उपाय करने की सलाह दे रहे हैं।

Corona virus
raktim tiwari Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned