scriptBefore pranpratistha in Ayodhya, ancient idols unearthed in Prayagraj | प्रयागराज में निकलीं थीं प्राचीन मूर्तियां, जांच के बाद पुरातत्व विभाग ने बताई बड़ी बात | Patrika News

प्रयागराज में निकलीं थीं प्राचीन मूर्तियां, जांच के बाद पुरातत्व विभाग ने बताई बड़ी बात

locationप्रयागराजPublished: Jan 27, 2024 08:48:53 pm

Submitted by:

Krishna Rai


अयोध्या में भगवान श्रीराम की प्राण प्रतिष्ठा से ठीक पहले प्रयागराज में खुदाई के दौरान कुछ मंदिर के अवशेष और मूर्तियां मिलीं थीं। जिसको लेकर लोगों में काफी कौतूहल था। पुरातत्व विभाग द्वारा मूर्तियों की गहन जांच पड़ताल की गई। जिसमें कई प्राचीन तथ्य सामने आए हैं।

ancient_idols.jpg
प्रयागराज में खुदाई के दौरान मिलीं प्राचीन मूर्तियां व जांच करते पुरातत्व विभाग के अधिकारी
22 जनवरी को अयोध्या में भगवान श्रीराम के प्राण प्रतिष्ठा की तैयारियां चल रहीं थी। उसी दौरान 20 जनवरी को प्रयागराज के बारा तहसील क्षेत्र गांव पूरे बघेल में तालाब की खुदाई के दौरान जमीन से कुछ प्राचीन मुर्तियां निकलने लगीं। जिसे देख कर वहां हजारों लोगों की भीड़ जमा हो गई। मूर्तियों को लेकर लोगों में अजीब सा कौतूहल था। जिसके बाद इसकी सूचना पुलिस और प्रशासन को दी गई। मौके पर पहुंचे पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों ने तत्काल खुदाई रूकवा दिया और इसकी सूचना पुरातत्व विभाग के अधिकारियों को दिया। जिसके बाद शुक्रवार को पुरातत्व विभाग के क्षेत्रीय अधिकारी प्रयागराज मंडल रामनरेश पाल के साथ निर्भय प्रजापति एवं दीप कुमार मिश्रा मौके पर पहुंचे और लोगों से पूछताछ की। खुदाई के दौरान निकली मूर्तियों का गहनता से परीक्षण किया। पुरातत्व विभाग के अधिकारियों ने बताया कि जो मूर्तियां दिख रही हैं, वो 13वीं व 14वीं सताब्दी की प्राचीन मूर्तियां हैं। उन्होंने कहा कि प्राप्त अवशेषों से प्रतीत होता है कि यहां पूर्व में मंदिर स्थापित था। उसी मंदिर के ये अवशेष हैं। मूर्तियों के बारे में विभाग के उच्चाधिकारियों को जानकारी दी गई है जैसा आदेश होगा कार्यवाही की जाएगी।
मूर्ति मिलने के बाद मच गया था हडक़ंप
प्रयागराज के बारा तहसील क्षेत्र में मिट्टी खुदाई के दौरान जब प्राचीन मूर्तियों के अवशेष मिले तो पूरे गांव में हडक़ंप मच गया। लोग उसे राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा से भी जोडऩे लगे थे। हांलाकि इसकी सूचना जब पुलिस और प्रशासन को हुई तो मौके पर पहुंचे अधिकारियों ने तत्काल काम रूकवा दिया था, और यथा स्थिति बनाए रखने का निर्देश दिया था। लोगों में मूर्तियों को लेकर तमाम चर्चाएं थीं। फिलहाल पुरातत्व विभाग के अधिकारियों ने जांच करके स्पष्ट किया है कि वहां पूर्व में कोई मंदिर था। जिसका अवशेष खुदाई के दौरान मिला है।

ट्रेंडिंग वीडियो