जलवायु सम्मेलन से पहले सैन फ्रांसिस्को में हजारों लोग सड़कों पर उतरे, उठाई ये बड़ी मांग

जलवायु सम्मेलन से पहले सैन फ्रांसिस्को में हजारों लोग सड़कों पर उतरे, उठाई ये बड़ी मांग

Shweta Singh | Publish: Sep, 09 2018 12:13:01 PM (IST) अमरीका

इन लोगों की जलवायु परिवर्तन के खिलाफ चल रही लड़ाई में 'असली नेतृत्व' की मांग है ।

सैन फ्रांसिस्को। संयुक्त राष्ट्र अमरीका में पर्यावरण सरंक्षण को लेकर एक बड़ा बवाल सामने आया है। वहां के सैन फ्रांसिस्को में होने वाले 'ग्लोबल क्लाइमेट एक्शन समिट' से ठीक चार दिन पहले हजारों लोग सड़कों पर उतरे हैं। इन लोगों की जलवायु परिवर्तन के खिलाफ चल रही लड़ाई में 'असली नेतृत्व' की मांग है ।

दुनियाभर के दर्जनों शहर के लोगों ने एक-साथ मिलकर किया विरोध

मीडिया रिपोर्ट में कहा जा रहा है कि शनिवार को निकाला गया मार्च 'राइज फॉर क्लाइमेट, जॉब्स एंड जस्टिस' एक वैश्विक अभियान का हिस्सा था। इसके तहत दुनियाभर के दर्जनों शहर के लोगों इन मुद्दों को लेकर एक साथ सामने आए और प्रदर्शन में शामिल हुए। प्रदर्शनकारियों ने पेरिस समझौते पर अड़चन को लेकर संयुक्त राष्ट्र जलवायु वार्ता करने की भी मांग की।

अभियान की प्रबंधक एनालिसा फ्रीटास का बयान

मार्च को आयोजित करने वाले समूहों में से एक अभियान की प्रबंधक एनालिसा फ्रीटास ने इस बारे में मीडिया से बातचीत की। उन्होंने कहा, 'हमें जलवायु परिवर्तन के खिलाफ लड़ाई में वास्तविक नेतृत्व की जरूरत है और वाशिंगटन में वर्तमान प्रशासन असफल रहा है। इसलिए, हम सड़कों पर उतरने की जरूरत पड़ी है।' फ्रीटास ने आगे कहा कि पर्यावरण समूह, यूनियन, महिला संगठन, लैटिनो संगठन हर कोई मार्च कर रहा है क्योंकि जलवायु परिवर्तन निश्चित रूप से हर किसी के लिए एक बड़े खतरे के रूप में उभर रहा है।

ये भी पढ़ें:- इराक: हिंसा में तब्दील हुआ प्रदर्शन, रॉकेट हमले के बाद मरने वालों की संख्या 12 पहुंची

समिट में दुनियाभर के दिग्गज अंतर्राष्ट्रीय प्रतिबद्धताओं पर चर्चा करने को होंगे शामिल

आपको बता दें कि 'ग्लोबल क्लाइमेट एक्शन समिट' 12-14 सितंबर को होना तय है। इस समिट में दुनिया भर के राजनीतिक, सामाजिक और व्यावसायिक लीडर जलवायु परिवर्तन से मुकाबला करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय प्रतिबद्धताओं पर चर्चा करेंगे।

ये भी पढ़ें:- बिम्सटेक के पहले सैन्य अभ्यास में शामिल नहीं होगा नेपाल, राजनैतिक असहमति के चलते किया फैसला

ये भी पढ़ें:- सरकार बनने के महीने भीतर ही पाक में राजनीतिक उथल-पुथल, दूसरे अर्थशास्त्री का इस्तीफा

Ad Block is Banned