अनुभवहीन ठेकेदार तय कर रहे डिस्कॉम के 11 जिलों की दरें

जबकि पंजीयन जिला स्तर पर हुए
सीएलआरसी दर का मामला

By: bhupendra singh

Published: 22 Jun 2020, 07:01 AM IST

अजमेर. अजमेर विद्युत वितरण निगम ajmer discom की ओपरेशन एंड मेंटीनेंस विंग (ओएंडएम) के जरिए सेंटर लेबर रेट ऑफ कांट्रेक्ट (सीएलआरसी) पर करवा जाने वाले एलटी/11/33 केवी लाइनों के रखरखाव के कार्य तथा कृषि कनेक्शनों के सभी कार्यो की दरें अब अनुभवहीन ठेकेदार Inexperienced contractors तय कर रहे हैं। निगम ने हाल ही अपनी टर्नकी विंग (टीडब्ल्यू) के जरिए इसके लिए टेंडर(393) निकाला जिसमें अनुभव की बाध्यता ही हटा दी गई है। खास बात यह भी है कि ठेकेदारों का पंजीयन तो सर्कि ल (जिला) स्तर पर हुआ लेकिन वे डिस्कॉम स्तर की दरें तय कर रहे हैं। वह भी-17.10 प्रतिशत की दर से। ऐसे में काम की गुणवत्ता क्या होगी इसका सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है। काम शुरू नहीं करने और बीच में ही काम छोड़ देने पर निगम उसका कुछ नहीं कर सकता,लेकिन इससे काम में देरी होगी। अजमेर डिस्कॉम वेलेफेयर एसोसिएशन,नागौर ठेकेदार यूनियन सहित चित्तौडगढ़़,डूंगरपुर,बंासवाड़ा सहित 11 जिलों districts की की यूनियन ने आरोप लगाया कि जो टेंडर निकाला गया है वह तकनीकी रूप से सही नहीं है,क्योंकि उनका पंजीयन ही जिला स्तर का है। जबकि डिस्कॉम ने यह टेंडर पिछले साल सर्किल स्तर पर निकाला था। अब यह दरें हम पर थोपी जा रही है,यह हमारे साथ अन्याय है।
केवल मीटर लगाने का ही काम

निगम के जिन ठेकेदारों के आधार पर सीएलआरसी दरें तय की जा रही है उन्हें केवल मीटर लगाने के काम करने का ही अधिकार है। यह अधिकार खुद निगम के वर्ष 2014 में तत्कालीन अधिक्षण अभियंता (टीब्ल्यू) ने ही तय किया था। अब निगम अपने ही नियमों से परे जाकर अब ऐसे ठेकेदारों को एलटी/ 11/33 केवी लाइनों के रखरखाव के कार्य तथा कृषि कनेक्शनों का कार्य दे रहा है।

जयपुर डिस्कॉम ने मांगा अनुभव

अजमेर डिस्कॉम ने सीएलआरसी दर तय करने में जहां ठेकेदार के अनुभव की बाध्यता को खत्म कर दिया है वहीं जयपुर डिस्कॉम ने इसी तरह के ठेके देने में अनुभव की शर्त रखी है। वहां 3 साल व 20 लाख के कार्य का अनुभव आवश्यक। जबकि अजमेर डिस्कॉम ने इस शर्त को दरकिनार कर दिया है।
इनका कहना है

अनुभव बाध्यता नहीं रखी गई है। पिछले वर्ष डिस्कॉम लेवल का टेंडर किया गया था,सफल नहीं होने कारण सर्किल लेवल पर किया गया। जयपुर में भी रेट कम आई है।
अशोक कुमार,अधीक्षण अभियंता (टीडब्ल्यू विगं) अजमेर डिस्कॉम

read more: पेयजल परियोजनाओं में बिजली कनेक्शन लाइन डालने में बरती ढिलाई, चार फर्मो पर चला कार्यवाई का डंडा

bhupendra singh Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned