scriptMissing files from Zilla Parishad found here | जिला परिषद से गायब पत्रावलियां यहां मिलीं | Patrika News

जिला परिषद से गायब पत्रावलियां यहां मिलीं

locationअलवरPublished: Jan 16, 2024 11:32:31 am

Submitted by:

susheel kumar

जिला परिषद में वर्ष 2022 में गायब 14 पत्रावलियों का पता लग गया है। सूचना के अधिकार में नया खुलासा हुआ है। गायब पत्रावलियां, पत्रावली न होकर सिंगल नोटशीट थी, जिनकी प्रतियां पहले से ही जिला परिषद में मौजूद थीं, जो अब सूचना आयोग के दखल के बाद आरटीआई कार्यकर्ता को भेजी गईं। यही कारण रहा कि परिषद की ओर से जो संदेह पूर्व सीईओ व कर्मचारी पर किया गया था, उसको लेकर रिपोर्ट दर्ज नहीं कराई गई। माना जा रहा है कि परिषद ने नाम की ही पत्रावली गायब होने का शोर उड़ाया था।

जिला परिषद से गायब पत्रावलियां यहां मिलीं
जिला परिषद से गायब पत्रावलियां यहां मिलीं
सूचना आयोग का दखल...और सामने आया गायब पत्रावलियों का सच
- जिला परिषद में वर्ष 2022 में 14 पत्रावलियां गायब होने का उड़ा था शोर, पूर्व सीईओ व कर्मचारी पर था शक
- आरटीआई में खुलासा, पत्रावलियां नहीं वह थी सिंगल नोटशीट, इनकी प्रतियां पहले ही जिला परिषद में रखी हुई मिली
जिला परिषद में वर्ष 2022 में गायब 14 पत्रावलियों का पता लग गया है। सूचना के अधिकार में नया खुलासा हुआ है। गायब पत्रावलियां, पत्रावली न होकर सिंगल नोटशीट थी, जिनकी प्रतियां पहले से ही जिला परिषद में मौजूद थीं, जो अब सूचना आयोग के दखल के बाद आरटीआई कार्यकर्ता को भेजी गईं। यही कारण रहा कि परिषद की ओर से जो संदेह पूर्व सीईओ व कर्मचारी पर किया गया था, उसको लेकर रिपोर्ट दर्ज नहीं कराई गई। माना जा रहा है कि परिषद ने नाम की ही पत्रावली गायब होने का शोर उड़ाया था।
इस तरह बनाया गया माहौल
जिला परिषद की साधारण सभा की बैठक 30 नवंबर 2022 में मुद्दा उठा कि 14 महत्वपूर्ण पत्रावलियां और पत्र पूर्व मुख्य कार्यकारी अधिकारी को भिजवाए थे जो प्राप्त नहीं हुए। यह सभी पत्रावलियां महत्वपूर्ण थी, इसलिए पत्रावली गायब होने पर प्राथमिकी दर्ज करने का निर्णय साधारण सभा में सर्वसम्मति से लिया गया।
खूब दौड़े आरटीआई कार्यकर्ता
इसके बाद सिविल लाइंस निवासी महेश यादव ने जिला परिषद में आरटीआई लगाकर गायब पत्रावलियों की जानकारी मांगी तो जिला परिषद ने कोई जवाब नहीं दिया। इसके बाद जिला प्रमुख के पास पहली अपील पेश की तो भी जवाब नहीं दिया। मामला सूचना आयोग में गया तो अब आवेदक को जिला परिषद की ओर से सूचना भिजवाई गई हैं। सूचना में पाया गया है कि गायब हुए दस्तावेज पत्रावली नहीं बल्कि जिला प्रमुख की ओर से सीईओ को समय-समय पर लिखे गए कुछ पत्र और सिंगल पैरा की कुछ नोटशीट थीं। यही कारण रहा कि जिस पर आरोप लगाए गए थे उन पर मुकदमा दर्ज नहीं कराया।
गायब पत्र ये थे
जिला प्रमुख की ओर से मुख्य कार्यकारी अधिकारी को एक पैरा की नोटशीट में प्रशासन एवं स्थापना स्थाई समिति की बैठक रखने, निजी आय से नया एयर कंडीशनर, पर्दे और कप-ग्लास खरीदने की कार्रवाई करने, जिला प्रमुख से बिना पूछे सीईओ के छुट्टी लेने, बिना जिला प्रमुख से पूछे कर्मचारियों को कार्यभार आवंटन करने, साधारण सभा करने के लिए तथा जिला परिषद के दो अधिशासी अभियंताओं को कार्य मुक्त करने के लिए लिखी गई सिंगल नोटशीट हैं।

ट्रेंडिंग वीडियो