अब अमरीका में मिला कोरोना का सबसे खतरनाक रूप, वैज्ञानिकों को सताया वैक्सीन के बेअसर होने का डर

HIGHLIGHTS

  • America Corona New Strain: अमरीका के ओरिगॉन में ब्रिटेन में मिले वायरस का नया प्रकार मिला है, जो पहले से भी अधिक खतरनाक है।
  • सबसे चिंता की बात ये है कि इस नए प्रकार के कोरोना वायरस एक नए म्यूटेशन के साथ मिला है, जिसके कारण वैक्सीन का प्रभाव कम होने की पूरी संभावना है।

By: Anil Kumar

Updated: 07 Mar 2021, 10:44 PM IST

वाशिंगटन। कोरोना महामारी के प्रकोप से जूझ रही पूरी दुनिया के सामने चुनौतियां खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। कोरोना वैक्सीनेशन की शुरुआत भले ही दुनिया के करीब आधे देशों में हो चुकी है, लेकिन इसके बावजूद भी हर दिन नई-नई चुनौतियां सामने आ रही हैं। कई देशों में कोरोना के नए स्ट्रेन सामने आने के बाद से वैज्ञानिकों की चिंताएं पहले से ही बढ़ी हुई है और अब अमरीका में कोरोना वायरस का सबसे खतरनाक रूप मिलने से वैज्ञानिकों की चिंताएं और भी बढ़ गई हैं।

वैज्ञानिकों को ये डर सताने लगा है कि वर्तमान में मौजूद कोरोना वैक्सीन के असर को कहीं ये वायरस बेअसर न कर दे। यदि ऐसा होता है तो फिर दुनिया में भारी तबाही मच सकती है। लाखों लोगों की जान इस वायरस की वजह से जा सकती है। बताया जा रहा है कि अमरीका के ओरिगॉन में ब्रिटेन में मिले वायरस का नया प्रकार मिला है, जो पहले से भी अधिक खतरनाक है।

America: कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच राष्ट्रपति बिडेन ने यूरोप और दक्षिण अफ्रीका के यात्रियों पर लगाया प्रतिबंध

सबसे चिंता की बात ये है कि इस नए प्रकार के कोरोना वायरस एक नए म्यूटेशन के साथ मिला है, जिसके कारण वैक्सीन का प्रभाव कम होने की पूरी संभावना है। इस बीच जानकारों और स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने लोगों से सतर्क रहने और कोरोना वायरस को लेकर बुनियादी सावधानियों का पालन करने को कहा है।

अमरीका में तेजी से बढ़ सकते हैं संक्रमण के नए मामले

बताया जा रहा है कि शोधकर्ताओं को अब तक ऐसे कॉम्बिनेशन वाला सिर्फ एक ही मामला मिला है, लेकिन शोधकर्ताओं को जैनेटिक एनालिसिस करने पर पता चला है कि ये नया वैरिएंट समुदायों में फैल चुका है। यह किसी एक व्यक्ति में तैयार नहीं हुआ है। ओरिगॉन हेल्थ एंड साइंस यूनिवर्सिटी के ब्रायन ओ रॉक का कहना है कि ये वैरिएंट अचानक सामने आया है।

इससे पहले ब्रिटेन में मिले B.1.1.1.7 वैरिएंट तेजी के साथ अमरीका में लोगों को अपना शिकार बना रहा है। यह नया स्ट्रेन वास्तविक कोरोना वायरस से बहुत अधिक खतरनाक है। ऐसे में ये अनुमान लगाया जा रहा है कि आने वाले कुछ हफ्तों में इस नए वैरिएंट्स के कारण अमरीका में भारी संख्या में नए मामले सामने आएंगे।

America: राष्ट्रपति बिडेन के उप सहायक व WHMO के निदेशक नियुक्त किए गए भारतीय-अमरीकी माजू वर्गीज

विशेषज्ञों के अनुसार, ओरिगॉन में मिले नए प्रकार के वायरस में इसी तरह की चीज के साथ एक म्यूटेशन (E484K या Eek) भी शामिल है, जो कि दक्षिण अफ्रीका, ब्राजील और न्यूयॉर्क शहर में फैल रहे वायरस में भी देखने को मिला है।

दक्षिण अफ्रीका में हुए क्लीनिकल ट्रायल्स में पता चला है कि Eek म्यूटेशन इम्यून प्रतिक्रिया को नुकसान पहुंचाकर मौजूदा वैक्सीन को कम असरदार बनाता है। ब्रिटने में सामने आए Eek के साथ B.1.1.7 वैरिएंट को वैज्ञानिक 'चिंता का कारण' मान रहे थे। अब फाइजर-बायोएनटेक और मॉडर्ना ने मौजूदा वैक्सीन के नए वर्जन की टेस्टिंग शुरू कर दी है।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned