किसी ने सोचा न था कि मां-बेटे को इस तरह ले जाएगी मौत, साथ सोए थे लेकिन साबित हुई अंतिम रात

किसी ने सोचा न था कि मां-बेटे को इस तरह ले जाएगी मौत, साथ सोए थे लेकिन साबित हुई अंतिम रात

Ram Prawesh Wishwakarma | Updated: 30 Jul 2019, 09:34:56 PM (IST) Ambikapur, Surguja, Chhattisgarh, India

Mother-son death: आधी रात बेटे की खुल गई नींद तो रोने लगा, मां भी उठी, लाइट जलाकर देखा तो मौत भी थी कमरे में

अंबिकापुर. रविवार की रात मां-बेटा साथ सोए थे लेकिन वह उनकी जिंदगी की अंतिम रात होगी, यह किसी ने सोचा नहीं था। आधी रात जमीन पर सोने के दौरान दोनों को करैत सांप ने डस (Snake bite) लिया।

दोनों को अस्पताल ले जाया गया लेकिन बेटे ने वहीं दम तोड़ दिया। गंभीर स्थिति में मां को हायर सेंटर रेफर किया गया, यहां कुछ घंटे बाद उसकी भी मौत (Mother-son death) हो गई। इस घटना से परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है।


सूरजपुर जिले के ग्राम तेलसरा निवासी सुमित्रा सिंह पति अमर सिंह 35 वर्ष रविवार की रात खाना खाने के बाद सोने चली गई। उसने कमरे में जमीन पर बिस्तर बिछाया और 14 वर्षीय बेटे खेम सिंह के साथ सो गई। रात करीब 1.30 बजे बेटा अचानक उठकर रोने लगा, मां को भी पैर में कुछ काटने का अहसास हुआ तो उठ गई।

शोर मचाकर उसने पति व अन्य लोगों को बुलाया। जब परिजनों ने कमरे की लाइट जलाई तो वहां डंडा करैत सांप लेटा हुआ था। फिर उन्होंने मां-बेटे के पैरों में सांप डसने (Snake bite) का निशान देखा तो तत्काल सूरजपुर जिला अस्पताल लेकर पहुंचे। यहां इलाज के दौरान बेटे की मौत हो गई, वहीं गंभीर स्थिति को देखते हुए महिला को डॉक्टरों ने रेफर कर दिया।

डॉक्टरों के कहने पर परिजन द्वारा महिला को मेडिकल कॉलेज अस्पताल अंबिकापुर में भर्ती कराया गया, यहां इलाज के दौरान सोमवार की सुबह उसकी भी मौत हो गई। मां बेटे की मौत से परिजनों में मातम पसर गया है।


झाडफ़ूंक कराने की थी तैयारी
महिला की मौत के बाद पति व अन्य परिजन झाडफ़ूंक से उसे जिंदा करने की तैयारी कर रहे थे। वे शव का पीएम कराने को राजी नहीं थे। यह बात जब सहायता केंद्र प्रभारी ेएएसआई निर्मला कश्यप को पता चली तो उन्होंने सूरजपुर के उस बैगा से मोबाइल पर बात की, जो वहीं से लाश को जिंदा करने की बात कह रहा था। एएसआई ने जब उसे डांट लगाई और परिजनों को समझाइश दी तो पीएम कराने को राजी हुए।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned