दवाइयों का थोक व्यवसायी निकला कोरोना पॉजिटिव, 3 जिले के रिटेलरों से मिला, शहर के 2 हॉस्पिटल में कराया इलाज

Covid-19: मेडिकल एजेंसी संचालक के मोहल्ले को प्रशासन ने घोषित किया कंटेनमेंट जोन, कोरोना संक्रमित की ट्रैवल हिस्ट्री भी नहीं, मचा हडक़ंप

By: rampravesh vishwakarma

Published: 07 Jul 2020, 02:51 PM IST

अंबिकापुर. सरगुजा में कोरोना संक्रमितों (Covid-19) की संख्या में हर दिन इजाफा हो रहा है। अब तक मिले लगभग सभी संक्रमितों की ट्रैवल हिस्ट्री रही है लेकिन सोमवार की रात अंबिकापुर शहर के एक ऐसे व्यक्ति की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, जिसकी कोई ट्रैवल हिस्ट्री भी नहीं है।

उक्त व्यक्ति सरगुजा संभाग के 3 जिले में घूमकर मेडिकल दुकान के रिटेलरो से भी मिला और शहर के 2 हॉस्पिटल में इलाज भी कराया। ऐसे में यहां कम्यूनिटी ट्रांसमिशन का खतरा बढ़ गया है। फिलहाल कोरोना संक्रमित (Covid-19) को कोविड अस्पताल में भर्ती कराया गया है।


अंबिकापुर शहर के दर्रीपारा निवासी 46 वर्षीय व्यक्ति दवाइयों का थोक विक्रेता है। उसकी बिलासपुर चौक पर दुकान है। वह अंबिकापुर, सूरजपुर व बलरामपुर जिले में दवाइयों की सप्लाई करता है तथा उनसे मिलकर बिल की वसूली करता है। सप्ताहभर पूर्व सर्दी-बुखार की शिकायत आने पर उसने शहर के 2 हास्पिटल में कुछ दिनों तक अपना इलाज कराया।

इस दौरान उसका सैंपल जांच के लिए लिया गया था। इसी बीच सोमवार की रात उसकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव (Covid-19) आई। इससे शहर में हडक़ंप मच गया है। रिपोर्ट पॉजिटिव आते ही स्वास्थ्य अमले द्वारा उसे कोविड अस्पताल में भर्ती कराया गया। इधर प्रशासन द्वारा उसके निवास स्थल के आस-पास के क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया गया है।

इस दौरान वहां किसी के प्रवेश करने या बाहर निकलने पर पूरी तरह से प्रतिबंध रहेगा। सिर्फ मेडिकल इमरजेंसी में ही बाहर निकलने की अनुमति मिलेगी। (Covid-19)


3 जिलों के रिटेलरों से मिला
सूत्रों के अनुसार मेडिकल एजेंसी का संचालक सरगुजा संभाग के सरगुजा, सूरजपुर व बलरामपुर जिले के विभिन्न मेडिकल दुकान में दवाइयों की सप्लाई करता है। संक्रमण काल के दौरान वह सूरजपुर, बलरामपुर, वाड्रफनगर, बिश्रामपुर, श्रीनगर, लखनपुर समेत अन्य स्थानों के रिटेलरों से मिला था। उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आने की खबर मिलते ही संबंधित रिटेलर संचालकों द्वारा भी अपना सैंपल जांच के लिए दिया जा रहा है।


शोक संवेदना जताने भी हुआ शामिल
गौरतलब है कि कोरोना संक्रमित मेडिकल एजेंसी संचालक शहर में 2 दिन पूर्व हुए एक वृद्ध महिला के निधन पर अंतिम यात्रा में शामिल होने भी पहुंचा था लेकिन परिजन द्वारा शव ले जाए जाने के बाद वह घर लौट गया था। इसके अलावा हर दिन वह करीब दर्जनभर लोगों से मिलता था। ऐसे लोगों की पहचान कर उन्हें हाईरिस्क जोन में रखा गया है। वहीं परिवार के सदस्यों के भी सैंपल लिए जा रहे हैं।


नहीं है ट्रैवल हिस्ट्री
कोरोना संक्रमित व्यक्ति की कोई ट्रैवल हिस्ट्री भी नहीं है। न ही वह विदेश या दूसरे राज्यों से आए कोरोना संक्रमितों के संपर्क में आया है। ऐसे में वह कैसे संक्रमित हो गया, यह समझ से परे है। स्वास्थ्य विभाग भी इस बात को लेकर चिंतित है। ऐसे में कम्यूनिटी ट्रांसमिशन का खतरा बढ़ सकता है।

Show More
rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned