पर्स में ही पूजा की सामग्री रखतीं है प्रधानमंत्री की पत्नी, यहां दो घंटे तक की पूजा

Dharmendra Adlakha

Publish: Dec, 07 2017 03:03:55 (IST) | Updated: Dec, 07 2017 03:04:55 (IST)

Alwar, Rajasthan, India
पर्स में ही पूजा की सामग्री रखतीं है प्रधानमंत्री की पत्नी, यहां  दो घंटे तक की पूजा

प्रधानमंत्री मोदी की पत्नी जशोदाबेन अपने पर्स में ही पूजा का सामान रखतीं हैं, पर्स से पूजा का सामान निकालकर उन्होंने दो घंटों तक पूजा अर्चना की।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की पत्नी जशोदा बेन ने अलवर में अधिकतर समय पूजा-अर्चना में ही बिताया। बेन ने सुबह 2 घंटे तक पूजा अर्चना की और इसके बाद वे मंदिर भी गई।


जशोदा बेन आश्रम एक्सप्रेस से सुबह अलवर पहुंची। वे यहां से सीधे अपना घर शालीमार पहुंची। यहां वे अपने परिचित के घर पहुंची। यहां ये दैनिक कार्यों से निवृत्त होकर सीधे पूजा में बैठ गई। इन्होंने करीब डेढ़ घंटे तक पूजा-अर्चना की। इन्होंने यहां नई साड़ी पहनी। इन्होंने हाथ में गोल्डन कलर की घड़ी पहन रखी थी। यहां पूजा अर्चना करने तक इन्हें करीब 12 बज गए लेकिन इन्होंने कुछ भी खाया और पीया नहीं।


इसके बाद ये अपना घर-शालीमार में स्थित मंदिर में गर्ई। यहां इन्होंने शिव मंदिर में पूजा अर्चना की और भगवान शिव को जल चढ़ाया। इन्होंने भगवान श्रीराम दरबार व मां दुर्गा की पूजा अर्चना की। बाद में पीपल की सात परिक्रमा कर उस पर धागा बांधा। मंदिर में पूजा अर्चना के बाद उन्हें गेट पर याद आया तो अपनी भाभी को उन्होंने 20-20 रुपए के तीन नोट यहां के गुल्लक में डालने को दिए। इनके साथ यहां इनके भाई अशोक व भाभी भी साथ थी। इनका कहना था कि वे इलाहाबाद में आयोजित तेली समाज के सामूहिक विवाह समारोह में शामिल होने जा रही हैं। इस दौरान वे आश्रम एक्सप्रेस से दिल्ली जा रही थी। अलवर में उनके परीचित नानक राठौड़ ने उन्हें अलवर कुछ देर रुकने को कहा तो वे कुछ देर यहां ठहरने के बाद सडक़ मार्ग से दिल्ली जा रही हैं।


जशोदा बेन ने अपने पर्स में अगरबत्ती, धूप और देशी घी सहित सभी पूजा की सामग्री रख रखी थी। इन्होंने मंदिर में अपनी ही पूजन सामग्री से पूजा अर्चना की। इनके साथ आई इनकी भाभी इन्हें पूजा अर्चना का सामान पकड़ा रही थी।


अधिकतर रखती हैं व्रत


जशोदा बेन के साथ आई इनकी भाभी ने बताया कि ये सात दिनों में अधिकतर दिनों में व्रत रखती हैं। ये जहां भी जाती हैं तो अपनी पूजन सामग्री साथ रखती हैं। इनका पूरा ध्यान भगवान की पूजा अर्चना में ही रहता है। इनकी भाभी का नाम भी जशोदा ही है।


अपना सामान स्वयं संभालती रही


जशोदा बेन बेहद सरल स्वभाव की हैं। अलवर में जिस घर में ये कुछ घंटे रही, इस दौरान वे बिल्कुल विनम्र व शालीन तरीके से रही। इस दौरान वे बिल्कुल शांत रही। यहां उन्होंने अपने बैग में कपड़े व अन्य सामग्री रखी। वे बुजुर्गों की तरह सभी को आशीर्वाद दे रही थी। यहां बहुत सी महिलाओं ने इनके साथ सेल्फी ली और फोटो खिंचवाए। कॉलेज में भी छात्राओं में उनके साथ फोटो खिंचवाने की उत्सुकता बनी रही। दोपहर तक इन्होंने अलवर में मात्र कॉफी
ही पी।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned