श्रीलंका सीरियल ब्लास्ट: आत्मघाती हमलावरों का कोई आपराधिक रिकॉर्ड नहीं, अंतरराष्ट्रीय समर्थन की हो रही जांच

श्रीलंका सीरियल ब्लास्ट: आत्मघाती हमलावरों का कोई आपराधिक रिकॉर्ड नहीं, अंतरराष्ट्रीय समर्थन की हो रही जांच

Mohit Saxena | Publish: Apr, 23 2019 10:48:57 AM (IST) | Updated: Apr, 23 2019 10:52:36 AM (IST) एशिया

  • हमले में 290 लोगों की जानें गईं
  • इस मामले में अब तक 24 गिरफ्तारियां हो चुकी
  • 11 अप्रैल को भेजे गए थे राष्ट्रव्यापी अलर्ट

कोलंबो। श्रीलंका में रविवार को हुए सीरियल बम धमाकों को लेकर चौकाने वाले खुलासे हो रहे हैं। कोलंबो में आठ बम धमकों के तार स्थानीय इस्लामी आतंकी संगठन नेशनल तौहते जमात पर लगाए गए हैं। गौरतलब है कि इस हमले में 290 लोगों की जानें गई हैं। जांच में पाया गया है कि कोलंबो के शांगरी ला होटल में आत्मघाती हमलावरों में से एक का संपन्न व्यवसायी परिवार से संबंध है। उसका कोई आपराधिक रिकॉर्ड नहीं था। इस मामले में अब तक 24 गिरफ्तारियां हो चुकी हैं। मगर ज्यादातर आरोपियों का कोई पुराना अपराध सामने नहीं आया है।

ये भी पढ़ें: आतंकवाद से मिलकर लड़ेंगे ईरान और पाकिस्तान, बॉर्डर रिएक्शन फोर्स बनाने का फैसला

बाहरी समर्थन की भूमिका की भी जांच की जा रही

श्रीलंका के कैबिनेट मंत्री और प्रवक्ता रजिता सेनारत्ने ने सोमवार को कहा कि इस समूह के लिए बाहरी समर्थन की भूमिका की भी जांच की जा रही है। उनका कहना है कि वह यह नहीं देखती हैं कि इस देश में एक छोटा संगठन यह सब कर सकता है। वे उनके और उनके अन्य लिंक के लिए अंतरराष्ट्रीय समर्थन की जांच कर रहे हैं। अभी तक किसी भी समूह ने आधिकारिक तौर पर इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है। लेकिन पुलिस द्वारा 11 अप्रैल को भेजे गए एक राष्ट्रव्यापी अलर्ट ने निर्दिष्ट किया कि एनजेटी चर्चों और भारतीय उच्चायोग पर हमले करने की तैयारी कर रहा था।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned