2019 लोकसभा चुनाव को लेकर भाजपा ने बनाई नई रणनीति, सपा- बसपा को ऐसे देगी मात

2019 लोकसभा चुनाव को लेकर भाजपा ने बनाई नई रणनीति, सपा- बसपा को ऐसे देगी मात

Prasoon Kumar Pandey | Publish: Sep, 01 2018 01:30:51 PM (IST) Allahabad, Uttar Pradesh, India

संगठन को मजबूत करने के लिए शीर्ष नेतृत्व ने दिया गुरु मन्त्र

इलाहाबाद:भारतीय जनता पार्टी संगठन और सरकार आगामी 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले अपनी जमीन मजबूत करने में लग गई है।प्रदेश के वरिष्ठ पदाधिकारियों ने मंडल अध्यक्ष और बूथ प्रमुखों को चुनावी तैयारी में जुटने का संदेश दे दिया है। जिसके लिए शीर्ष नेतृत्व द्वारा तैयार की गई रूपरेखा भी पदाधिकारियों के साथ साझा की गई है। भाजपा ने कार्यकर्ताओं को जन सम्पर्क कर हर बूथ को मजबूत करने का निर्देश दिया है।साथ ही सभी बुथो को सपा, बसपा ,कांग्रेस ,मुक्त बनाने का संकल्प दिलाया है।

महानगर अध्यक्ष ने बताया की मंडल के सभी पदाधिकारियों को 50- 50 नए सदस्य बनाने की जिम्मेदारी की दी गई है। सभी को पचास नये सदस्यों को अपने साथ जोड़ना है। साथ ही उन सदस्यों के साथ अच्छे संबंध भी स्थापित करने के लिए कहा गया है।यह सम्बन्ध केवल राजनितिक न होकर उनके हर सुख दुःख में भागी दारी का होगा।बता दें कि भाजपा 31अगस्त से 5 सितंबर तक का समय महानगर प्रभारी मंडल प्रभारियों और पदाधिकारियों को आवंटित किया है।जिसके तहत सभी पदाधिकारियों को उसी बूथ पर बैठक करने के निर्देश दिए गए हैं।

गौरतलब है कि बीते दिनों भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश महामंत्री संगठन सुनील बंसल ने प्रदेश कार्यालय में बैठक आयोजित की।जिसमें सभी जिले और मंडलों के पदाधिकारियों को बुलाया गया था। जिसमें आने वाले चुनाव के मद्देनजर कार्यकर्ताओं को आवश्यक निर्देश दिए गए । वहीं भाजपा महानगर अध्यक्ष अवधेश गुप्ता ने बताया कि संगठन को मजबूत करने के लिए शीर्ष नेतृत्व से दिए गए निर्देशों का पालन हो रहा है।अवधेश गुप्ता ने कहा की आने वाले चुनाव तक शीर्ष नेतृत्व का संकल्प पूरा होगा। जिले के हर बूथ को सपा बसपा कांग्रेस मुक्त बनाने का अभियान पूरा होगा है।

दरअसल आरक्षण विधेयक पास होने के बाद भारतीय जनता पार्टी में खलबली मची है। पार्टी के अपने कार्यकर्ता और पदाधिकारी भले ही खुलकर कुछ ना बोल रहे हो, लेकिन पार्टी को आने वाले चुनाव से पहले पार्टी के भीतर खाने की खबर अच्छी नही है।वही पार्टी के बड़े नेताओं को इस बात की भी आशंका है की चुनावी साल में अगर कार्यकर्त्ता बागी हुए तो नैया पार नही हो सकती है।इसके मद्देनजर पार्टी ने बूथ से लेकर वार्ड तक में सम्पर्क स्थापित करने का अभियान चलाया है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned