America: फेसबुक, ट्विटर और गूगल के CEO आज सीनेट के सामने होंगे पेश, सांसद करेंगे सवाल-जवाब

HIGHLIGHTS

  • Twitter, Facebook, Google CEOs Will Testify Before Senate Committee: फेसबुक, ट्विटर और गूगल के सीईओ आज सीनेट की वाणिज्य समिति के समक्ष गवाही देने के लिए पेश होंगे।
  • अमरीकी सीनेट की विशेष समिति ने इसी महीने तीनों कंपनियों के सीईओ को गवाही देने के लिए बुलाने की योजना को सर्वसम्मति से मंजूरी दी थी।

By: Anil Kumar

Updated: 28 Oct 2020, 06:26 AM IST

वाशिंगटन। सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ( Social Media Platform ) के इस्तेमाल पर एकाधिकार स्थापित करने के उद्देश्य से अपने प्रतिद्वंद्वियों के कामकाज को नुकसान पहुंचाने के आरोपों के संबंध में अब एक बार फिर से अमरीकी सीनेट ( American Senate ) के सामने फेसबुक, ट्विटर और गूगल के सीईओ को पेश होना होगा।

फेसबुक, ट्विटर और गूगल के सीईओ आज (28 अक्टूबर, बुधवार) अमरीकी सीनेट की वाणिज्य समिति के समक्ष स्वेच्छा से गवाही देने के लिए पेश होंगे। इस दौरान अमरीकी सांसद तीनों से कुछ सवाल जवाब करेंगे। सांसद तीनों तकनीकी कंपनियों के सीईओ से इंटरनेट कंपनियों की रक्षा करने वाले एक प्रमुख कानून को लेकर जवाब मांगेंगे।

Imran Khan की फेसबुक से अपील, इस्लामोफोबिया से जुड़ी सामग्री पर पांबदी लगाई जाए

इस संबंध में पहले ही फेसबुक और ट्विटर ने पुष्टि की थी कि उनके सीईओ अमरीकी सीनेट के सामने पेश होंगे। कंपनी ने बताया था कि फेसबुक के सीईओ मार्क जुकरबर्ग और ट्विटर के सीईओ जैक डोरसी जांच समिति के सामने उपस्थित होंगे। वहीं अल्फाबेट के स्वामित्व वाले गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई भी गवाही देने के लिए समिति के समक्ष पेश होंगे।

मालूम हो कि इस महीने के शुरुआत में ही सीनेट की विशेष समिति ने तीनों कंपनियों के सीईओ को गवाही देने के लिए बुलाने की योजना को सर्वसम्मति से मंजूरी दी थी।

american_senate.png

इससे पहले भी पेश हो चुके हैं तीनों सीईओ

आपको बता दें कि इससे पहले अभी हाल ही में गूगल, फेसबुक, एपल और अमेजन के प्रमुख कार्यकारी अधिकारी प्रतिनिधि सभा की ज्यूडिशियरी कमेटी के एंटीट्रस्ट पैनल के सामने पेश हुए थे। सभी ने इस पैनल के सामने गवाही देते हुए अपनी बात रखी थी।

गूगल पर अमरीका ने क्यों एंटीट्रस्ट कानून के तहत किया मुकदमा, जानिए पूरा मामला

पैनल इस बात की जांच कर रहा है कि कैसे कंपनियों का कामकाज अपने प्रतिद्वंद्वियों के कामकाज को नुकसान पहुंचा रहा है। बहरहाल, अब देखना दिलचस्प होगा कि तीनों कंपनियों की सीईओ अपने पक्ष में क्या दलील पेश करते हैं और फिर समिति उसपर क्या निर्णय लेती है।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned