बांग्लादेश की सेना गणतंत्र दिवस परेड में लेगी हिस्सा, 122 सैनिकों का दल पहुंचा भारत

HIGHLIGHTS

  • बांग्लादेश मुक्ति संग्राम के 50 साल पूरे होने के इस विशेष मौके पर बांग्लादेश ट्राइ-सर्विस मार्चिंग कंटेस्टेंट और सेरेमोनियल बैंड राजपथ पर गणतंत्र दिवस परेड ( Republic Day Parade ) में हिस्सा लेंगी।
  • इस परेड में शामिल होने के लिए बांग्लादेशी सेना के 122 जवानों का दल विशेष विमान IAF C-17 से दिल्ली पहुंच चुकी है।

By: Anil Kumar

Updated: 13 Jan 2021, 08:56 PM IST

ढाका। कोरोना संकट के बीच गणतंत्र दिवस समारोह की तैयारियां जोर-शोर से की जा रही है। हालांकि इस बार राजपथ पर आयोजित होने वाले इस समारोह में मुख्य अतिथि के तौर पर कोई भी विदेशी मेहमान शामिल नहीं होगा। चूंकि ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने ब्रिटेन में कोरोना के नए स्ट्रेन के कारण संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए भारत दौरा रद्द कर दिया।

लेकिन इन सबके बीच एक अच्छी खबर ये है कि गणतंत्र दिवस के समारोह में इस बार पड़ोसी देश बांग्लादेश की सेना ( Bangladesh Armed Forces ) दिखाई देगी। दरअसल, बांग्लादेश मुक्ति संग्राम के 50 साल पूरे होने के इस विशेष मौके पर बांग्लादेश ट्राइ-सर्विस मार्चिंग कंटेस्टेंट और सेरेमोनियल बैंड राजपथ पर गणतंत्र दिवस परेड ( Republic Day Parade 2021 ) में हिस्सा लेंगी। इस परेड में शामिल होने के लिए बांग्लादेशी सेना के 122 जवानों का दल विशेष विमान IAF C-17 से दिल्ली पहुंच चुकी है। कोरोना प्रोटोकॉल के कारण बांग्लादेशी सेना 19 जनवरी तक क्वारंटीन रहेगी और फिर उसके बाद राजपथ पर होने वाली परेड रिहर्सल में शामिल होगी।

गणतंत्र दिवस की परेड में पहली बार दिखाई जाएगी 'राम मंदिर' की झांकी, दुनिया देखेगी अयोध्या की भव्य रामलीला और दीपोत्सव का आयोजन

इस संबंध में बांग्लादेश में भारतीय उच्चायोग ने एक विज्ञप्ति जारी करते हुए बताया है कि बांग्लादेश की सैन्य टुकड़ियों में अधिकांश सैनिक बांग्लादेश सेना की सबसे प्रतिष्ठित यूनिट से आते हैं, जिनमें 1, 2, 3, 4, 8, 9, 10 और 11 पूर्वी बंगाल रेजिमेंट और 1, 2 और 3 फील्ड आर्टिलरी रेजिमेंट शामिल हैं, जिन्हें 1971 के लिबरेशन युद्ध में लड़ने और जीतने का विशिष्ट सम्मान प्राप्त है।

बता दें कि यह ऐसा तीसरा अवसर है जब किसी मित्र-देश की सैन्य टुकड़ी गणतंत्र दिवस परेड पर हिस्सा लेगी। इससे पहले 2016 में फ्रांस और 2017 में संयुक्त अरब अमीरात (UAE) की सेना परेड में शामिल हुई थी। भारत इस साल पाकिस्तान पर 1971 के युद्ध में मिली विजय का स्वर्णिम-वर्ष मना रहा है। इसी युद्ध के बाद पाकिस्तान से अलग होकर बांग्लादेश बना था।

बांग्लादेश मुक्ति संग्राम के 50 साल पूरे

आपको बता दें कि बांग्लादेश मुक्ति संग्राम के 50 साल पूरे होने के इस विशेष मौके पर भारत स्वर्णिम-वर्ष मना रहा है। भारत ने पाकिस्तान से बांग्लादेश को आजादी दिलाने में बड़ी भूमिका निभाई थी।

बांग्लादेश मुक्ति संग्राम 1971 में 25 मार्च से 16 दिसंबर तक चला था और 16 दिसंबर को बांग्लादेश ने पकिस्तान से आजादी हासिल की थी। इस युद्ध में भारत ने 93 हजार पाकिस्तानी सैनिकों को घुटने टेकने के लिए मजबूर कर दिया था।

ब्रिटिश पीएम की यात्रा रद्द होने पर शशि थरूर बोले - क्यों न गणतंत्र दिवस परेड को रद्द कर दिया जाए

दिसंबर 1971 में आजादी के तुरंत बाद बांग्लादेश को एक अलग और स्वतंत्र राज्य के रूप में मान्यता देने वाला भारत पहला देश था। भारत ने बांग्लादेश के साथ राजनयिक संबंध स्थापित किए। अब इसी दोस्ती को आगे बढ़ाते हुए बांग्लादेशी सेना राजपथ पर परेड में शामिल होगी। बांग्लादेशी सेना के इस दल में थल सेना, नौसेना के नाविक और वायु सेना के सैनिक शामिल हैं।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned