जिस विधानसभा सीट पर कांग्रेस का है कब्जा, वहीं से इस बार कांग्रेस के ही 42 दावेदार, हो सकता है भीतरघात

जिस विधानसभा सीट पर कांग्रेस का है कब्जा, वहीं से इस बार कांग्रेस के ही 42 दावेदार, हो सकता है भीतरघात

rampravesh vishwakarma | Publish: Sep, 07 2018 03:40:39 PM (IST) Ambikapur, Chhattisgarh, India

42 आवेदन के फेर में उलझी कांग्रेस तो भाजपा में भी टिकट पाने कई दावेदारों के बीच चल रही है लड़ाई

अंबिकापुर. प्रेमनगर विधानसभा का उम्मीदवार तय करने में कांग्रेस को काफी माथापच्ची करनी पड़ रही है। वजह यह है, कि इस सीट से सबसे अधिक 42 दावेदार के आवेदन आए हैं अब ये वर्तमान कांग्रेस विधायक खेलसाय सिंह के प्रति स्थानीय कार्यकर्ताओं में ही नाराजगी का नतीजा है या टिकट देने की प्रक्रिया का, इसका जवाब पार्टी के ही पास है।


वैसे विधायक के इस कार्यकाल के दौरान बीच-बीच में वहां के पदाधिकारी व कार्यकर्ता उनकी कार्यशैली के प्रति खुली नाराजगी जाहिर करते देखे जा चुके हैं, इसलिए इस बार यहां से सर्वसम्मति से प्रत्याशी चयन करना कांग्रेस के लिए बड़ी चुनौती होगी। पिछले चुनाव में खेलसाय सिंह ने भाजपा की पूर्व मंत्री रेणुका सिंह को हराया था।

कांग्रेस से 42 दावेदार ने टिकट मांगा हैं। इनमें खेलसाय सिंह के अलावा पार्टी की तरफ नरेश राजवाड़े, रामचंद्र सिंह, महेंद्र कुमार साहू, पूर्णिमा राजवाड़े, विमलेश दत्त तिवारी, रामकृष्ण ओझा, मेदनी सिंह, गंगा प्रसाद रवि सहित अन्य 33 दावेदार हैं।

वहीं भाजपा की तरफ से रेणुका सिंह के अलावा कई अन्य नेता दावेदारी ठोक रहे हैं, इनमें पुष्पा सिंह, रामकृपाल साहू, विजय प्रताप सिंह, बाबूलाल अग्रवाल व भीमसेन अग्रवाल पूरे दम-खम के साथ टिकट पाने की जुगत में हैं।


भीतरघात का करना पड़ सकता है सामना
कुछ नेता तो अपनी टिकट पक्की मानकर चुनावी प्रचार-प्रसार में जोर-शोर से लगे हुए हैं, सोशल मीडिया पर भी ये काफी सक्रिय हैं, लेकिन अब देखने वाली बात ये है कि भाजपा प्रत्याशी किसे चुनती है, क्योंकि हारी हुई सीट को जीतने के लिए सही प्रत्याशी का चयन ही सत्ताधारी दल के लिए बड़ी चुनौती साबित होना है, साथ ही इस सीट पर भीतरघात की स्थिति का सामना दोनों दल को करना पड़ सकता है।

वहीं जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जोगी) ने प्रेमनगर के लिए जिला पंचायत सदस्य पंकज तिवारी को अपना उम्मीदवार घोषित किया है। उन्होंने अपना सघन चुनावी प्रचार-प्रसार शुरू भी कर दिया है। इस सीट पर आप ने मालती राजवाड़े को अपना उम्मीदवार घोषित किया है। वे समर्थकों के साथ प्रचार-प्रसार में सक्रिय हैं।


भटगांव विस पर फतह करने कांटे की लड़ाई
भटगांव विधानसभा की बात करें तो इस बार यहां भी चुनावी मुकाबला काफी रोचक होने वाला है। फिलहाल कोई भी आंकलन नहीं कर सकता कि यह सीट किसकी झोली में जाएगी। पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के नए चेहरे पारसनाथ राजवाड़े ने भाजपा की विधायक रजनी रविशंकर त्रिपाठी को हराया था।

5 साल बाद इस विधानसभा में परिस्थितियां बदली हुई हैं, दोनों दल ने ताकत झोंक दी है। इस बार कांग्रेस से वर्तमान विधायक पारसनाथ राजवाड़े के अलावा रामचंद्र राजवाड़े, भगवती राजवाड़े, सुभाष गोयल, छत्तरलाल सांवरे, राजू कुमार गुप्ता, संदीप शर्मा, अरविंद शरण सिंह, शिवबालक यादव व रुपा रानी ने टिकट के लिए दावेदारी ठोकी है। वहीं भाजपा से भी पूर्व विधायक रजनी रविशंकर त्रिपाठी के अलावा कई दिग्गज के नाम पैनल में बताए जा रहे हैं।

ऐसा कहा जा रहा है कि गृहमंत्री रामसेवक पैंकरा अपना विधानसभा क्षेत्र छोड़कर भटगांव से चुनाव लड़ सकते हैं। इनके अलावा इस सीट पर अजय गोयल, गिरीश गुप्ता, विजय प्रताप सिंह के नाम प्रमुख दावेदारों में हैं। तीनों ही पदाधिकारी अपने-अपने क्षेत्र में सघन जनसंपर्क में लगे हुए हैं।

जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जोगी ने इस विधानसभा से सुरेंद्र चौधरी को पहले ही उम्मीदवार घोषित कर दिया है, उनका क्षेत्र में प्रचार-प्रसार जारी है। इसी तरह के आप के उम्मीदवार आरटीआई कार्यकर्ता डीके सोनी भी विभिन्न कार्यक्रम के माध्यम से प्रचार-प्रसार में लगे हुए हैं।

Ad Block is Banned